लीवर पर सूजन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
लीवर पर सूजन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

ये जूस करेंगे लिवर के सभी रोगों का निवारण

                                                
.
    लीवर हमारे शरीर का बहुत ही महत्तवपूर्ण हिस्सा है और सहनशील भी । सहनशील इसलिये क्योकि इस पर सूजन आने के बाद भी ये लगभग सही तरह से अपना काम करता है और खुद को अपने आप से ठीक करने के प्रयास भी करता रहता है । किंतु लीवर की सूजन की समस्या हो जाने पर हमको इसे ठीक करने के प्रयास जरूर करने चाहिये । 
लीवर की सूजन मिटाने वाले जूस-

गाजर और ऑवले का जूस 

लीवर की सुजन के लिये गाजर और ऑवले का जूस बहुत ही लाभकारी होता है । यह जूस बनने का तरीका बहुत सरल है । इस जूस को बनाने के लिये लाल गाजरों का जूस 150 मिलीलीटर और ताजे ऑवले का जूस 20 मिलीलीटर लेकर मिलाना है और इस जूस में 2 ग्राम सेंधा नमक ( वो नमक जो हम व्रत में खाते हैं ) मिलाकर रोज एक बार नाश्ते में पीना है । इस जूस का सेवन करने से एक सप्ताह में लीवर की सूजन की समस्या में आराम आने लगता है और एक महीने लगभग में लीवर की सूजन लगभग ठीक ही हो जाती है । यह जूस सामान्य व्यक्तियों के लिए भी उपकारी सिद्ध होगा|


पालक और चकुंदर का जूस 


लीवर की सूजन की समस्या के लिये दूसरा जूस होता है पालक और चकुंदर का जूस बनाकर पीना । इस जूस को बनाने के लिये सबसे पहले पालक के ताजे पत्तों को धोकर और कूटकर 100 मिलीलीटर जूस निकालें और फिर चकुंदर का जूस 30 मिलीलीटर निकालें इन दोनों को मिलाकर इसमें चुटकी भर काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर पीने से यह लीवर की सूजन की समस्या की बहुत उत्तम दवा बन जाती है । इस जूस का सेवन लगातार रोज किया जा सकता है ।

इसके लिए ज़रूरी सामान यह उपाय भी बेहद लाभकारी सिद्ध हुआ है-
गाजर का रस – एक कप
पालक का रस – एक कप
काली मिर्च – 1 ग्राम.

गाजर का रस एक छोटा गिलास और पालक का रस एक चाय का प्याला भर परस्पर मिलाकर उसमें बहुत हल्का सा नमक व काली मिर्च डालकर पिए । इन दोनों रसों का सेवन इतनी ही मात्रा में दिन में दोनों समय सुबह और शाम करें ।
इस जूस का सेवन सप्ताह में 3 दिन करे। इसके बाद ये नीचे लिखा हुआ जूस पियें.
गाजर और खीरे का जूस एक एक कप लीजिये, अभी इन दोनों के मिले-जुले रस का प्रयोग सुबह शाम करें इसे भी दिन में दो बार लें इन रसों का सेवन सूर्यास्त से पहले करने से लीवर की सूजन में लाभ होता है। ये प्रयोग सप्ताह के 4 दिन करना है.
इस प्रकार से एक हफ्ता ये प्रयोग करने के बाद फिर से ३ दिन दोबारा पहला प्रयोग और 4 दिन दूसरा प्रयोग करें. ऐसा करने से एक महीने के अन्दर आपका लीवर बिलकुल हेल्थी होगा. और हाँ लीवर की कैसी भी समस्या हो इसमें निम्बू का बेहद अहम् रोल है. निम्बू का सेवन जितना ज्यादा हो सके इस रोग में ज़रूर करना चाहिए. इसके साथ में अगर आप कुछ कर सकते हैं तो वो है भूमि आंवला. भूमि आंवला का रस अक्सर बरसात में मिल जाता है, क्यूंकि भूमि आंवला एक खरपतवार है, जो अक्सर ही खेतों में उग जाती है. इस सीजन में इसके पंचांग अर्थात पुरे पौधे को जड़ समेत लेकर इसका जूस निकाल लीजिये, और ये जूस पीने से हेपेटाइटिस a,b,c और Jaundice सभी में बहुत लाभ होता है.  
 सेब का    सिरका
लीवर की सूजन को कम करने के लिए 1 चम्मच सेब के सिरका और 1 चम्मच शहद को 1 गिलास पानी में मिलाकर पीएं। इससे शरीर से विषैला पदार्थ बाहर निकलेंगे और सूजन कम होगी। 
 


विशिष्ट परामर्श-


यकृत,प्लीहा,आंतों के रोगों मे अचूक असर हर्बल औषधि "उदर रोग हर्बल " चिकित्सकीय  गुणों  के लिए प्रसिद्ध है|पेट के रोग,लीवर ,तिल्ली की बीमारियाँ ,पीलिया रोग,कब्ज  और गैस होना,सायटिका रोग ,मोटापा,भूख न लगना,मिचली होना ,जी घबराना ज्यादा शराब पीने से लीवर खराब होना इत्यादि रोगों मे प्रभावशाली  है|बड़े अस्पतालों के महंगे इलाज के बाद भी  निराश रोगी  इस औषधि से ठीक हुए हैं| औषधि के लिए वैध्य दामोदर से 9826795656 पर संपर्क करें|







आर्थराइटिस(संधिवात),गठियावात की तुरंत असर हर्बल औषधि