चक्कर आना (Vertigo) के कारण लक्षण व उपचार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
चक्कर आना (Vertigo) के कारण लक्षण व उपचार लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

चक्कर आना (Vertigo) के कारण लक्षण व उपचार



आपने कभी न कभी महसूस किया ही होगा कि अचानक से आपकी आंखों के आगे अंधेरा-सा छा गया हो, फिर चाहे आप बैठे हों या खड़े हों। साथ ही कभी न कभी आपको ऐसा भी लगा होगा कि अचानक आपका सिर घूमने लगा है। अगर हां, तो यह चक्कर आने के लक्षण हैं। अगर आपको भी बार बार चक्कर आना या सिर चकराने जैसी समस्या हुई है, तो स्टाइलक्रेज का यह लेख खास आपके लिए है। इस लेख में हम आपको बताएंगे कि चक्कर किन कारणों से आते हैं, इसके लक्षण क्या हैं और इनसे राहत पाने के लिए क्या किया जा सकता है।क्‍या आपके साथ भी कभी ऐसा होता है, कि अचानक से आसपास रखी सारी चीजें मानों घूमने लगती हों या आपकी आंखों के सामने एक तेज रौशनी के बाद अंधेरा सा होने लगता हो। आपके आसपास की आवजे आपको सुनाई देना बंद होने लगता हो और आप जमीन पर गिर पड़ते हों। जी हां ऐसा ही कुछ होता है अचानक जब आपको चक्‍कर आ जाता है। अचानक चक्‍कर आने के कई कारण हो सकते हैं जैसे कि ज्‍यादा समय भूखे पेट रहना, कमजोरी या अन्‍य कोई वजह जिसकी वजह से आप अचानक बेहोश गिर पड़ते हैं। वैसे कई बार तो चक्‍कर ज्‍यादा देर बैठे रहने के बाद अचानक उठने पर भी आते हैं, जिसमें आपको लगता है मानो पूरी धरती गोल-गोल घूम रही हो। यह सब मस्तिष्‍क में रक्‍त की पूर्ति की कमी होने के कारण या रक्‍तचाप कम होने के कारण होता है। लेकिन अचानक व बार-बार चक्‍कर आने की स्थिति को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। इस स्थिति में आप अपने घर पर रखी कुछ चीजों का इस्‍तेमाल उपचार के तौर पर कर सकते हैं।वर्टिगो सबसे आम बीमारियों में से एक है। वर्टिगो का अर्थ है चक्कर आने की भावना। इस बीमारी में आपको अपने आस पास की चीजे घूमती हुई लगती हें। इस बीमारी में व्यक्ति को उल्टी और मितली हो सकती हैं। वर्टिगो के कुछ गंभीर मामलों में व्यक्ति बेहोश भी हो सकता है, लेकिन ऐसा हर बार नहीं होता है। वर्टिगो में अक्सर चक्कर आने के कारण मालूम नहीं हो पाते हें। वर्टिगो, प्रकाशस्तंभ के समान नहीं है। वैसे तो यह बीमारी अपने आप ही ठीक हो जाती ही । वर्टिगो का उपचार कारण पर निर्भर करता है। लोकप्रिय उपचारों में कुछ शारीरिक आभ्यास शामिल हैं और यदि आवश्यक हो, तो विशेष दवाएं जिन्हें वेस्टिबुलर ब्लॉकिंग एजेंट (vestibular blocking agents) कहा जाता है दी जातीं हैं।
वर्टिगो का अर्थ है चलते-चलते या अचानक खड़े होने पर चक्कर आना। इसमें व्यक्ति को शारीरिक संतुलन बनाए रखने में समस्या होती है। यह कई स्थितियों का लक्षण है। यह तब हो सकता है जब आंतरिक कान, मस्तिष्क या संवेदी तंत्रिका मार्ग के साथ कोई समस्या उत्पन्न हो रही हो। हम आपको बता दें कि ऊंचाई के डर (fear of heights) को वर्टिगो नहीं कहते। इसे एक्रोफोबिया (Acrophobia) कहा जाता है और वह वर्टिगो से बहुत अलग होता है।
यह अक्सर अधिक ऊंचाई से नीचे देखने के साथ जुड़ा हुआ है लेकिन ऊंचाई से नीचे देखने पर चक्कर आना किसी भी अस्थायी आंतरिक कान या मस्तिष्क में समस्याओं के कारण हो सकता है।
इस बीमारी के कारणों में मिनियर रोग (Meniere’s disease) आंतरिक कान का बिकार (बेनाइन पैरॉक्सिज्मल पोजिशनल वर्टिगो) और तंत्रिका कि सूजन सहित और भी रोग हो सकते हें।
चक्कर आने का कारण –
चक्कर आने के कई कारण हो सकते हैं, नीचे हम इसके कुछ सामान्य कारण बता रहे हैं, जिस वजह से यह समस्या हो सकती है
माइग्रेन : यह ऐसा विकार है, जिसमें गंभीर सिरदर्द होता है। माइग्रेन होने पर सिरदर्द के पहले या सिरदर्द के बाद चक्कर आ सकते हैं।
चिंता या तनाव : चिंता या तनाव भी चक्कर आने का कारण बन सकता है। ऐसे में आपको असामान्य रूप से सांस लेने की समस्या हो सकती है।
लो ब्लड शुगर : सिर में चक्कर आना लो ब्लड प्रेशर के कारण भी हो सकता है। यह आमतौर पर डायबिटीज के मरीजों में देखने को मिलता है।
लो ब्लड प्रेशर : लो ब्लड प्रेशर यानी कम रक्तचाप के कारण चक्कर आना आम है। कम रक्तचाप होने से मस्तिष्क में पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाती, जिस कारण चक्कर आने लगते हैं।
अचानक से रक्त प्रवाह होना : जब आप काफी देर से बैठे हो और अचानक से उठो, तो रक्त प्रवाह में तेजी से बदलाव आता है, जिस कारण कभी-कभी चक्कर आ सकते हैं।
डिहाइड्रेशन, गर्मी या थकान : तेज गर्मी में, शरीर में पानी की कमी होने पर या फिर थकान होने पर भी चक्कर आ सकते हैं।
वर्टिगो के लक्षण
वर्टिगो वाले व्यक्ति को यह महसूस होगा कि उनका सिर, या उनके आसपास का वातावरण घूम रहा है या चल रहा है।
वर्टिगो की अन्य स्थितियों का यह एक लक्षण हो सकता है, और इससे संबंधित कई लक्षण एक साथ भी हो सकते है। जिनसे आप वर्टिगो का पता लगा सकते हैं, इसमें शामिल है:
संतुलन बनाने में समस्या
मोशन सिकनेस की भावना
मतली और उल्टी
ठीक से सुनाई न देना
टिनिटस (किसी एक कान में सीटी जैसी आवाज आना)
कान में किसी चीज के होने की भावना
आंखों को नियंत्रित करने में समस्या
सिरदर्द
जी मिचलाना
वर्टिगो बेहोशी की सामान्य भावना नहीं है। यह एक घूर्णी चक्कर जैसा होता है।
कारण के आधार पर, वर्टिगो विभिन्न प्रकार के होते हैं। वर्टिगो के दो मुख्य प्रकार निम्न हैं।
पेरिफेरल वर्टिगो आमतौर पर तब होता है जब आंतरिक कान के संतुलन अंगों में गड़बड़ी होती है। आंतरिक कान या वेस्टिबुलर तंत्रिका (कान का आंतरिक हिस्सा, जो शरीर के संतुलन को नियंत्रित करता है) में एक समस्या के कारण पेरिफेरल वर्टिगो होता है। वेस्टिबुलर तंत्रिका आंतरिक कान को मस्तिष्क से जोड़ती है। ऐसे में, व्यक्ति को अपना संतुलन बनाये रखने में परेशानी होती है।
सेंट्रल वर्टिगो तब होता है जब मस्तिष्क में कोई समस्या होती है, विशेष रूप से सेरिबैलम या मध्य मस्तिष्क में सेरिबैलम हिंदब्रेन (मस्तिस्क का पिछला हिस्सा) है जो मूवमेंट और संतुलन के समन्वय को नियंत्रित करता है। सेंट्रल वर्टिगो मस्तिष्क के एक या एक से अधिक हिस्सों में गड़बड़ी के परिणामस्वरूप होता है, जिसे संवेदी तंत्रिका मार्ग के रूप में जाना जाता है।
परिधीय वर्टिगो
लगभग 93 प्रतिशत वर्टिगो के मामले परिधीय वर्टिगो हैं, जो निम्न में से एक के कारण होता है:
सौम्य पैरॉक्सिस्मल पॉसिबल वर्टिगो आपके सिर की स्थिति में होने वाले परिवर्तनों के कारण होता है। कान के अन्दर के घुमे हुये भाग में तैरते कैल्शियम क्रिस्टल की वजह से यह बीमारी होती हैं।
मिनियर रोग (Meniere) एक आंतरिक कान का विकार है जो शरीर के संतुलन और हमारी सुनने कि क्षमता को प्रभावित करता है।
तीव्र परिधीय वेस्टिबुलोपैथी (एपीवी) आंतरिक कान की सूजन है, जो अचानक चक्कर की शुरुआत का कारण बनती हैं।
एक और प्रकार का वर्टिगो होता है, जिसे सेंट्रल वर्टिगो (central vertigo) कहा जाता है। यह दिमाग के निचले या पिछले हिस्से (सेरिबैलम) में समस्या होने पर होता है। इसके कारण पेरिफेरल वर्टिगो (Peripheral Vertigo) के कारण से कुछ अलग हो सकते हैं, जैसे
केंद्रीय वर्टिगो के कारण
आघात
दिमाग के मध्य भाग में एक ट्यूमर
माइग्रेन
मल्टीपल स्क्लेरोसिस
वर्टिगो को मोशन सिकनेस के समान लगता है, या जैसे कमरा घूम रहा है।
सिर से जुड़ी बीमारी के कारण वर्टिगो के निम्न लक्षण हो सकते हैं
जी मिचलाना
उल्टी
सरदर्द
चलते समय ठोकर खाना
वर्टिगो का निदान
वर्टिगो के प्रकार को निर्धारित करने के लिए टेस्ट
हेड-थ्रस्ट टेस्ट( Head-thrust test): आप परीक्षार्थी की नाक पर नज़र डालते हैं, और परीक्षार्थी एक त्वरित सिर की तरफ गति करता है और आँख की गति को देखता है।
रोमबर्ग परीक्षण (Romberg test): आप एक जगह पैरों के बल खड़े होते हैं और आँखें खुली होती हैं, फिर अपनी आँखें बंद करें और संतुलन बनाए रखने की कोशिश करें।
फुकुदा-ऊंटबर्गर परीक्षण (Fukuda-Unterberger tes)t: आप से अपनी आंखों को बंद कर के जगह-जगह मार्च करने के लिए कहा जाता है।
डिक्स-हिलपाइक परीक्षण: आप एक कुर्सी पर बेठ कर अपनी दाएं तथा बाए झुकते हें अब एक डॉक्टर आपके चक्कर के बारे में अधिक जानने के लिए आपकी आंख की चाल को देखेगा जिससे यह पता चलता हें आप को वर्टिगो कि समस्या हें कि नहीं।
वर्टिगो के लिए इमेजिंग परीक्षणों में शामिल हैं
सीटी स्कैन
एमआरआई
वर्टिगो का इलाज
वर्टिगो का उपचार कारण पर निर्भर करता है। कुछ प्रकार के वर्टिगो बिना उपचार के टीक हो जाते हैं, लेकिन किसी भी अंतर्निहित समस्या के कारण वर्टिगो होने पर चिकित्सा ध्यान देने की आवश्यकता हो सकती है, उदाहरण के लिए, एक जीवाणु संक्रमण जिसमें एंटीबायोटिक चिकित्सा की आवश्यकता होगी।
ड्रग्स कुछ लक्षणों को राहत दे सकता है, उदाहरण के लिए, मोशन सिकनेस और मतली को कम करने के लिए एंटीहिस्टामाइन या एंटी-इमीटिक्स (antihistamines or anti-emetics) दवाएं शामिल हो सकतीं हैं।
मध्य कान के संक्रमण से जुड़े एक तीव्र वेस्टिबुलर विकार वाले मरीजों को स्टेरॉयड, एंटीवायरल ड्रग्स या एंटीबायोटिक दवाइयां दी जा सकती हैं।
न्यस्टागमस एक अनियंत्रित आंख मूवमेंट है, आमतौर पर एक साइड से दसरी साइड की ओर। यह तब हो सकता है जब किसी व्यक्ति को मस्तिष्क या आंतरिक कान की शिथिलता के कारण चक्कर आता है।
कभी-कभी, अंतरंगनीय सौम्य पैरॉक्सिस्मल पोजीटिअल वर्टिगो (BPPV) के रोगियों के इलाज के लिए आंतरिक सर्जरी की जाती है। सर्जन उस क्षेत्र को अवरुद्ध करने के लिए आंतरिक कान में एक हड्डी प्लग (bone plug) लगाता है जहां से वर्टिगो (सिर का चक्कर) को उत्पन्न किया जाता है।
वेस्टिबुलर ब्लॉकिंग एजेंट (VBA) सबसे लोकप्रिय प्रकार की दवा है। वेस्टिबुलर ब्लॉकिंग एजेंटों में शामिल हैं:
एंटीहिस्टामाइन (प्रोमेथाज़िन, बिटाहिस्टिन)
बेंज़ोडायजेपाइन (डायजेपाम, लॉराज़ेपम)
एंटीमेटिक्स (प्रोक्लोरेरज़ीन, मेटोक्लोप्रमाइड)
वर्टिगो के जोखिम कारक
वर्टिगो के जोखिम को बढ़ाने वाले कारकों में शामिल हैं:
हृदय रोगों, विशेष रूप से पुराने वयस्कों में
हाल ही में कान के संक्रमण, जो भीतरी कान में असंतुलन का कारण बनता है
सिर का आघात
एंटीडिप्रेसेंट्स और एंटीसाइकोटिक्स जैसी दवाएं
सावधानियां
जो कोई भी वर्टिगो या अन्य प्रकार के चक्कर का अनुभव करता है, उसे ड्राइविंग या सीढ़ी का उपयोग नहीं करना चाहिए। गिरने से बचने के लिए घर में अनुकूलन करना एक अच्छा विचार हो सकता है। धीरे-धीरे उठने से समस्या दूर हो सकती है। लोगों को ऊपर की ओर देखते समय ध्यान रखना चाहिए और सिर की स्थिति में अचानक बदलाव नहीं करना चाहिए।
वर्टिगो के घरेलू उपचार
तुलसी और साइप्रस का तेल
वर्टिगो के लक्षण जैसे सिरदर्द से छुटकारा दिलाने में तुलसी मदद कर सकती है। तुलसी और साइप्रस के तेल कि दो –दो बुँदे ले मलें और माथे में रख दे क्योंकि तुलसी एक दर्द निवारक ओषधि हैं। इसलिए यह सिर दर्द से छुटकारा दिलाने में मदद करती है।
*पकने के बाद सूखी हुई लौकी को डण्ठल की तरफ से काट दें, ताकि अन्दर का खोखलापन दिखाई दे। अगर सूखा गूदा हो तो उसे निकाल दें। अब इसमें ऊपर तक पानी भर कर 12 घण्टे तक रखें फिर हिलाकर पानी निकाल कर साफ कपड़े छान लें। इस पानी को ऐसे बर्तन में भरें, जिसमें आप अपनी नाक डुबो सकें। नाक डुबोकर जोर से सांस खींचें, ताकि पानी नाक से अन्दर चढ़ जाए। पानी खींचने के बाद नाक नीची करके आराम करें। इस उपाय से चक्कर आने की समस्या सदा के लिए खत्म हो जाती है।
पेपरमिंट ऑयल
तीन से चार बूंद पेपर मेंट ऑयल ओर एक चम्मस बादाम का तेल ले अब दोनों को मिला ले और फिर इसे अपनी गर्दन तथा माथे पर लगाये इससे आपको सिर दर्द ठीक हो जायेगा।
अदरक
वर्टिगो के घरेलू उपचार में अदरक बहुत लाभदायक होता है। अदरक का एक टुकड़ा, शक्कर, आधा चम्मच चाय पत्ती और एक कप दूध इन सभी को एक वर्तन में लेकर गरम करे और छानकर पिए। इससे आपको उल्टी, जी मिचलाना आदि से राहत मिलेगी।
*चक्कर आने पर तुलसी के रस में चीनी मिलाकर सेवन करने से या तुलसी के पत्तों में शहद मिलाकर चाटने से चक्कर आना बंद हो जाता है।
*चक्कर आने पर धनिया पाउडर दस ग्राम तथा आंवले का पाउडर दस ग्राम लेकर एक गिलास पानी में भिगो कर रख दें। सुबह अच्छी तरह मिलाकर पी लें। इससे चक्कर आने बंद हो जाते है।
*सिर चकराने पर आधा गिलास पानी में दो लौंग डालकर उसे उबाल लें और फिर उस पानी को पी लें। इस पानी को पीने से लाभ मिलता है।
*10 ग्राम आंवला, 3 ग्राम काली मिर्च और 10 ग्राम बताशे को पीस लें। 15 दिनों तक रोजाना इसका सेवन करें चक्कर आना बंद हो जाएगा।
*जिन लोगों को चक्कर आते हैं उन्हें दोपहर के भोजन के 2 घंटे पहले और शाम के नाश्ते में फलों का जूस पीना चाहिए। रोजाना जूस पीने से चक्कर आने बंद हो जाएंगे। लेकिन ध्यान रखें कि जूस में किसी प्रकार का मीठा या मसाला नहीं डालें सादा जूस पियें। जूस की जगह चाहें तो ताजे फल भी खा सकते हैं।

शहद
चक्कर आने पर शहद काफी प्रभावी तरीके असर डालता है। आपको बता दें कि जब शरीर में ब्लड शुगर का स्तर कम होने लगता है, तो चक्कर आने लगते हैं। ऐसे में शहद का सेवन करना चाहिए, जिसमें प्राकृतिक शर्करा होती है। शहद आपको ऊर्जा प्रदान करती है। इससे ब्लड शुगर लेवल नियंत्रित रहता है
लोबान तेल
लोबान तेल कि कुछ बुँदे ले ओर अपने कंधे कि मसाज करें। इससे आपको सिर दर्द तथा अकडन से छुटकारा मिलेगा।
बादाम
बादाम पौष्टिक गुणों से भरपूर है। एक स्वस्थ शरीर के लिए नियमित रूप से बादाम का सेवन काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। बादाम में प्रचुर मात्रा में विटामिन-ई व विटामिन-बी होता है, जो आपको ऊर्जा प्रदान करता है। ऊर्जा से भरपूर बादाम चक्कर आने से राहत दिलाता है
पर्याप्त मात्रा में नींद लेना
नींद की कमी से वर्टिगो की भावनाओं को ट्रिगर किया जा सकता है। यदि आप पहली बार वर्टिगो का अनुभव कर रहे हैं, तो यह तनाव या नींद की कमी का परिणाम हो सकता है। यदि आप यह सोच रहे हैं कि आप क्या कर सकते हैं तो एक छोटी झपकी ले सकते हैं, इससे आपकी चक्कर की भावनाओं को कम किया जा सकता है।
*नारियल का पानी रोज पीने से भी चक्कर आने बंद हो जाते है।
*चाय व कॉफ़ी कम पीनी चाहिए। अधिक चाय व कॉफ़ी पीने से भी चक्कर आते हैं।
*20 ग्राम मुनक्का घी में सेंककर सेंधा नमक डालकर खाने से चक्कर आने बंद हो जाते है।
*खरबूजे के बीजों को पीसकर घी में भुन लें। अब इसकी थोड़ी थोड़ी मात्रा सुबह शाम लें, इससे चक्कर आने की समस्या में बहुत लाभ होता है।

आंवला
चक्कर आने पर आंवले का सेवन लंबे समय से किया जा रहा है। आंवले में विटामिन-ए और विटामिन-सी प्रचुर मात्रा में होता है। इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। इसके अलावा, इससे रक्त संचार भी दुरुस्त रहता है, जिससे चक्कर आने की समस्या से राहत मिलती है
क्या करें?
आप आंवले का पेस्ट बनाकर इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके लिए आप 10 ग्राम आंवला लें। उसमें तीन काली मिर्च और कुछ बताशे मिलाकर पीस लें। इस पेस्ट का आप 15 दिन तक रोजाना सेवन करें। इससे आपकी चक्कर आने की समस्या धीरे-धीरे कम होगी।
इसके अलावा, आप आंवले का मुरब्बा या आंवला कैंडी का सेवन भी नियमित रूप से कर सकते हैं।
नींबू
चक्कर आने पर नींबू का सेवन करना काफी प्रभावी होता है। इसमें विटामिन-सी होता है, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। इसके अलावा, नींबू शरीर को हाइड्रेट रखता है, जिससे चक्कर आने के दौरान राहत मिलती है
क्या करें?
चक्कर आने पर एक गिलास पानी में आधा नींबू निचोड़ लें।
इस पानी में एक चम्मच चीनी डालें और इस मिश्रण को पी लें।
सलाद में नींबू का सेवन करने से भी आपको आराम मिलेगा

पर्याप्त पानी पीना
कभी-कभी सिर का चक्कर निर्जलीकरण के कारण होता है। ऐसा होने पर सोडियम का सेवन कम करने से मदद मिल सकती है। लेकिन हाइड्रेटेड रहने का सबसे अच्छा तरीका है जिसमे कि आप बस भरपूर मात्रा में पानी पिएं। अपने पानी के सेवन पर नजर रखें और गर्म, नम स्थितियों और पसीने से तर स्थितियों के बारे में जानने की कोशिश करें जो आपको अतिरिक्त तरल पदार्थ खो सकते हैं। जब आप निर्जलित हो जाते हैं, तब अतिरिक्त पानी पीने की योजना बनाएं। बस इस बात से अवगत रहें कि आप कितना पानी पी रहे हैं, आप देखतें हैं कि यह वर्टिगो को कम करने में आपकी मदद करता है।
वर्टिगो उतना खतरनाक बीमारी नहीं है, लेकिन अगर यह होता रहता है तो यह एक अंतर्निहित स्थिति का लक्षण है। घर पर वर्टिगो का इलाज करना अल्पकालिक समाधान के रूप में काम कर सकता है। लेकिन अगर आपको लगातार चक्कर आना जारी है, तो इसका कारण पता लगाना महत्वपूर्ण है। आपका सामान्य चिकित्सक इसकी जाँच करने में सक्षम हो सकता है, या आपको आगे की जाँच के लिए एक कान, नाक और गले के विशेषज्ञ या न्यूरोलॉजिस्ट के लिए भेजा जा सकता है।
स्वस्थ आहार लें
अगर आपको चक्कर आने की समस्या है और चक्कर की दवा से बचना चाहते हैं, तो जरूरी है कि आप स्वस्थ खानपान लें। एक स्वस्थ खानपान आपको कई समस्याओं से दूर रखने में मदद करता है। खाना ऐसा खाएं, जो जरूरी पोषक तत्वों से भरपूर हो। अपने आहार में आयरन, विटामिन-ए, फाइबर व फोलेट से भरपूर खाद्य पदार्थ लें। नीचे हम बता रहे हैं कि चक्कर आने से बचने के लिए आपको अपने खानपान में क्या शामिल करना चाहिए :
विटामिन-सी : चक्कर से बचने के लिए विटामिन-सी लेना जरूरी है। इसके लिए आप संतरे, नींबू व अंगूर जैसी चीजों का सेवन करें।
आयरन : जैसा कि हमने बताया शरीर में खून की कमी होने से भी चक्कर आते हैं। ऐसे में आयरन की जरूरत होती है। आप आयरन युक्त चीजें जैसे पालक, सेब व खजूर आदि का सेवन करें।
फोलिक एसिड : फोलिक एसिड का सेवन करना भी जरूरी है। इसके लिए आप हरी सब्जियों जैसे – ब्रोकली, अनाज, मूंगफलियां व केले को अपने खानपान में शामिल करें।

किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार