ऑलिव ऑयल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
ऑलिव ऑयल लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

स्तन की साइज बढ़ाने के लिए ऑयल



आमतौर पर ज्यादातर महिलाओं का मानना है कि ऑयल से मसाज करने पर स्तन का आकार नहीं बढ़ता है जबकि यह एक गलत धारणा है। यदि आप चाहतीं हैं की आपके छोटे ब्रेस्ट जल्दी से बड़े और सुंदर हो जाए, तो हम आपको ब्रेस्ट बढ़ाने का आयल (तेल) के नाम और इस्तेमाल करने का तरीका बताने जा रहे हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि स्तन का फैट एक चर्बीदार  वसा और फैटी एसिड होता है जो कि उत्तेजना के लिए उत्तरदायी होता है। जब आप ऑयल लगाकर स्तन की मालिश करती हैं तो स्तन के उत्तकों में उत्तेजना होती है जिसके कारण इसका सकारात्मक प्रभाव दिखायी देता है।
हालांकि इसके लिए आपको सही तरीके से स्तनों की मालिश करनी आना चाहिए। जैसा कि हम जानते हैं कि स्तन की मालिश हमेशा सर्कुलर मोशन में ऊपर से नीचे और नीचे से ऊपर की ओर दबाव बनाते हुए करना चाहिए। अगर आप गलत तरीके से मालिश करती हैं तो आप ब्रेस्ट कैंसर और पीएमएस जैसे लक्षणों से बच सकती हैं।
स्तन बड़ा न होने का कारण
अगर आपके शरीर का वजन कम है या आप दुबली पतली  हैं तो आपके स्तन का आकार छोटा हो सकता है।
यदि आपकी मां या बहन का स्तन छोटा है तो आनुवांशिक कारणों से आपका स्तन भी छोटा हो सकता है।
हार्मोन्स के असंतुलन के कारण भी स्तन का आकार नहीं बढ़ पाता है।
इसके अलावा पर्यावरणीय कारकों से भी स्तन का विकास नहीं होता है।
स्तन की साइज बढ़ाने के लिए ऑयल
आमतौर पर ब्रेस्ट की साइज बढ़ाने के लिए जितने भी ऑयल उपलब्ध हैं ये बहुत महंगे नहीं होते हैं। इनका सही तरीके से इस्तेमाल करके आप स्तन का आकार बढ़ा सकती हैं।
ब्रेस्ट बढ़ाने का तेल ऑलिव ऑयल
ऑलिव ऑयल से अपने स्तनों की मसाज करना ब्रेस्ट का आकार बढ़ाने के आसान तरीके में से एक है शोध में पाया गया है कि जैतून का तेल या ऑलिव ऑयल में पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व (nutrients) पाये जाते हैं जो रक्त परिसंचरण में सुधार करने में बेहद सहायक होते हैं। इसमें फाइटोएस्ट्रोजेन भी होता है जो आपके शरीर में एस्ट्रोजेनिक गतिविधि में मदद करता है और इस प्रकार यह आपके स्तनों के आकार को बढ़ाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। दो चम्मच ऑलिव ऑयल को अपने हथेलियों के बीच लेकर रगड़ें और हल्के हाथों से धीरे धीरे (gently) स्तन की मसाज करें। यह प्रक्रिया दिन में दो बार दोहराएं। जल्दी ही आपके स्तन बड़े हो जाएंगे।
स्तन का आकार बढ़ाने के लिए मेथी का तेल
जल्दी ब्रेस्ट का साइज़ बढ़ाने के लिए येह सबसे अच्छा तेल माना जाता है। दो चम्मचच मेथी के तेल को हथेली पर लेकर इसे दोनों हथेलियों के बीच रगड़ें और फिर अपने स्तन पर दोनों हाथों से पांच मिनट तक मसाज करें। रात में सोने से पहले नियमित रुप से यह क्रिया करें। आपका स्तन पहले से बड़ा हो जाएगा। वास्तव में मेथी के बीज का तेल स्तन की आसपास की त्वचा को फैलाने (expand) में मदद करता है जिसके कारण से आपको अपने स्तन में फर्क दिखायी देता है। लेकिन यह ध्यान रखना बेहद जरूरी है कि स्तनों के आकार को बढ़ाने के लिए सिर्फ एक दिन नहीं बल्कि नियमित रुप से ऑयल लगाकर ब्रैस्ट की मसाज करना आवश्यक है।
ब्रेस्ट मसाज के लिए आयल लौंग का तेल
अदरक के अर्क (ginger extracts ) में लौंग का तेल मिलाकर दोनों स्तनों पर मसाज करने से स्तन की साइज बढ़ जाती है। वास्तव में इन दोनों में आयुर्वेदिक औषधीय गुण पाये जाते हैं इसके अलावा कई तरह के पोषक तत्व भी पाये जाते हैं जो स्तन को गर्म रखते हैं और कोशिकाओं के विकास में मदद करते हैं। लौंग के तेल से दो महीने तक दिन में दो बार सर्कुलर मोशन में मालिश करने से बेहतर परिणाम देखने को मिलता है। बस यह ध्यान रखें कि हथेली पर कम मात्रा में लौंग का तेल लेकर मसाज करें।
स्तन बड़ा करने का तेल है बादाम का तेल
वर्षों से बादाम के तेल का इस्तेमाल स्तन की कप साइज बढ़ाने में किया जा रहा है। वास्तव में यह स्तन की कोशिकाओं को विकसित करने में मदद करता है और इससे मालिश करने से स्तन में रक्त का प्रवाह भी बेहतर तरीके से होता है जिसके कारण स्तन का आकार तो बढ़ता ही है साथ में उम्र बढ़ने के बाद स्तन लटकता (breasts sagging) नहीं है। बादाम के तेल को स्तन पर लगाकर सात से आठ मिनट तक सर्कुलर मोशन में रगड़ें लेकिन ध्यान रहे कि निप्पल को न रगड़े। नहाने से पहले और रात को सोने से पहले नियमित रुप से मसाज करने से 8 से 10 हफ्तों में स्तन का आकार बढ़ जाता है।
स्तन बढ़ाने के लिए मसाज आयल सोयाबीन ऑयल

ब्रेस्ट बढ़ाने का आयल में सोयाबीन तेल बहुत ही लाभदायक साबित होता है और हर घर में आसानी से मिल जाता है स्तन का आकर बढ़ाने के लिए दो चम्मच सोयाबीन के तेल को लेकर अपने स्तनों के ऊपर सर्कुलर मोशन में 10 से 15 मिनट तक मसाज करें। रात को सोने से पहले नियमित रुप से ऐसा करने से स्तनों का आकार बढ़ जाता है। माना जाता है कि सोयाबीन तेल सोयाबीन के बीज से निकाला जाता है जो शरीर में एस्ट्रोजन के स्तर  को बढ़ाने में मदद करता है और जब इस ऑयल से स्तन की अच्छी तरह से मालिश की जाती है तो स्तन का आकार भी बढ़ जाता है।
छाती बढ़ाने का आयल नारियल का तेल
स्तन के आकार को बढ़ाने के लिए नारियल का तेल सबसे अच्छा माना जाता है। तेल के रूप में देखा जाता है। इसका कारण यह है कि यह गैर-चिकना  और कम चिपचिपा  प्रकृति का होता है। इसलिए इसकी हल्की खुशबू और कम चिपचिपी प्रकृति स्तनों के लिए उत्कृष्ट मॉइस्चराइजर का कार्य करती है और त्वचा को कोमल बनाती है। नारियल के तेल का इस्तेमाल माताएं अपने स्तन का दूध बढ़ाने के लिए भी करती हैं। मेथी पाउडर को नारियल के तेल में मिलाकर सर्कुलर मोशन में 10 मिनट तक मसाज करने से भी स्तन का आकार बढ़ जाता है।
किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार



फटी एड़ियाँ फिर से भरने के कुछ खास उपाय

                                         
जैसे-जैसे सर्दी का मौसम अपने शबाब पर पहुंचता है, पैरों की खूबसूरती को बनाए रखना मुश्किल होता जाता है। पैरों की चमड़ी का सख्त हो जाना और एड़ियों का फटना जैसी समस्याएं इस मौसम में आम तौर पर उभरकर सामने आती हैं। इससे बचने के लिए कुछ बातों का ख्याल रखना आवश्यक है।
क्या है एड़ियां फटने की मुख्य वजह -
एड़ियां फटने की मुख्य वजह शरीर में कैल्शियम और चिकनाई की कमी होती है। एड़ी व तलवों की त्वचा मोटी होती है, इसलिए शरीर के अंदर बनने वाला सीबम यानी कुदरती तेल पैर के तलवों की बाहरी सतह तक नहीं पहुंच पाता। फिर पौष्टिक तत्व व चिकनाई न मिल पानेकी वजह से ही एड़ियां खुरदरी-सी हो जाती हैं और इनमें दरार पड़ने लगती है।
एड़िया ज्यादा फटने से दर्द और जलन तो होती ही है, कभी-कभी खून भी निकल आता है।
अक्सर अनियमित खानपान, विटामिन ई की कमी, कैल्शियम व आयरन की पर्याप्त मात्रा न मिल पाने के कारण एड़ियां फट जाती हैं|

ठंड में फटी एड़ियों से छुटकारा पाने के नुस्खे-
* डेढ़ चम्मच वैसलीन में एक छोटा चम्मच बोरिक पावडर डालकर अच्छी तरह मिला लें और इसे फटी एड़ियों पर अच्छी तरह से लगा लें, कुछ ही दिनों में फटी एड़ियां फिर से भरने लगेंगी।
* अगर एड़ियां ज्यादा फटी हुई हों तो मैथिलेटिड स्पिरिट में रुई के फाहे को भिगोकर फटी एड़ियों पर रखें। ऐसा दिन में तीन-चार बार करें, इससे एड़ियां ठीक होने लगेंगी।
* गुनगुने पानी में थोड़ा शैंपू, एक चम्मच सोड़ा और कुछ बूंदें डेटॉल की डालकर मिला लें। इस पानी में पैरों को 10 मिनट तक भिगोकर रखें। त्वचा फूलने पर मैथिलेटिड स्पिरिट लगाकर एड़ियों को प्यूमिक स्टोन या झांवे से रगड़कर साफ कर लें। इससे एड़ियों की मृत त्वचा साफ हो जाएगी। फिर साफ तौलिए से पोंछकर गुनगुने जैतून या नारियल के तेल से मालिश करें।
*पेट्रोलियम जैली का प्रयोग इसका सबसे आसान तरीका है। इसके लिए डेढ़ चम्मच वैसलीन में एक छोटा चम्मच बोरिक पावडर डालकर अच्छी तरह मिला लें और इसे रात को सोते समय फटी एड़ियों पर अच्छी तरह से लगा लें, ताकि रातभर यह असर कर पाए। कुछ ही दिनों में फटी एड़ियां फिर से भरने लगेंगी।
* अमचूर का तेल, फटी एड़ियों के इलाज के लिए रामबाण औषधी है। यह गाढ़ा होता है जिसे पिघलाकर आप रात में एड़ियों पर लगाएं और सुबह धो लें। कुछ ही दिनों में एड़ियां बिल्कुल चिकनी हो जाएंगी।
*नारियल का तेल
रात को सोने से पहले एक बड़ा चम्मच नारियल तेल लेकर उसे फटी हुई एड़ियों पर लगाइए. चाहें तो इसे हल्का गर्म भी कर सकती है. इसकी मसाज से थकान भी कम होगी. उसके बाद जुराबें पहनकर सो जाएं. सुबह उठकर पैरों पानी से धो लें. करीब 10 दिन तक इस उपाय को लगातार करने से एड़ियां मुलायम हो जाएंगी.
*शहद
शहद एक बहुत अच्छा मॉइश्चराइजर है, जो पैरों को हाइड्रेट रखने के साथ ही उनका पोषण भी करता है. पानी में आधा कप शहद मिलाकर उसमें कुछ देर तक पैर को डुबोकर रखे रहें. लगभग 20 मिनट बाद पैरों को बाहर निकालकर मुलायम तौलिए से हल्के हाथों से पोछ लें. आपके पैर कोमल हो जाएंगे.
* ऑलिव ऑयल
ऑलिव ऑयल के इस्तेमाल से भी एड़ियां कोमल और मुलायम होती हैं. हथेली पर तेल की कुछ मात्रा लेकर हल्के हाथों से मसाज करें. इसके बाद पैरों को आधे घंटे के लिए वैसे ही छोड़ दें. इस प्रक्रिया को हफ्ते में एक बार जरूर करें.
*ग्लिसरीन और गुलाब जल
ज्यादा फटी एड़ियों के लिए यह बेहतरीन उपाय है. दोनों ही चीजें एड़ियों को नमी देकर कोमल बनाती हैं. तीन-चौथाई मात्रा में गुलाब जल और एक-चौथाई मात्रा में ग्लिसरीन लेकर मिश्रण बनाएं और कुछ देर तक एड़ियों पर लगा रहने दें और उसके बाद गुनगुने पानी से उसे साफ कर लें. कुछ दिनों तक ऐसा करने के बाद आपको फर्क दिखना शुरू हो जाएगा.


किडनी फेल (गुर्दे खराब) की हर्बल औषधि 

प्रोस्टेट ग्रंथि बढ्ने से मूत्र बाधा की हर्बल औषधि 

सिर्फ आपरेशन नहीं ,पथरी की 100% सफल हर्बल औषधि 

आर्थराइटिस(संधिवात)के घरेलू ,आयुर्वेदिक उपचार