फूल गोभी के स्वास्थ्य लाभ व नुकसान लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
फूल गोभी के स्वास्थ्य लाभ व नुकसान लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

फूल गोभी के स्वास्थ्य लाभ व नुकसान

                                                       
                                 
हम सभी अपने आहार में फूल गोभी को पसंद करते हैं। लेकिन क्‍या आप फूलगोभी खाने के फायदे और नुकसान जानते हैं। फूल गोभी के फायदे हृदय रोग, मस्तिष्‍क विकारों और कैंसर आदि के खतरे को कम करते हैं। फूल गोभी का उपयोग आपकी आंखों के लिए भी फायदेमंद होता है। इसके अलावा फूल गोभी के औषधीय गुण शरीर में हार्मोन संतुलन को बनाए रखने में भी सहायक होते हैं
फूलगोभी आम तौर पर सबसे सुलभ उपलब्ध होने वाली सब्जी है, जिसका प्रयोग न केवल सब्जी बनाने बल्कि अलग-अलग स्वादिष्ट व्यंजन बनाने के लिए भी किया जाता है। यह सब्जी भले ही बेहद आम हो, लेकिन इससे मिलने वाले फायदे बहुत खास और अनमोल हैं।
स्‍वास्‍थ्‍य लाभ के लिए जाने जानी वाली फूल गोभी में पोषक तत्‍वों की उच्‍च मात्रा होती है। इसमें कैलोरी की मात्रा बहुत ही कम होती है लेकिन प्रोटीन उच्‍च होते हैं। आपके शरीर को जिन पोषक तत्‍वों और खनिज पदार्थों की आवश्‍यकता होती है लगभग वे सभी फूल गोभी में मौजूद रहते हैं।
* फूलगोभी में कैल्शियम, फास्फोरस, प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और लौह तत्व के अलावा विटामिन ए, बी, सी, आयोडीन, और पोटैशियम तथा थोड़ी सी मात्रा में तांबा भी मौजूद होता है। गोभी आपको इतने सारे पोषक तत्व एक साथ प्रदान करती है।
*आप अपनी अच्‍छी सेहत के लिए प्राकृतिक खाद्य पदार्थों का सेवन कर सकते हैं। वैसे भी फूलगोभी आहार के लिए बहुत ही लोकप्रिय है। लेकिन अपने स्‍वास्‍थ्‍य लाभों के कारण फूलगोभी का उपभोग बहुत ही जरूरी हो जाता है। पर्याप्‍त मात्रा में फूल गोभी का सेवन न केवल शरीर को स्‍वस्‍थ्‍य रखता है बल्कि कई गंभीर समस्‍याओं से भी बचाता है। इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लामेटरी गुण शरीर की सूजन को रोकने में सहायक होते हैं।


हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए फूल गोभी

पोषक तत्‍वों के भरपूर फूल गोभी के लाभ हृदय स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। अध्‍ययनो से पता चलता है कि फूल गोभी में फाइबर की उच्‍च मात्रा होती है जो हृदय के फायदेमंद होता है। इसके अलावा फूल गोभी में मौजूद सल्‍फोराफेन (Sulfurafen) रक्‍तचाप को नियंत्रित करने में सहायक होता है। इसके अलावा फूल गोभी में ओमेगा-3 फैटी एसिड होता है जो शरीर में कोलेस्‍ट्रॉल को कम करता है। कोलेस्‍ट्रॉल हृदय स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक होता है। क्‍योंकि रक्‍त वाहिकाओं में यह रक्‍त प्रवाह को रोकने का कारण बन सकता है। इस तरह से आप अपने हृदय को स्‍वस्‍थ्‍य रखने के लिए फूल गोभी का उपयोग कर सकते हैं।
बेनिफिट्स फॉर वेट लॉस
आपको यह जानकर हैरानी हो सकती है कि फूलगोभी के फायदे वजन कम कर सकते हैं। फूल गोभी में सल्‍फोराफेन, विटामिन सी और फोलेट की उच्‍च मात्रा होती है। अध्‍ययनों से पता चलता है कि विटामिन सी शारीरिक गतिविधियों के दौरान अतिरिक्‍त वसा को कम करने में मदद करता है। साथ ही फूल गोभी में कैलोरी कम होती है इसलिए फूल गोभी वजन घटाने में सहायक होता है। इसके अलावा फूलगोभी में मौजूद पोषक तत्‍व भूख बढ़ाने वाले हार्मोन को कम करते हैं जिससे आपको आपको बार-बार भूख नहीं लगती है। फूल गोभी में ओमेगा-3s भी होता है जो लेप्टिन के स्राव को उत्‍तेजित करता है। लेप्टिन एक हार्मोन है जो चयापचय को बढ़ाता है और शरीर के वजन को नियंत्रित करता है। यदि आप भी अपना वजन कम करना चाहते हैं अपने आहार में फूल गोभी को शामिल कर सकते हैं।
मस्तिष्‍क स्‍वास्‍थ्‍य के लिए
आप अपने मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने के लिए फूल गोभी का इस्‍तेमाल अपने खाने में कर सकते हैं। फूल गोभी में कोलीन (choline) नामक महत्‍वपूर्ण यौगिक होता है। यह एक प्रकार का विटामिन बी है जो मस्तिष्‍क स्‍वास्‍थ्‍य और विकास को बढ़ावा देता है। एक पशु अध्‍ययन से पता चलता है कि गर्भावस्‍था के दौरान कोलीन का सेवन पशुओं के दिमाग पर सुपर-चार्ज देता है। जिससे यह संज्ञानात्‍मक कार्य को बढ़ावा देता है। इस तरह से फूल गोभी का सेवन आपके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ा सकता है। साथ ही यह अल्‍जाइमर जैसी अन्‍य तंत्रिका संबंधी विकारों को भी दूर करने में सहायक होता है।
*खून साफ करने और चर्म रोगों से बचाने में गोभी बेहद फायदेमंद होती है। इसके लिए आप चाहें तो कच्ची गोभी या फिर इसका जूस बनाकर सेवन कर सकते हैं। यह दोनों ही तरीके कारगर होंगे। 
किडनी स्‍वास्‍थ्‍य के लिए
आपके शरीर के अहम हिस्‍से के रूप में किडनी को जाना जाता है। आप किडनी से संबंधित समस्‍याओं को दूर करने के लिए फूल गोभी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। फूल गोभी में मौजूद फाइटोकेमिकल्‍स शरीर से विषाक्‍त पदार्थों को दूर करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा फूल गोभी में पोटेशियम और विटामिन सी की अच्‍छी मात्रा होती है जो किड़नी की रक्षा करते हैं। इसके अलावा यह वजन को नियंत्रित करने में भी सहायक है। क्‍योंकि अधिक वजन होने से किड़नी पर जोर पड़ता है। लेकिन कुछ लोग गुर्दे की पथरी या गुर्दे की बीमारियों के दौरान फूल गोभी का सेवन न करने की सलाह देते हैं। इसलिए ऐसी स्थिति में अपने डॉक्‍टर की सलाह पर ही फूल गोभी का सेवन करें।
ऑक्‍सीडेटिव तनाव कम करे
विटामिन सी के अलावा फूल गोभी में बहुत से एंटीऑक्‍सीडेंट, मैंगनीज आदि भी होते हैं। ये घटक शरीर को आवश्‍यक पोषण दिलाने में सहायक होते हैं। इसके अलावा इसमें फाइटोकेमिकल्‍स भी होते हैं जो कैंसर को रोकने वाले एंजाइमों को उत्‍तेजित करते हैं। जो शरीर को ऑक्‍सीडेटिव तनाव और फ्री रेडिकल्‍स से होने वाले नुकसान से बचाते हैं। इस तरह से आप भी ऑक्‍सीडेटिव तनाव के लक्षणों को कम करने के लिए फूल गोभी के लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।
श्वसन समस्‍याओं के लिए
मानव स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं में श्वसन समस्‍याएं प्रमुख हैं जो कि गंभीर हो सकती हैं। श्वसन रोग पेपिलोमाटोसिस (papillomatosis) मानव पेपिलोमा वायरस (papilloma virus) के कारण होता है। यह वायरस स्‍वरयंत्र, स्‍वशनप्रणाली, फेफड़े और ब्रोन्‍ची में मुखर डोरियों को प्रभावित करता है। फूलगोभी के औषधीय गुण इन समस्‍याओं से निपटने में सहायक होते हैं। क्‍योंकि इसमें इंडोल-3-काबिनोल (indole-3-carbinol) होता है। इसलिए फूल गोभी और इसी तरह की अन्‍य सब्‍जीयों का सेवन श्वसन संबंधी समस्‍याओं से बचा सकता है।
*गले की समस्याएं, जैसे गले में दर्द, सूजन आदि होने पर गोभी के पत्तों को पीसकर उसका रस निकालें और इसका सेवन करें। गोभी का रस गले की समस्याओं में लाभकारी साबित होगा।
*लिवर में मौजूद एंजाइम्‍स को सक्रिय करने में गोभी का सेवन मददगार होता है। इसके सेवन से लिवर सही तरीके से काम करता है और शरीर से विषैले तत्वों को बाहर कर देता है। 
*गर्भावस्‍था के दौरान गोभी काफी फायदेमंद होती है। यह फोलेट, विटामिन ए और विटामिन बी से भी भरपूर होती है और कोशिकाओं के विकास के साथ ही इससे गर्भ में पल रहे भ्रूण को काफी लाभ होता है। गोभी विटामिन सी का भी उत्‍तम स्रोत है।


कैंसर के खतरे को करें कम

गोभी का सेवन करने से कैंसर जैसी घातक बीमारी का समाधान भी हो जाता है। इतना ही नहीं, इसका सेवन करने से स्तन कैंसर, ब्लैडर कैंसर और फेफड़ो का कैंसर भी ठीक हो जाता है।
हड्डी स्‍वास्‍थ्‍य के लिए
स्‍वस्‍थ्‍य शरीर का आधार स्‍वस्‍थ हड्डियां होती हैं। कैल्शियम और विटामिन K की कमी के कारण ऑस्टियोपोरोसिसऔर फ्रैक्‍चर आदि की संभावना बढ़ जाती है। लेकिन आप इन संभावनाओं को कम करने के लिए फूल गोभी का सेवन कर सकते हैं। फूल गोभी में विटामिन K की उच्‍च मात्रा होती है। यह हड्डियों के लिए कैल्शियम अवशोषण को बढ़ावा देता है। नियमित रूप से गोभी का सेवन समग्र हड्डी स्‍वास्‍थ्‍य के लिए अच्‍छा होता है और विटामिन K मूत्र द्वारा कैलिशयम के उत्‍सर्जन को भी रोकता है। जोड़ों का दर्द, गठिया और हड्डियों में दर्द की समस्या होने पर गोभी और गाजर का रस बराबर मात्रा में मिलाकर पीने से काफी लाभ होता है। लगातार तीन महीने इसका सेवन बेहद लाभप्रद है।
आंखों को स्‍वस्‍थ रखें
फूल गोभी में पाये जाने वाले सल्‍फोराफेन हमारी आंखों के लिए भी फायदेमंद होते हैं। यह रेटिना क्षेत्र के कमजोर ऊतकों को ऑक्‍सीडेटिव तनाव से बचाने में सहायक होते हैं। जिसके परिणामस्‍वरूप अंधापन, मोतियाबिंद, धब्‍बेदार अध: पतन और अन्‍य आंखों संबंधी समस्‍याएं हो सकती है। इस तरह से आप भी आपनी आंखों के स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने के लिए फूल गोभी का उपयोग कर सकते हैं।
*मसूड़ों में दर्द, सूजन या मसूड़ों से खून आने की समस्या होने पर गोभी के पत्तों के रस से कुल्ला करना फायदेमंद होगा। यह पैराथायरॉइड ग्रंथि के सही कार्या
कार्यान्वयन में भी मददगार होती है।


सूजन का इलाज

स्‍वास्‍थ्‍य लाभ से भरपूर फूल गोभी के फायदे शरीर की सूजन को कम करने में भी मदद करते हैं। क्‍योंकि फूल गोभी में शक्तिशाली एंटीऑक्‍सीडेंट बीटा-कैरोटीन क्वेरसेटिन (quercetin), सिंनामिक एसिड (cinnamic acid) और बीटा-क्रिप्टोक्सैन्थिन (beta-cryptoxanthin) आदि होते हैं। ये घटक शरीर में ऑक्‍सीडेटिव तनाव को कम करने और सूजन को दूर करने में सहायक होते हैं। इसके अलावा फूल गोभी में इंडोल-3-कार्बिनोल एक महत्‍वपूर्ण एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होता हैं। यह सूजन के लक्षणों को कम करने में सहायक होता है। इस तरह से आप अपने आहार में फूल गोभी को शामिल कर सूजन आदि से छुटकारा और राहत पा सकते हैं।
*कोलायटिस, पेट दर्द या पेट से संबंधित अन्य समस्याओं में गोभी कारगर है। चावल के पानी में इसके हरे भाग को पाकर इसका सेवन करने से पेट की समस्याओं से निजात मिलती है।
सावधानी-
जैसा कि आप सभी जाने हैं कि गोभी को हम विशेष आहार के रूप में उपयोग किया जाता है। इसके फायदे बहुत अधिक हैं, लेकिन कुछ लोगों के लिए इसके दुष्‍प्रभाव भी हो सकते हैं। फूल गोभी में जटिल कार्बोहाइड्रेट होते हैं जो पाचन तंत्र में पूरी तरह से टूट नहीं पाते हैं। इन कोर्बोहाइड्रेट को आंतों के बैक्‍टीरिया द्वारा खाया जाता है जिसके परिणामस्‍वरूप गंधयुक्‍त गैसे निकलती हैं।
फूल गोभी में प्‍यूरीन होता है जिसके कारण अधिक मात्रा में सेवन करने से शरीर में यूरिक एसिड का निर्माण हो सकता है। यह आगे चलकर किडनी स्‍टोन या गाउट जैसी समस्‍याएं पैदा कर सकता है।
फूल गोभी गंभीर एनाफिलेक्सिस को ट्रिगर कर सकती है जो किसी पदार्थ के लिए एलर्जी की प्रतिक्रिया है।
एंटीकोआगुलंट्स पर लोगों को डॉक्‍टर की सलाह पर ही फूल गोभी का सेवन करने की सलाह दी जाती है।


सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार