मूत्र रोगों के उपचार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मूत्र रोगों के उपचार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मूत्र रोगों के घरेलू आयुर्वेदिक उपचार / Domestic Ayurvedic treatment of urinary diseases


मूत्र रोग के उपचार के लिए सबसे पहले लक्षण की ओर ध्यान देना चाहिए . उसी के आधार पर सही कारण का पता चल पायेगा . इसके बाद ही उपचार करना चाहिए . बच्चों में यह बहुत कम और बड़ों में अधिकाँश होता है . वृद्धावस्था में इसकी संभावना बढ़ जाती है . अगर शुरुआत में इसके लक्षणों पर ध्यान न दिया जाए तो सामान्य संक्रमण से लेकर पुरुष ग्रंथि तक में कैंसर की सम्भावना बन सकती है . महिलाओं में मूत्र रोग संक्रमण गर्भाशय तक पहुँच सकता है . इसके बहुत घातक परिणाम हो सकते हैं जीवन दूभर हो सकता है . इस लेख में हम लक्षणों से सुरुआत कर कारण और मूत्र रोग के घरेलु एवं आयुर्वेदिक उपचार पर बात करेंगे .
मूत्र रोग संक्रमण के सामान्य लक्षण
पेशाब का बूँद बूँद कर होना और खुलकर न होना .
कमर और उसके आस पास और आगे पीछे दर्द होना .
पेशाब के साथ,पहले या बाद में खून का आना , इससे पेशाब हलके लाल या काले रंग की हो जाती है .
अत्यधिक दुर्गन्ध युक्त पेशाब होना
थकान के साथ बुखार आना .
भूंख न लगना और कब्ज महसूस होना .
मूत्र त्यागते समय मूत्र मार्ग में पीड़ा और जलन होना .
बार बार प्यास लगना .
थोड़ी थोड़ी देर पर पेशाब लगना .
गर्भवती स्त्रियों में मूत्राशय दब जाने से प्रदाह हो जाना .

मूत्र रोग के विभिन्न कारण-

बच्चों में अधिकतर पेशाब के बार बार होने और खुलकर न होने की समस्या आती है . ऐसा मीठा (शक्कर ) ज्यादा खा लेने और पर्याप्त पानी न पीने से होता है . ऐसा बड़ों में भी संभव है .
युवावस्था में सही समय पर मूत्र त्याग न करना और रोके रखना मूत्राशय और मूत्र नली में संक्रमण का कारण बन सकता है . जैसे आप किसी जरुरी मीटिंग में हों तो पेशाब लगने पर रोक लेते हैं और मीटिंग के ख़तम होने का इन्तजार करते हैं .

गठिया ,घुटनों का दर्द,कमर दर्द ,सायटिका  के अचूक उपचार 

युवा लड़कियों और महिलाओं में घर से बहार होने पर शर्म और संकोचवश सही समय पर मूत्र त्याग न करना .
मुत्रेंद्रिय की साफ़ सफाई का ध्यान न रखना .
मधुमेह ( डायबिटीज ) रोगियों के मूत्र रोग बहुत जल्द हो जाते हैं .
सम्भोग के समय पेट पर अत्यधिक दबाव पड़ने से बैक्टीरिया मूत्राशय में आ सकते हैं , ऐसा महिलाओं में अधिकतर होता है .
आनुवांशिक क्षय रोग होना , चिंता एवं तनाव होना , हिस्टीरिया (महिलाओं में ) , शराब पीना , सर्दी लगना , लीवर की समस्याएँ भी इसका कारण हो सकती है .
प्राप्त लक्षणों के आधार पर इसका उपचार किया जा सकता है और कारणों को ध्यान में रखकर सावधानियां / परहेज भी ध्यान में रखने चाहिए . इसके घरेलु और आयुर्वेदिक उपचार आगे दिए गए हैं .

मूत्र रोगों के  उपचार-

एक लीटर पानी में ४० ग्राम प्याज के टुकड़े काट कर मिला लें . इसे तब तक उबालें तब तक मिश्रण तिहाई रह जाए . इसे छान लें और शहद मिलाकर दिन में ३ बार पिलायें . इससे पेशाब खुलकर और बिना रुकावट आने लगता है . अगर पेशाब आना रुक गया है तो फिर से आने लगता है .
*२०० मिली खीरे या ककड़ी के रस में एक बड़ा चम्मच नीम्बू का रस और एक चम्मच शहद मिला कर पीने से मूत्र रोग में आराम मिलता है . इसे हर ३ घंटे के बाद लें .
*गर्म दूध में गुड मिलाकर पीने से पेशाब खुलकर आने लगता है . इसे दिन में २ बार एक एक गिलास लें .
*अगर दर्द हो रहा हो तो हर १५ मिनट पर पानी या तरल पदार्थ दें .
*गुर्दे की खराबी की वजह से अगर पेशाब न बन रहा हो तो ६० ग्राम मूली का रस दे , इससे जलन और दर्द में भी रहत मिलती है .
*पानी खूब पिए जिससे शरीर में पानी की कमी न होने पाए . सामान्य रूप से दुर्गन्ध युक्त मूत्र , पीला मूत्र और जलन इससे काबू में रहते हैं . सर्दियों में ८ और गर्मियों में १६ गिलास पानी जरुर पियें .
*मूली के पत्तों का रस १०० मिली की मात्रा में दिन में ३ बार देने पर मूत्र रोग में बहुत लाभ होता है .
*पेशाब रुक रुक कर आ रहा हो तो शलगम और कच्ची मूली काट कर खाएं . रस भी पी सकते हैं .
*आधा गिलास गाजर के रस में आधा गिलास पानी मिलाकर दिन में दो बार पीने से पेशाब की जलन में राहत मिलती है .
*दिन में २ बार ५० ग्राम कच्चा नारियल खाने से मूत्र साफ़ होता है .
*आधा गिलास मट्ठा लें , उसमें आधा गिलास जौ का माड़ मिलाएं . इस मिश्रण में ५ मिली नीम्बू का रस मिलाकर पीने से मूत्र के रास्ते के सभी रोग नष्ट होते हैं .
*केले के तने का रस ४ चम्मच और २ चम्मच घी मिलाकर दिन में २ बार पीने से रुका हुआ पेशाब आने लगता है . यह मूत्र रुक जाने पर बेहतरीन उपाय है .
*नीबू के बीजों को पीसकर नाभि के ऊपर रखकर ठंडा पानी डालने से रुका हुआ पेशाब आने लगता है .
*नीम्बू अपनी अम्लीय और क्षारीय दोनों प्रकृति के कारण मूत्राशय में उपस्थित जीवाणुओं को ख़तम कर देता है . नीम्बू का रस पीने से रक्तयुक्त पेशाब में लाभ होता है .
*जीरा और चीनी सामान मात्रा में लेकर पीस लें . इसे २ चम्मच दिन में ३ बार लेने से रुका हुआ पेशाब आने लगता है .
*१२५ मिली पलक के रस में नारियल का पानी मिलाकर पीने से पेशाब की जलन में लाभ होता है .
ताज़ी भिन्डी को बारीक काटकर दो गुने पानी में उबाल लें . तिहाई रह जाने पर छान लें . यह काढ़ा दिन में दो बार पीने पर प्रदाह में होने वाले पेट दर्द में लाभकारी है .
*आधा गिलास चावल के माड़ में स्वादानुसार चीनी मिलकर दो बार पीने पर रुका पेशाब खुलकर आने लगता है 
*पेशाब के समय दर्द हो रहा है और रक्त भी आ रहा है तो सोंठ को पीस – छान कर दूध में मिसरी के साथ पिलाने पर लाभ होता है .
*सौंफ को पानी के साथ उबालकर ठंडा कर लें . इसे दिन में ३ बार थोडा थोडा पीने से मूत्र रोग में रहत मिलती है .
*छोटी इलायची को पीसकर दूध के साथ लेने से मूत्र जी जलन में लाभ के साथ मूत्र खुलकर आता है .

आँखों  का चश्मा  हटाने का अचूक  घरेलू उपाय

*पेशाब में खून आना , दर्द , बेचैनी और जलन में धनियाँ बहुत गुणकारी है . रात में खाली हांडी में आधा किलो उबलता पानी डालकर उसमें ३० ग्राम अधकचरा कुटा धनियाँ डाल दें . सुबह इसे मसलकर छान लें और इसमें ३० ग्राम बताशे डाल कर मिला दें . इसके पांच हिस्से करके दिन में पांच बार पिलायें .
*पेशाब बार बार होने पर ३ दाना मुनक्का, २ दाना पिस्ता और ५ दाना काली मिर्च कुचलकर सुबह शाम खाने से इस समस्या से छुटकारा मिलता है .
*सेब खाने से रात में बार बार पेशाब जाने से आराम मिलता है .
*मसूर की दाल खाने से बार बार पेशाब में आराम मिलता है .
*२५ ग्राम अजवाइन , ५० ग्राम काला तिल और १०० ग्राम गुड मिलाकर इसे 8 ग्राम की मात्रा में सुबह शाम लेने से पेशाब में जलन और बहुमूत्र जैसे रोग ठीक हो जाते हैं .
*बरगद के पेड़ के पत्तों का काढ़ा बनाकर पीने से पेशाब में जलन और रूकावट से छुटकारा मिलता है .
*सात दिनों तक पके केले का नाश्ता करें . इससे पेशाब खुलकर आएगा और मूत्र विकार दूर होंगे .
*सुबह शाम तिल के लड्डू खाने से बार बार पेशाब की समस्या से छुटकारा मिलता है .
*चमेली के पत्तों का रस पीने से मूत्र विकार दूर होता है .
*बिस्तर पर पेशाब करने की आदत पड़ने पर रोज छुहारा खाना चाहिए .
*सौंफ के रस में थोड़ी हींग डालकर पीने से पेशाब की रूकावट दूर होती है .
*आधा कप नाशपाती का रस रोजाना पीने से कुछ ही दिनों में सभी मूत्र रोग दूर हो जाते हैं .
*१०० ग्राम पीसी हल्दी, २५० ग्राम काले टिल और १०० ग्राम पुराने गुड को कूटकर और तवे पर सुखा भून लें . इसे रोजाना एक चम्मच सुबह के समय पानी के साथ लेने पर सभी मूत्र रोग दूर हो जाते हैं .
*फालसे खाने और उसका शरबत पीने से पेशाब की जलन दूर हो जाती है .
*अन्नानास का रस व शरबत पीने से पेशाब की जलन की समस्या से छुटकारा मिलता है .

*दालचीनी के सेवन से रुका हुआ पेशाब खुल जाता है और पेशाब में पस आना बंद हो जाता है . इसके लिए तीन बार आधा चम्मच दालचीनी पावडर पानी के साथ फांकना लाभकारी होता है .
*२ चम्मच दालचीनी पावडर और १ चम्मच शहद को हलके गर्म पानी में घोल लें . इसके सेवन से मूत्राशय के रोग नष्ट हो जाते हैं .

किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार