ग्‍वार की फली के औषधीय गुण लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ग्‍वार की फली के औषधीय गुण लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

ग्‍वार की फली के औषधीय गुण


ग्‍वार की फली का नाम सुनते ही हम नाक सिकोड़ने लगते हैं लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि ये फलियां स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक गुणों से भरपूर होती हैं। इन फलियों में आपको हेल्‍दी बनाने के सारे गुण होते हैं। ग्वार फली में प्रोटीन, घुलनशील फाइबर, अनेक प्रकार के विटामिन, जैसे विटामिन के, सी और ए और भरपूर मात्रा में कार्बोहाइड्रेट पाये जाते हैं। इनके अलावा इसमें फॉस्फोरस, कैल्शियम, आयरन और पोटेशियम भी पाए जाते हैं। सबसे अच्‍छी बात तो यह है कि इसमें किसी तरह का कोलेस्ट्रॉल या वसा नहीं पाया जाता है। इसे जबरदस्त टॉनिक माना जा सकता है। 

ग्वार फली के फायदे के कारण ग्वार फली भारतीय घरों में सब्जी के रुप में इस्तेमाल की जाती है। ग्वार फली हरे रंग की बीन्स होती है जिनका उपयोग मुख्य रुप से गम बनाने के लिए किया जाता है। ग्वार फली औद्योगिक रुप से काफी महत्वपूर्ण तो होती ही है साथ ही यह ब्लड शुगर के लेवल को कम करने और कॉलेस्ट्रोल के स्तर को कम करने के लिए भी लाभकारी होती है। यहीं कारण है कि ग्वार फली का उपयोग एक महत्वपूर्ण खाद्य पदार्थ के रुप में किया जाता है।
ग्वार फली में बहुत कम कैलोरी होती है इसलिए यह वजन कम करने के लिए काफी उपयोगी होती है। प्रति 100 ग्राम ग्वार फली में मात्र 15 कैलोरी होती है लेकिन यह भरपूर ऊर्जा प्रदान करती है। इसी के साथ ग्वारफली में प्रोटीन, मिनरल्स, विटामिन्स और डायटरी फाइबर भी होते हैं। कम फैट और कैलोरी के साथ अत्यधिक प्रोटीन होने के कारण ग्वारफली का सेवन हृदय के स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होता है। 
ग्वारफली में मौजूद पोषक तत्व
ग्वार फली को कल्सटर बीन्स भी कहते हैं जिसमें निम्न मात्रा में पोषक तत्व मौजूद होते हैं।
आयरन- 75 प्रतिशत
विटामिन सी- 55.6 प्रतिशत
फास्फोरस- 35.71 प्रतिशत
कैल्शियम-10 प्रतिशत
प्रोटीन- 8 प्रतिशत
फाइबर- 10 प्रतिशत
पोटेशियम- 15 प्रतिशत
पोषक तत्व जैसे विटामिन A, विटामिन K, विटामिन C, फॉलेट, कार्बोहाइड्रेट, फॉस्फोरस, कैल्शियम, आयरन, पोटेशियम आदि पोषक तत्व ग्वार फली में पर्याप्त मात्रा में होते हैं। इसलिए ग्वार फली को पोषक तत्वों से भरपूर और स्वास्थ्य के लिए लाभकारी माना जाता है।
ग्वार फली खाने के फायदे एनीमिया के खतरे कोकम करता है

आयरन रक्त में हिमोग्लोबिन बनाता है जिससे खून की कमी नहीं होती। ग्वारफली आयरन का एक अच्छा स्रोत होती है इसलिए इसका सेवन करने से एनीमिया जैसी समस्या नहीं होती है।
ग्वार फली के फायदे डायबिटीज में

ग्लाइको न्यूट्रिएंट्स नामक तत्व ग्वार फली में पाया जाता है जो कि खून में रक्त शर्करा को कम करता है इसलिए ग्वार फली का सेवन करना डायबिटीज के रोगियों के लिए लाभकारी होता है।
ग्वार फली के सेवन के लाभ हृदय के लिए

 ग्वार फली में डायटरी फाइबर होते है जो कि खून में कॉलेस्ट्रोल के स्तर को कम करता है। यह दिल की सुरक्षा के लिए एक गार्ड का काम करती है इसमें पोटेशियम भी पर्याप्त मात्रा में होता है इसलिए ग्वार फली खाना भी दिल के लिए उपयोगी होता है।
डायबिटीज में लाभकारी

ग्‍वार की फली डायबटीज रोगियों के लिए बहुत लाभकारी होती है। इस फली के सेवन से शरीर में ब्‍लड शुगर की मात्रा घट जाती है और इंसुलिन की मात्रा में इजाफा होता है। इसके आहार फाइबर भोजन को पचाने में बेहद मददगार होते हैं। कच्ची फलियों को चबाना डायबिटजी रोगियों के लिए हितकर होता है। 

ग्वार फली के फायदे 
हड्डियां मजबूत बनाने में

ग्वारफली में फास्फोरस और कैल्शियम पर्याप्त मात्रा में होते हैं इसलिए हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए ग्वारफली खाना उपयोगी होता है।
ग्वार फली खाने के फायदे रक्त संचरण में

रक्त संचरण के कारण ही शरीर के हर हिस्से में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन पहुंचती है और अंग सही ढंग से काम करते हैं। ग्वार फली खाने के फायदे रक्त संचरण को बढ़ाते है इसलिए ग्वार फली को भोजन में शामिल जरूर करें।ग्‍वार में आयरन की भरपूर मात्रा होने के कारण यह शरीर में ऑक्‍सीजन को उचित मात्रा में प्रवाहित करने में मदद करता है, जिससे रक्‍त का संचार अच्‍छी तरह से होने लगता है। इसके अलावा, ग्‍वार की फली में फीटोकेमिकल की मौजूदगी ब्‍लड सर्कुलेशन को और बेहतर बनाने में मदद करता है।

दिल के लिए मददगार

यह सब्जी हृदय के रोगियों के लिए उत्तम मानी जाती है। क्‍योंकि इसमें शरीर का कोलेस्‍ट्रॉल को घटाने के गुण होते हैं। साथ ही ग्‍वार की फली में फाइबर और पौटेशियम की मात्रा काफी ज्‍यादा होती है। इसकी फलियों में पाए जाने वाले फाइबर को कोलेस्ट्रोल स्तर को संतुलित बनाए रखने के लिए लाभकारी मानता है।

ग्वार फली खाने के फायदे 
गर्भवती महिलाओं के लिए
ग्‍वार की फली का सेवन गर्भावस्‍था के दौरान अवश्‍य करना चाहिए, इसके सेवन से गर्भावस्‍था के दौरान शरीर में सभी पोषक तत्‍वों की कमी पूरी हो जाती है। विटामिन के की पर्याप्‍त मात्रा, इसमें होने के कारण यह हड्डियों को मजबूत करने और भ्रूण के विकास में सहायक होता है। इसमे फॉलिक एसिड भी भरपूर मात्रा में होता है जो शरीर को स्‍वस्‍थ बनाये रखने में मदद करता फॉलिक एसिड ग्वारफली में पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है जो कि गर्भवती महिलाओं के लिए उपयोगी पोषक तत्व होता है। इसलिए गर्भावस्था में ग्वार फली खाना मां और शिशु दोनों के लिए लाभकारी होता है।
ग्वार फली के फायदे दिमाग को स्वस्थ रखती है

दिमाग के स्वास्थ्य के लिए ग्वार फली फायदेमंद होती है। ग्वार फली में मौजूद फॉलेट, विटामिन के और हाइपोग्लाइसेमिक गुण दिमाग और नर्व सिस्टम को रिलेक्स करते हैं और साथ ही दिमाग को शांत रखने के लिए उपयोगी होती है। इसका सेवन करने से आप तनाव और चिंता से काफी हद तक दूरी बना लेता हैं। जिससे आपका दिमाग शांत रहता है और आपके दिमाग को ठंडकता प्रदान करता है।
ग्वार फली खाने के फायदे बाउल मूवमेंट के लिए

ग्वारफली में लेक्सेटिव प्रोपर्टीज होती है जो अलग-अलग प्रकार की बाउल मूवमेंट संबंधी परेशानियों से बचाने के लिए लाभकारी होती है। बाउल मूवमेंट के दौरान शरीर में जमा टॉक्सिन्स को निकालने के लिए भी ग्वार फली का सेवन लाभकारी होता है।
ग्वार फली खाने के नुकसान

हालांकि ग्वार फली सेहत के लिए लाभकारी होता है पर ज्यादा ग्वार फली सेहत के लिए नुकसान दायक होती है। आइए जानते हैं ग्वार फली खाने के नुकसान और हानिकारक दुष्प्रभाव।
ग्वार फली खाने के नुकसान से पेट खराब हो सकता है–

 ज्यादा ग्वार फली खाने से पेट खराब होने का खतरा रहता है क्योंकि इसमें काफी डायटरी फाईबर होता है जिससे गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्या पैदा हो सकती है। इससे पेट में दर्द जैसी समस्याएं हो सकती है।
ग्वार फली खाने के नुकसान आंतों के लिए– 

ग्वार फली बहुत ज्यादा पानी अवशोषित करता है इसलिए ग्वारफली का अत्यधिक सेवन करने से छोटी आंत का चॉक होना जैसी गंभीर समस्याएं हो सकती है। इसलिए ग्वारफली का अत्यधिक सेवन ना करें।