देशी घी के लाभ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
देशी घी के लाभ लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गाय के घी के लाभ




आयुर्वेद में गाय के घी को अमृत समान बताया गया है। हमारे घरों में बहुत से ऐसे लोग हैं जो वीक्यूजेक्यूएन को नियक़्न्तृत रखने के प्रति सतर्कता बरतते हैं और घी को हाथ तक नहीं लगाते। पर अगर गाय के घी को नियमित रूप से अपने भोजन में शामिल किया जाए तो इससे वजन भी नियंत्रित रहता है और किसी भी प्रकार की बीमारी भी नहीं लगती। देशी घी का मतलब है गाय के दूध से बना शुद्ध घी, जो कि एक प्रकार की दवा भी माना जाता है। गाय के घी के लाभ उल्लेख करता हूँ -
बच्चे के जन्म के बाद वात बढ़ जाता है जो घी के सेवन से निकल जाता है। अगर ये नहीं निकला तो मोटापा बढ़ जाता है।

कब्ज मिटाये -
कब्ज को हटाने के लिए भी घी मददगार है।

*फफोलों पर देसी घी लगाने से आराम मिलता है। नाक में घी डालने से खुश्की दूर होती है और दिमाग तरोताजा रहता है। इस घी की छाती पर मालिश करने से बच्चों को जुकाम में लाभ होता है और कफ बाहर निकलता है।
*अगर ज्यादा कमजोरी लगे तो एक गिलास दूध में एक चम्मच गाय का घी और मिश्री मिलाकर पिएं। गाय के घी का नियमित प्रयोग करने से एसिडिटी व कब्ज की शिकायत कम हो जाती है। इस घी के प्रयोग से मांसपेशियां व हड्डियां मजबूत होती हैं।

*गाय के घी पर हुए शोध के अनुसार, इससे रक्त और आंतों में मौजूद कोलेस्ट्रॉल कम होता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि घी से बाइलरी लिपिड का स्राव बढ़ जाता है। देशी घी शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल के लेवल को सही रखता है और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करता है।
*गाय के घी का स्मोकिंग पॉइंट दूसरे फैट की तुलना में बहुत अधिक है। यही कारण है कि पकाते समय आसानी से नहीं जलता। घी में स्थिर सेचुरेटेड बॉण्ड्स बहुत अधिक होते हैं, जिससे फ्री रेडिकल्स निकलने की आशंका बहुत कम होती है। घी की छोटी फैटी एसिड की चेन को शरीर बहुत जल्दी पचा लेता है। जिससे आपकी पाचन शक्ति बढ़िया रहती है।

*अब तक तो यही समझा जाता था कि देशी घी ही रोगों की सबसे बड़ी जड़ है? लेकिन यह सच नहीं है क्योंकि गाय का घी दिल समेत कई बीमारियों को दूर करने में सहायक होता है। दिल की नलियों में ब्लॉकेज होने पर गाय का घी एक ल्यूब्रिकेंट की तरह काम करता है। जिस व्यक्ति को हार्ट अटैक की तकलीफ है और चिकनाई खाने की मनाही है, वह गाय का घी खाएं, इससे दिल मजबूत होता है।
*गाय के घी में बहुत अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है, जो फ्री रेडिकल्स से लड़ता है और चेहरे की चमक बरकरार रखता है। साथ ही यह त्‍वचा को मुलायम और नमी प्रदान करता है और त्‍वचा को नॉरिश करने के साथ-साथ ड्रायनेस को भी कम करता है और त्वचा की कांति बढ़ाता है। आप देशी घी से रोज चेहरे की मसाज कर सकते हैं।
*देशी घी शरीर में जमा फैट को गला कर विटामिन में बदलने का काम करता है। इसमें चेन फैट एसिड कम मात्रा में होता है, जिससे आपका खाना जल्दी डाइजेस्ट होता है और मेटाबॉल्जिम सही रहता है। इसके अलावा खाने में देशी घी मिलाकर खाने से खाना जल्दी डाइजेस्ट होता है। यह मेटाबॉल्जिम प्रक्रिया को बढ़ाता है।
*देशी घी में विटामिन के2 पाया जाता है, जो ब्लड सेल में जमा कैल्शियम को हटाने का काम करता है। इससे ब्लड सर्कुलेशन सही रहता है। देसी घी इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में मदद करता है, जिससे इन्फेक्शन से और बीमारियों से लडऩे की ताकत मिलती है।
*अगर आपकी आंखों के नीचे काले घेरे हो गए तो हर रात सोने से पहले घी की कुछ बूंदों को प्रभावित जगह पर हल्के हाथ से लगाएं. घी को अच्छी तरह लगाकर सो जाइए. सुबह उठकर ठंडे पानी से मुंह साफ कर लें.
* अगर आपके पास मेक अप-रिमूवर नहीं है तो आप घी से भी मेकअप साफ कर सकती हैं. खासतौर पर आंखों के मेकअप के लिए आप घी का इस्तेमाल कर सकती हैं.
*अगर आपके बाल बहुत रूखे हो गए हैं तो भी आप घी का इस्तेमाल कर सकती हैं. ये त्वचा को मॉइश्चर करने के साथ ही बालों में भी कुदरती नमी बनाए रखता है.
* दो मुंहे बालों के लिए भी घी काफी फायदेमंद है. बाल के अंतिम छोर पर अच्छी तरह से घी लगा लें. इसे एक से दो घंटे तक लगा रहने दें और बाद में धो दें.
* घी को चेहरे पर लगाने से फेशियल सा ग्लो आता है. हर रोज नहाने से पहले दो बूंद घी को अपने चेहरे पर अच्छी तरह से मल लें. कुछ दिन में ही आपको असर नजर आने लगेगा.
*अगर लिप बाम लगाने के बावजूद आपके होंठ फटे ही हैं तो एक बार इस्तेमाल करके देखें घी का. सोने से पहले हर रात अपने होठों पर घी की एक से दो बूंद को अच्छी तरह से लगा लें. ऐसा करने से आपके होंठ फटेंगे नहीं और उनका मॉइश्चर भी बना रहेगा.