निम्न रक्तचाप के उपचार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
निम्न रक्तचाप के उपचार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

निम्न रक्त चाप के घरेलू उपचार // Home Remedies for Low Blood Pressure




                                                                    



निम्न रक्त चाप जिसे लो ब्लड प्रेशर कहते हैं , इसमें शरीर में रक्त परिवहन बहुत ही धीमा हो जाता है जिसके कारण सिर घूमना, चक्कर आना, कमजोरी, जी मिचलाना, धुंधला दिखाई देना और सांस लेने में दिक्कत जैसी बहुत सी परेशानियां होने लगती हैं। शरीर का सामान्य ब्लड प्रेशर 120/80 होता है लेकिन अगर बीपी का लेवल 90/60 आ रहा है तो ध्यान देने की जरूरत है। निम्न रक्त चाप का ब्रेन, किडनी और हार्ट पर बुरा असर पड़ता है। जिसके चलते ह्रदय रोग , गर्भावस्था , दिमाग से संबंधित बीमारियों के होने की भी संभावना रहती है।
निम्न रक्त चाप में उपयोगी घरेलू उपचार



नमक वाला पानी-

बीपी लो होने पर सबसे पहले घरेलू उपचार के तौर पर नमक मिला पानी पिएं क्योंकि नमक में मौजूद सोडियम ब्लड प्रेशर बढ़ाने का काम करता है। लेकिन ध्यान रहे बहुत ज्यादा मात्रा में भी इसका इस्तेमाल नहीं करना है। नमक की ज्यादा मात्रा शरीर के लिए उचित नहीं है|

अनार-

अनार का जूस भी निम्न रक्त चाप की समस्या को दूर करके का बेहतरीन इलाज है। सिर्फ एक हफ्ते के इस्तेमाल के बाद ही फर्क नजर आने लगता है। इसके अलावा सेब, केला, चीकू भी अच्छा विकल्प होता है।

कॉफी-

एक कप कॉफी, हॉट चाकलेट या कैफीन मिली हुई चीजों खाने या पीने से भी लो बीपी को तुरंत कंट्रोल किया जा सकता है। लो बीपी की प्रॉब्लम काफी वक्त से चल रही है तो सुबह उठते ही एक कप कॉफी पिएं या नाश्ते के साथ जरूर लें। लेकिन कॉफी पीने की आदत न डालें क्योंकि ज्यादा कैफीन भी बॉडी के लिए सही नहीं।
अदरक-
अदरक के टुकड़ों को नींबू और नमक मिलाकर किसी एयर टाइट डिब्बे में रखें। रोजाना खाने से पहले इसके टुकड़ों को अच्छे से चबाएं। बीपी की प्रॉब्लम दूर करने में ये फॉर्मूला भी बहुत ही कारगर है।
गाजर-
गाजर में मौजूद प्रोटीन ब्लड प्रेशर को नॉर्मल रखने में कारगर होता है। कच्चा खाने के साथ ही अगर शहद मिले इसके जूस को एक महीने तक दिन में एक बार पिया जाएं तो समस्या दूर हो जाएगी।
तुलसी के पत्ते-
तुलसी की पत्तियों में विटामिन सी, मैग्नीशियम, पोटैशियम और पैंटोथेनिक एसिड पाया जाता है। ये सारे मिनरल्स स्ट्रेस कम करने के साथ ही दिमाग को शांत रखते हैं। तुलसी की 10-15 पत्तियों का रस निकाल लें उसमें लगभग 1 चम्मच शहद की मात्रा मिलाएं। रोजाना खाली पेट इसे पिएं। बहुत जल्द फायदा मिलेगा।
किशमिश-
किशमिश को काफी वक्त से हाइपोटेंशन के लिए इलाज के तौर पर इस्तेमाल किया जा रहा है। एक महीने तक लगातार इसके इस्तेमाल से लो बीपी की समस्या को काफी हद तक दूर किया जा सकता है। रात भर किशमिश को पानी में भिंगोकर रखें। सुबह खाली पेट इसे चबाकर खाएं और पानी को छानकर पी लें। बहुत ही कारगर नुस्खा है।
चुकंदर का रस-
चुकंदर का रस हाई ब्लड प्रेशर के साथ ही लो ब्लड प्रेशर होने पर भी इस्तेमाल किया जाता है। लो ब्लड प्रेशर की समस्या होने पर एक हफ्ते तक लगातार दिन में दो बार एक कप चुकंदर का जूस पिएं।
बादाम वाला दूध-
दिमागी शक्ति बढ़ाने के साथ ही बादाम मिला दूध ब्लड सर्कुलेशन का लेवल भी सही रखता है। बादाम को रातभर पानी में भिंगोकर रख दें। सुबह इसे छीलकर अच्छे से पीसकर इसका पेस्ट बना लें। पेस्ट को दूध में मिलाकर रोजाना सुबह पीना फायदेमंद होता है।
हींग-
चुटकी भर हींग के इस्तेमाल से भी लो ब्लड प्रेशर की समस्या को दूर किया जा सकता है। इससे ब्लड क्लोटिंग नहीं होती जिससे सर्कुलेशन सही तरीके से होता है।