कैंसर रोकने लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कैंसर रोकने लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

पत्ता गोभी खाने के स्वास्थ्य लाभ व नुकसान

                                       


सब्ज‍ियों में आसानी से उपलब्ध होने वाली पत्तागोभी, आमतौर पर हर घर में खाई जाती है। चाइनीज डिशेज में भी इसका काफी प्रयोग किया जाता है। लेकिन इन सभी के अलावा और भी कई फायदे हैं, पत्तगोभी के
पत्‍ता गोभी जिसे हम बंद गोभी के नाम से भी जानते हैं, ब्रेसिका परिवार का एक सदस्‍य है जिसमें अन्‍य सब्जियां जैसे - ब्रोकली, फूलगोभी और ब्रूसल स्‍प्राउट आते है। यह सभी सब्जियां बड़ी और फूल के आकर की बड़े पत्‍तों वाली होती है। जिनकी पैदावार की शुरूआत, पूर्वी भूमध्‍य सागर और एशिया माइनर में मानी जाती है। यह साल के सभी दौर में मिलती है और इन्‍हे स्‍वस्‍थ आहार का हिस्‍सा माना जाता है।
पत्ता गोभी एक अकेली ऐसी सब्जी है जिसके अंदर आपको सिर्फ पत्ते ही पत्ते मिलेंगे। पत्ता गोभी का इस्तमाल आप अलग अलग तरीकों से कर सकते हैं, जैसे कि इसे आप सब्जी बना कर भी खा सकते हैं। इसे आप सलाद में भी ले सकते हैं और आप इसे कच्चा भी खा सकते हैं। यह कई किस्म के होते हैं और इसकी हर एक किस्म बाजार में आसानी से आपको मिल जाती हैं। इसे अंग्रेजी में कैबेज बोला जाता है।
कैंसर को रोकने में मदद करता है : 
बंदगोभी में ऐसे तत्‍व होते है जो कैंसर की रोकथाम करने और उसे होने से बचाने में मदद करता है। इसमें डिनडॉलीमेथेन ( डीआईएम ), सिनीग्रिन, ल्‍यूपेल, सल्‍फोरेन और इंडोल - 3 - कार्बीनॉल ( 13 सी) जैसे लाभदायक तत्‍व होते है। ये सभी कैंसर से बचाव करने में सहायक होते है।मेडिकल विशेषज्ञ मानते हैं कि कच्चे पत्तागोभी के ज्यूस में आइसोसाइनेट्स होते हैं जो कि एक प्रकार के केमिकल कंपाउड्स होते हैं जो आपके शरीर में एस्ट्रोजिन मेटाबोलिज्म की प्रकिया को तेज करते हैं और आपको स्तन कैंसर, फेफडों के कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर, पेट के कैंसर और कोलोन कैंसर से बचाए रखते हैं। इसके उपयोग से कैंसर के ठीक होने की प्रकिया को भी गति मिलती है।
इम्‍यूनिटी को बढ़ाता है : 
पत्‍ता गोभी, शरीर में इम्‍यूनिटी सिस्‍टम को स्‍ट्रांग बनाती है। इसमें विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है जिससे बॉडी का इम्‍यूनिटी सिस्‍टम काफी मजबूत हो जाता है।
एंटी - फ्लैममेट्रोरी प्रॉपर्टी : 
यह अमीनो एसिड में सबसे समृद्ध होता है जो सूजन आदि को कम करता है।
वजन घटाने में : 
पत्‍ता गोभी एक खास सब्‍जी है लेकिन इसके सेवन से वजन को भी कम किया जा सकता है। एक कप पकाई वंदगोभी में सिर्फ 33 कैलोरी होती है जो वजन नहीं बढ़ने देती। वंदगोभी का सूप शरीर को ऊर्जा देता है लेकिन वसा की मात्रा का घटा देता है। पत्तागोभी को वजन कम करने के लिए बहुत ही कारगर उपाय समझा जाता है। यह आपके पाचन को दुरुस्त करता है और इसमें कैलोरी की मात्रा भी बहुत कम होती है। यह पेट से जुडी हर प्रकार की समस्या से आपको निजात दिलाता है|
मोतियाबिंद के खतरे को कम करता है : 
पत्‍ता गोभी के सेवन से मोतियाबिंद का खतरा कम होता है। इसके लगातार सेवन से बॉडी में बीटा केराटिन बढ़ जाता है जिससे आंखे सही रहती है।
पेप्टिक अल्‍सर के इलाज में सहायक : 
पत्‍ता गोभी, पेप्टिक अल्‍सर के इलाज में सहायक होती है। इस रोग से पीडित व्‍यक्ति अगर वंदगोभी का नियमित सेवन करें तो उसे आराम मिल सकता है क्‍योंकि इसमें ग्‍लूटामाइन होता है जो अल्‍सर विरोधी होता है।
कब्‍ज से राहत दिलाए 
इसमे बहुत ज्‍यादा रेशा होता है जिसकी वजह से पाचन क्रिया अच्‍छे से होती है और पेट दरुस्‍त रहता है। इस वजह से कब्‍ज की समस्‍या कभी नहीं हो पाती।
मांसपेशियों के दर्द में राहत देती है : 
पत्‍ता गोभी में लैक्टिक एसिड काफी मात्रा में होती है जो मांसपेशियों के चोटिल होने और उसे रिकवर करने में काफी सहायक होती है।
अल्‍माइजर को कम कर देता है : 
हाल ही में हुए शोध से पता चला है कि पत्‍ता गोभी के सेवन से अल्‍माइजर जैसी समस्‍याएं दूर हो जाती है। इसमें विटामिन के भरपूर मात्रा में पाया जाता है जिससे अल्‍माइजर की समस्‍या दूर हो जाती है।
पेट साफ-
पत्तागोभी पेट को साफ रखने में बहुत कारगर है। इसमें क्लोरीन और सल्फर नाम के दो बहुत जरुरी मिनरल्स होते हैं। आप पत्तागोभी का ज्यूस पीने के बाद एक तरह की गैस महसूस करेंगे और यह गैस इस बात का इशारा होता है कि ज्यूस ने अपना काम करना शुरु कर दिया है।
*क्या आप कुछ किलो वजन कम करने की बहुत कोशिश कर रहे हैं? आप एक बार पत्तागोभी के ज्यूस को भी आजमाइए। पत्तागोभी को वजन कम करने के लिए बहुत ही कारगर उपाय समझा जाता है। यह आपके पाचन को दुरुस्त करता है और इसमें कैलोरी की मात्रा भी बहुत कम होती है। यह पेट से जुडी हर प्रकार की समस्या से आपको निजात दिलाता है और अल्सर के इलाज में तो इसे अचूक उपाय समझा जाता है।
खून की कमी
पत्तागोभी में फोलिक एसिड होता है जिसमें एनीमिया यानी खून की कमी को दूर करने का खास गुण होता है। फोलिक एसिड में नए ब्लड सेल्स का निर्माण करता है।
मांसपेशियों को स्वस्थ रखने में
मांसपेशियों को मजबूत बनाने और उनको चोटों से सुरक्षित रखने में भी पत्ता गोभी का महत्वपूर्ण रोल होता है। इसके अंदर लैक्टिक एसिड पाया जाता है। जिसकी वजह से आपकी मांसपेशियों को चोट लगने से बचाया जाता है। इसके अलावा यह मांसपेशियों को स्वस्थ और तंदुरुस्त रखने में भी काफी कारगर सिद्ध होता है। इसलिए आपको रोजाना जिंदगी में इसका सेवन जरूर करना चाहिए।
त्वचा के लिए
पत्ता गोभी के अंदर काफी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है। जिसकी वजह से हमारे शरीर की त्वचा हमेशा स्वस्थ और सुंदर रहती है। एंटीऑक्सीडेंट की वजह से शरीर की त्वचा की सही देखभाल हो पाती है। जो लोग पत्तागोभी का सेवन करते हैं, आप देखेंगे कि उनके चेहरे हमेशा ही ग्लो करते हैं और उन्हें पिंपल जैसी समस्या भी नहीं होती है।
जो लोग अपने चेहरे का काफी ख्याल रखते हैं और उसके बावजूद भी उनके चेहरे पर पिंपल जैसे समस्या बनी रहती है, या फिर उनकी त्वचा ग्लो नहीं करती है। उन लोगों को अपने शरीर की तंदुरुस्ती और सुंदरता के लिए पत्ता गोभी का सेवन अपने भोजन में जरूर करना चाहिए। क्योंकि पत्ता गोभी के अंदर एंटीऑक्सीडेंट होता है जिसकी वजह से उनकी स्किन हमेशा ही खिली खिली रहती है।
सावधानी-
ऊपर के लेख में आपने पत्ता गोभी के फायदे तो जान लिए लेकिन इसको इस्तेमाल करने से पहले पत्ता गोभी के नुकसान जानना भी जरूरी हो जाता है आइये जानते है पत्ता गोभी के नुकसान क्या है
अगर आप पत्ता गोभी का इस्तेमाल रोजाना दिन में कई बार करते हैं। तो इससे आपको पेट की समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
जिन लोगों को इर्रिटेबल बाउल, सिंड्रोम जैसी समस्या है। उन्हें पत्तागोभी का सेवन नहीं करना चाहिए।
यह एक पाचन समस्या है इसलिए पाचन रोगों से पीड़ित लोगों को तो बिल्कुल भी पता गोभी का सेवन नहीं करना चाहिए।
अगर आपको बार बार गैस हो रही है या आपका पेट फूल रहा है, तो उसका सबसे बड़ा कारण यह है कि आप पत्ता गोभी को अपने भोजन में शामिल कर रहे हैं।
आपको उसी वक्त पत्ता गोभी छोड़ देना चाहिए। क्योंकि यह पत्तागोभी का सबसे बड़ा साइड इफेक्ट है।
अगर आप थायराइड जैसी बीमारी से जूझ रहे हैं तो आपको पता गोभी का सेवन अपने रोजमर्रा जिंदगी में नहीं करना चाहिए।
किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार