जमालगोटा के औषधीय उपयोग लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जमालगोटा के औषधीय उपयोग लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

जमालगोटा के औषधीय उपयोग


परिचय – जमालगोटा एक आयुर्वेदिक हर्बल औषधि है जिसका इस्तेमाल कब्ज , गंजेपन , जलोदर आदि में किया जाता है | मुख्य रूप से यह एक तीव्र विरेचक औषधि है , जो पुराने कब्ज को तोड़ने का काम करती है | इसका पौधा हमेशा हरा – भरा रहता है | भारत में इसके क्षुप (पेड़) बंगाल , आसाम , पंजाब एवं दक्षिणी भारत में आसानी से मिल जाते है | जमालघोटा को हमारे यहाँ जयपाल के नाम से भी जानते है |

जमालघोटा के गुण-धर्म एवं रोग प्रभाव

यह कटु रस का होता है | गुणों में स्निग्ध, तीक्ष्ण एवं गुरु होता है | इसका वीर्य उष्ण एवं पचने के बाद विपाक कटु होता है | यह तीव्र विरेचक गुणों से युक्त होता है | इन्ही गुणों के कारण इसका इस्तेमाल जलोदर, शोथ , आमवात , कब्ज एवं उदर कृमि आदि रोगों में किया जाता है | आयुर्वेद में जमालघोटा के इस्तेमाल से नाराच रस , जलोदरारिरस , इछाभेदी रस एवं बिंदुघृत आदि विशिष्ट योग उपलब्ध है |
विभिन्न रोगों में जमालघोटा / jamalgota के फायदे और उपयोग की विधि 
गंजापन – अगर आपके बाल झड रहे हो तो जमालगोटा का पेस्ट बना कर गंजेपन से प्रभावित जगह पर लेप करे | जल्द ही बाल झड़ने बंद हो जायेंगे और नए बाल भी आने शुरू हो जायेंगे | निम्बू के रस में जमाल घोटे को पीसकर लेप करने से भी फायदा मिलता है |

जीर्ण विबंद –
 जमालघोटा एक तीव्र विरेचक औषधि है | कितनी भी पुराणी कब्ज हो जमालघोटे के उपयोग से  कब्जआसानी से टूट जाएगी | जमालघोटे के एक बूंद तेल या इसके बीज के 30 से 40 मिलीग्राम चूर्ण का सेवन करने से दस्त शुरु हो जाते है | ध्यान दे यह एक तीव्र विरेचक औषधि है अगर इससे अधिक मात्रा में सेवन किया जाए तो यह स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती है | अगर दस्त न रुके तो कत्था और निम्बू को मिलाकर सेवन के लिए दे |
त्वचा विकार – त्वचा विकारो में इसके बीजो का लेप बना कर प्रभावित तवचा पर लगाने से लाभ मिलता है |
शीघ्रपतन – शीघ्रपतन या नपुंसकता की समस्या में जमालघोटे के तेल को लिंग पर लगा कर मालिश करने से लाभ मिलता है | यह तेल स्तम्भन शक्ति को बढ़ा देता है जिससे मर्दाना कमजोरी खत्म हो जाती है |
सिरदर्द – सिरदर्द में माथे पर इसके पेस्ट का लेप करने से लाभ मिलता है |
घाव – पुराने घाव पर जमालघोटा को पीसकर लगाने से घाव जल्दी भरता है |
आमवात – आमवात से पीड़ित व्यक्तियो को जमालघोटे के तेल से मालिश करनी चाहिए |जमालघोटे / jamalgota का इस्तेमाल करते समय बरते ये सावधानियां 
जमालघोटा एक तीव्र विरेचक द्रव्य है | इसके अधिक सेवन से तीव्र विरेचन और उल्टियाँ हो सकती है | अत: इसका प्रयोग हमेशा अपने निजी चिकित्सक की देख रेख में ही करना चाहिए | अगर इसके तेल की 10 बूंद एक साथ सेवन करली जाय तो यह जहरीला साबित होता है और इससे व्यक्ति की म्रत्यु तक हो सकती है | जमालगोटा के चूर्ण का सेवन भी एक उचित मात्रा में ही करना चा हिए | अधिक सेवन से पेट में जलन , अमाशय और आंतो पर विपरीत प्रभाव पड़ता है |
      बच्चों और गर्भवती महिलाओं को इसका इस्तेमाल बिलकुल नहीं करना चाहिए | क्योंकि छोटे बच्चे और           गर्भवती महिलाऐं इसके रोग प्रभाव को सहन नहीं कर सकते | ध्यान दे हमेशा शुद्ध जमालघोटे का ही इस्तेमाल करना चाहिए अर्थात इसे सुध्ह कर के ही प्रयोग में ले | जमालघोटे को शुद्ध करने के लिए इसमें दूध , दही या छाछ को मिलाकर इसे शुद्ध करना चाहिए | इसकी सेवन की मात्रा 30 मिलीग्राम से 60 मिलीग्राम तक अधिकतम हो सकती है | इस मात्रा से अधिक कभी भी सेवन न करे |