मोटापे की समस्या लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मोटापे की समस्या लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

फास्ट फूड हानिकारक है तंदुरुस्ती के लिए


      आज हर बड़े और छोटे शहरों के हर गली और नुक्कड़ में मेढ़क के छाते की तरह फास्ट फूड जॉइन्ट पनपता जा रहा है। बड़े-बूढ़े और जवान सभी वहाँ भीड़ लगाकर अपने भूख को शांत करने के लिए व्यस्त रहते हैं। यह आश्चर्य की बात है कि ऐसा क्या है जो इन जॉइन्ट को इतना लोकप्रिय बना रहा है। क्या वहाँ का खाना स्वादिष्ट और पुष्टिकारक होता है? फास्ट फूड वास्तविक रूप में है क्या? फास्ट फूड शब्द का मतलब वह खाना जो ज़ल्दी बनता भी है और तुरन्त परोसा भी जा सकता है। फास्ट फूड शब्द को 1951 में मरिअम वेबस्टर के शब्दकोश से पहचान मिली।

सही में फास्ट फूड है क्या?

जो खाना कम समय में तैयार हो सके उसको फास्ट फूड कहते हैं। रेस्तरां या स्टोर में जो खाना पकाया रहता है और सिर्फ गर्म करके परोसा जाता है वही इसका सही अर्थ है। ले जाने के लिए फास्ट फूड पैकेज में भी पाया जाता है।
यह खाना साधारणतः दुकान में पाए जाता हैं, जो स्टॉल/बूथ की तरह होते हैं, जहाँ आश्रय का स्थान या बैठने का स्थान नहीं होता है। उन्हें क्विक सर्विस रेस्तरां भी कहते हैं। फूड स्टफ का रेस्तरां चेन भी होता है जो केंद्र स्थल से फूड स्टफ विशेष विक्रय अधिकार दुकान तक भेजते हैं।

फास्ट फूड प्रतिष्ठित कैसे हुआ

पका हुआ खाना का विक्रय शहरी विकास से संबंधित है। समय आजकल के लिए सबसे महंगा ज़रूरत का समान बन गया है। लोगों के पास बैठकर संपूर्ण खाना खाने का समय नहीं है। विशेषकर काम करनेवालों के लिए जो दोपहर के खाने के वक्त कुछ जल्दी से चबाकर पेट भर लेना चाहते हैं, वे फास्ट फूड ज़्वाइंट में जाना पसंद करते हैं।
आजकल लोग अलग रहना ज़्यादा पसंद करते हैं, संगठित परिवार के जगह। एकल परिवार में दोनों पति-पत्नी काम करते हैं, उनके पास चूल्हे के पास जाकर खाना बनाने का समय कम होता है। ऐसे परिवार बाहर से खाना मँगाकर खाना पसंद करते हैं, जहाँ खर्चा थोड़ा होता है या घर में दे जाने के लिए कुछ नहीं लगता है।

फास्ट फूड आधुनिक युग का विकास नहीं है

मध्य युग से ही फास्ट फूड का पता चलता है, जहाँ वेन्डर द्वारा पका हुआ माँस, फ्लान, पाईस, पेस्ट्रीस, वेफर, वेफल्स, पैनकेक लंदन और पैरिस जैसे शहर में बेचे जाते थे। अविवाहित लोग जो अकेले रहते थे, वे ही ज़्यादातर ग्राहक होते थे, जिन्हें खुद खाना बनाना पड़ता था। वे क्वाटर में रहते थे और वे किचन की सुविधा उपभोग करने में असमर्थ थे उन्हें फास्ट फूड खाकर ही पेट भरना पड़ता था। यात्री और तीर्थयात्री को धार्मिक जगहों पर फास्ट फूड खाकर भूख को संतुष्ट करना पड़ता है। प्रथम विश्व युद्ध के बाद मोटरगाड़ी की सुविधा आम लोगों को मिली, इस तरह कुछ चलयमान रेस्तरां का भी आर्विभाव हुआ।

इस तरह के दुकान में कैसा खाना मिलता है 

ज़्यादातर आधुनिक वाणिज्यिक फास्ट-फूड से संसाधित होते हैं जो मानक उत्पादक के तरीके और पाकशैली में मानक सामग्री डालकर बड़ी मात्रा में पकाये जाते हैं। उनको कार्टन या प्लास्टिक में रैप करके दिया जाता है जिससे उत्पादक का खर्चा कम पड़ता है। मुख्यतः फास्ट फूड का मेनू संसाधित सामग्री से बनता है और केंद्र स्थल से अलग-अलग दुकान में जाता है, जहाँ गरम करके परोसा जाता है, या तो डीप फ्राई करके, माइक्रोवेव में या जल्दी एकत्र करके दिया जाता है। इस तरह उत्पादक को मार्केट में क्वालिटी और नाम बनाए रखने में सहायता होती है ।

फास्ट फूड खाने से हानि और लाभ

वे खाने की बजाय फास्ट फूट का सेवन ज्यादा पसंद करते हैं। आर्युवेद में फास्ट फूड को स्वास्थ्य के लिए जहर कहा गया है। आज इस लेख के जरिये हम आपको फास्ट फूड के सेवन से होने वाले नुकसान और इसके फायदे के बारे में विस्तार से बता रहे हैं।

दिल संबंधी रोग

शरीर में कोलेस्ट्राल की मात्रा बढ़ने के लिए फास्टफूड काफी हद तक जिम्मेदार होता है। कोलेस्ट्रॉल बढ़ने से दिल संबंधी बीमारियों का खतरा काफी बढ़ जाता है। वहीं दूसरी तरफ वजन बढ़ने से भी हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है।
 
मोटापे की समस्या

फास्ट फूड में कैलोरी और शुगर की मात्रा ज्यादा होती है। इसके ज्यादा सेवन से आपका वजन बढ़ने लगता है। पोषक तत्वों की कमी के कारण फास्ट शरीर को नुकसान पहुंचाता है। फास्ट फूड का संयमित सेवन आपकी सेहत को नुकसान नहीं पहुंचाता।

थकान

फास्ट फूड खाने वाले व्यक्तियों या बच्चों को थकान बहुत जल्दी होने लगती है। फास्ट फूड के सेवन से आपका पेट को एकदम भर जाता है लेकिन इसमें पोषक तत्वों की कमी के कारण पर्याप्त प्रोटीन, विटामिन आदि नहीं होने के कारण आपका शरीर में विटामिन की कमी हो जाती है। ऐसे में थोड़ा चलने पर ही आपको थकान होने लगती है।

तनाव

यदि आप भूख लगने पर फास्ट फूड के सेवन को तरजीह देते हैं तो यह आपके तनाव का कारण भी बन सकता है। जो लोग अपने जीवन में ज्यादा फास्ट फूड का सेवन करते हैं, उनके तनाव का स्तर उतना ही ज्यादा होता है।

डायबिटीज

फास्ट फूड के सेवन से टाइप 2 डायबिटीज होने का खतरा काफी ज्यादा रहता है। टाइप 2 डायबिटीज फास्ट फूड और जंक फूड के सेवन, बिगड़ी हुई लाइफस्टाइल, असमय खाने और शारीरिक रूप से कम एक्टिव रहने के कारण होती है।

कैंसर

हाल हीं में प्रकाशित एक शोध के मुताबिक शुगर और फैट से भरे फास्ट फूड का सेवन करने से पेट से संबंधित कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है। एक अन्य शोध के मुताबिक फास्ट फूड प्रोस्टेट कैंसर का भी कारण है।

फास्ट फूड की अच्छाई

मिलने में सुविधाजनक

फास्ट फूड हर गली-मोहल्ले में आसानी से मिलने वाला खाद्य पदार्थ है। अधिकतर रेस्टोरेंट तो फास्ट फूड की फ्री होम डिलीवरी भी करते हैं। हाइवे और रास्ते पर फास्ट फूड रेस्टोरेंट के ड्राइव-थ्रू काउंटर बने हुए हैं, इनसे आप बिना किसी देरी के फास्ट फूड लेकर खा सकते हैं। यदि आप एकदम पेट भरने के लिए कुछ खाना चाहते हैं तो ऐसे में फास्ट फूड एक बेहतर विकल्प है।

रुपये और समय की बचत

फास्ट फूड गली और चौराहों पर आराम से मिलने के कारण पौष्टिक खाने के मुकाबले काफी सस्ता भी होता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक घर में बने खाने के मुकाबले फास्ट फूड काफी सस्ता होता है। वहीं समय की बात करें तो फास्ट फूड अन्य भोजन के मुकाबले आसानी से मिल और बन जाता है तो इस कारण इसे खाने से समय की भी बचत हो जाती है।


किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 


आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार