मूंग दाल के स्वास्थ्य लाभ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मूंग दाल के स्वास्थ्य लाभ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मूंग दाल के औषधीय गुण



मूंग की दाल स्वास्थ्य के लिहाज से बेहतरीन आहार है, जो न केवल आपकी स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करता है, बल्कि पोषण और सेहत से जुड़े अनगिनत फायदे भी देता है। दाल में प्रोटीन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। ये प्रोटीन न सिर्फ हमारे सेहत के लिए रामबाण है बल्कि ये कई अन्य बीमारियों से बचाता भी है। मूंग दाल की बात करें तो इसमें प्रोटीन के अलावा कार्बोहाइड्रेट, मिनिरल्स, विटामिन आदि भी पाए जाते है
 बढ़ती उम्र थम सी जाए
मूंग दाल का एक फायदा एंटी एजिंग है। मूंग बीन्स कारगर एंटी-एजिंग एजेंट की तरह काम करती है। इसमें कॉपर होता है, जो त्वचा के लिए लाभकारी है। यह चेहरे से झुर्रियां, फाइन लाइन्स और बढ़ती उम्र को प्रदर्शित करने वाले धब्बों को हटाने का काम करता है। ऐसी कोई महिला नहीं है, जिसे बढ़ती उम्र की चिंता न हो। ऐसे में मूंग दाल का नियमित इस्तेमाल करने से आप अपनी असल उम्र से 10 साल कम नजर आ सकते हैं। इसके लिए मूंग दाल को अपने नाश्ते का हिस्सा बनाएं।
मूंग बीन्स एंट्री एजिंग एजेंट का काम करता है। मूंग बीन्स में पाया जाने वाला कॉपर एंट्री एजिंग एजेंट की तरह काम करता है जो आपकी उम्र का पता नहीं चलने देता है। चेहरे की झुरिया, दाग-धब्बे, बढ़ती उम्र के साथ चहरे पर पड़ने वाले निशानों को छुपाने का काम करता है। मूंग के उपयोग से आप अपने उम्र से कम से कम 10 साल छोटी दिख सकती है।
वजन घटाने में कारगर
100 ग्राम मूंग दाल में 330 कैलोरी मौजूद होती है, जिस वजह से इसे वजन घटाने वाले पौष्टिक आहार में गिना जाता है। जो लोग अपने अतिरिक्त वजन से परेशान हैं, वो मूंग दाल को अपने आहार का हिस्सा बना सकते हैं।
फेस पैक की तरह करें उपयोग
मूंग बीन्स का इस्तेमाल हम खाने के अलावा भी कई दूसरे तरीकों से कर सकते हैं। इसमें पाया जाना वाला कॉपर आपके चेहरे पर ग्लो लाने का काम करता है। ये आपके चेहरे से ब्लैकहैड्स, अत्याधिक तेल को हटाता है। आप घर में मूंग बीन्स का उपयोग करके एक प्राकृतिक फेस पैक बना सकते है। इसे पैक को लगाने से चेहरे की गंदगी को आसानी से साफ किया जा सकता है
बालों में लाती है चमक
मूंग बीन्स में काफी कम मात्रा में कॉपर पाया जाता है। और ये कॉपर आपके हेयर स्केल्प के लिए काफी फायदेमंद है। कॉ़पर के मौजूदगी से शरीर में आयरन , कैल्शियम और मैग्नीशियम का उचित उपयोग सुनिश्चित होता है।
मसूड़ों को रखता है स्वस्थ
मसूड़ों और दांतों के स्वास्थ्य के लिए सोडियम एक आवश्यक तत्व है। मूंग में कैल्शियम के अलावा सोडियम भी पाया जाता है। मसूड़ों से खून निकलना, दर्द, कमजोरी व मसूड़ों से दुर्गंध जैसी परेशानियों से सोडियम लड़ने का काम करता है। इन समस्याओं से निजात पाने के लिए आप मूंग दाल का सेवन कर सकते हैं।
फायदे शुगर में
मूँग सेम अच्छी शर्करा के गठन में वृद्धि करता है और मानव शरीर के लिए बुरे शर्करा के गठन को हतोत्साहित करती हैं। अच्छी चीनी या फलों की चीनी आसानी से पचने योग्य है और रक्त में बढ़ती नहीं है यह एटीपी के लिए आसानी से टूट जाती है जिससे शरीर इसे उपयोग कर लेता है मूंग दाल का सेवन शरीर में शर्करा के चयापचय को विनियमित करने का एक बहुत ही प्रभावी तरीका है और इससे मधुमेह को भी रोका जा सकता है।
इम्यूनिटी को बनाए स्ट्रॉग
इसमें मौजूद आयरन मानव शरीर में प्रतिरक्षा शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है। जिसके कारण शरीर में मौजूद डब्लूबीसी एक्टिव हो जाता है। यह हमारे शरीर को संक्रमण से लड़ने के लिए प्राकृतिक ताकत देता है।
बढ़ाती है दिमागी क्षमता
जो लोग एकाग्रता और कमजोर स्मृति की समस्याओं से ग्रसित होते हैं, उन्हें निश्चित रूप से मूंग दाल का सेवन करना चाहिए। मूंग दाल में आयरन पाया जाता है, जो सभी अंगों और टिशू में ऑक्सीजन की आपूर्ति करने का काम करता है। मूंग दाल मस्तिष्क सहित शरीर के सभी हिस्सों में ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करता है। परिणामस्वरूप, इससे एकाग्रता में बढ़ोतरी होती है और याददाश्त तेज होती है। आप अंकुरित मूंग दाल को अपने दैनिक आहार का हिस्सा बना सकते हैं।
हड्ड़ियों को बनाती है मजबूत
मूंग बीन्स के इस्तेमाल से हड्डियां को मजबूती प्रदान की जा सकती है। इसमें कैल्शियम का प्रचुर मात्रा पाया जाता है। । यह हड्डी का स्वास्थ्य रखता है और आपको फ्रैक्चर से भी सुरक्षित रख सकता है।
बीपी को करती है नियंत्रित
मूंग के उपयोग से आप अपने वजन पर कंट्रोल रख सकती है। इसके अलावा मूंग में मौजूद मैग्नीशियम बीपी को बढ़ने से रोकता है। मूंग खून में मैग्नीशियम के लेवल को मैंटेन करने में मदद करता है।
दांतों की सुरक्षा के लिए
मूंग बींस में कैल्शियम के अलावा सोडियम भी पाया जाता है.। दांतों को मजबूत करने के लिए कैल्शियम की जरूरत होती है । हमारे मसूड़ों और दांतों के स्वास्थ्य के लिए सोडियम की आवश्यकता है । इस दोनों की मदद से दांतों का दर्द, दांतों की दुर्गध, मसूड़ों से खून आना आदि को रोका जा सकता है।
पचने में आसान
बुखार, पेट दर्द और दस्त में कुछ भी खाने का मन नहीं करता है। साथ ही खाना पचाने में भी मुश्किल आती है। ऐसे में मूंग बीन्स का इस्तेमाल करके बनाया गया खाना बहुत आसानी से पचाया जा सकता है.। मूंग बींस में फाइबर का मात्रा होने के कारण इसे पचाने में आसानी होती है.
मेटाबॉलिक नियामक
मेटाबॉलिज्म में गड़बड़ी के कारण लोग अपचन और अम्लता से ग्रस्त हो जाते हैं। मूंग दाल का सेवन मेटाबॉलिज्म में सुधार लाता है। मूंग में मौजूद फाइबर पाचन तंत्र को मजबूत बनाने का काम करता है। फाइबर मल को नरम बनाकर पाचन स्तर को बढ़ाने का काम करता है। अपचन और अम्लता से बचने के लिए आप मूंग दाल का सेवन कर सकते हैं।
कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण
इन दिनों हृदय रोग बहुत आम है। अनियंत्रित जीवनशैली इसके प्रमुख कारणों में से एक है। ऐसे में मूंग खाने के एक फायदा कोलेस्ट्रॉल नियंत्रण भी है। मूंग दाल मानव शरीर में पाचन और चयापचय स्तर में वृद्धि करता है, जिसके कारण धमनी दीवारों और कोशिकाओं में कोलेस्ट्रॉल का गठन और संचय कम हो जाता है।
एंटी कैंसर लाभ
मूंग की दाल ‘फ्री रेडिकल्स’ को नियंत्रित करने का काम करती है। ये ‘फ्री रेडिकल्स’ प्रदूषण, तनाव और शरीर में विषाक्तता के कारण उत्पन्न हो सकते हैं। ‘फ्री रेडिकल्स’ कोशिकाओं के सामान्य रूप से बढ़ने की प्रक्रिया में बाधा डालते हैं। असामान्य रूप से कोशिकाओं का बढ़ना कैंसर का कारण बन सकता है। कैंसर से बचने के लिए आप मूंग दाल का सेवन कर सकते हैं।