कसावा के फायदे और उपयोग



कसावा एक जड़ युक्‍त खाद्य पदार्थ है जिसके अनेक फायदे होते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि कसावा के लाभ हेल्थ के अलावा आपकी त्वचा और बालों के लिए भी होते हैं। कसावा स्‍ट्रार्च से भरी हुई कंद या जड़ें होती हैं जिनका उपयोग विभिन्‍न प्रकार की बीमारियों का प्राकृतिक उपचार करने के लिए किया जाता है। कसावा रूट का इस्‍तेमाल कर आप अपनी बालों और त्‍वचा संबंधी परेशानियों का भी घरेलू उपाय कर सकते हैं। कसावा में औषधीय गुण होते हैं हालांकि कसावा की कुछ प्रजातियां प्रकृति में जहरीली होती है। लेकिन उचित मात्रा में उपयोग करने पर यह आपको कई स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिला सकता है।
कसावा एक जड़ वाली सब्‍जी है जो कसावा झाड़ी के जड़ वाला हिस्‍सा है। कसावा का लैटिन नाम मनिहट एस्‍कुलेंटा (Manihot esculenta) है। यह आलू और रतालू की तरह ही कंद वाली फसल है। कवासा पौधे की जड़ें शकरकंद की तरह ही होती हैं। लोग कसावा की पत्तियों को भी खा सकते हैं। प्राचीन समय से ही कसावा की जड़ों का उपयोग खाद्य रूप में किया जा रहा है। लेकिन अध्‍ययनों के अनुसार जैसे जैसे इसके पोषक तत्‍वों और औषधीय गुणों का पता चला वैसे ही कसावा का इस्‍तेमाल स्‍वास्‍थ्‍य लाभ प्राप्‍त करने के लिए किया जाने लगा।
मनिहट एस्‍कुलेंटा को सामान्‍य रूप से कसावा के नाम से जाना जाता है। यह एक झाड़ीनुमा पौधे होते हैं। कसावा का पौधा यूफोरबीएसे (Euphorbiaceae) परिवार से संबंधित होता है। कसावा प्‍लांट एक बारहमासी पौधा है जिसका व्‍यवसायिक उद्देश्‍य हेतू व्‍यापक रूप से उत्‍पादन किया जा सकता है। उपोष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में इसे एक वार्षिक फसल के रूप में उगाया जाता है। इस पौधे की जड़ें कार्बोहाइड्रेट का प्रमुख स्रोत होती हैं। कसावा को मुख्‍य रूप से उबालकर खाया जाता है। लेकिन कसावा की जड़ों में मौजूद स्‍ट्रार्च को निकालकर साबूदाना या टैपिओका बनाया जाता है।
कसावा एक औषधीय पौधा है जिसकी जड़ों में कैलोरी, प्रोटीन, वसा, कार्बोहाइड्रेट, आयरन, विटामिन और अन्‍य खनिज पदार्थ होते हैं। कसावा की पत्तियों में भी कैल्शियम, आयरन, वसा और प्रोटीन की अच्‍छी मात्रा होती है। इन पोषक तत्‍वों की मौजूदगी के कारण कसावा के फायदे हमें शारीरिक और मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने में मदद कर सकते हैं। स्‍वास्‍थ्‍य लाभ के साथ ही कसावा का इस्‍तेमाल आपको त्‍वचा और बालों संबंधी समस्‍याओं से बचा सकता है।
कसावा मीठी और कड़वी नसलों में मिलता है। अन्य कन्द-जड़ों की तरह इसमें भी कुछ वषैले पदार्थ उपस्थित होते है, जिनकी मात्रा कड़वी नसलों में मीठी नसलों से कई अधिक होती है। खाने से पहले इसे सही प्रकार से तैयार करना आवश्यक है वरना इससे साइनाइड विष-प्रभाव हो सकता है, जिससे घेंघा रोग, गतिभंग और लकवा होने की सम्भावना है। कुछ क्षेत्रों में किसान कड़वी नसलों को उगाना पसंद करते हैं क्योंकि नाशीजीव और पशु उन्हें खाना पसंद नहीं करते और उनके फ़सलों की चोरी भी कम होती है।
मोटापा दूर करे-
उन लोगों को कसावा खाने से फायदा हो सकता है जो अपना वजन घटाना चाहते हैं। मोटापा कम करने वाले लोगों के लिए कसावा का सेवन करना एक प्राकृतिक उपचार हो सकता है। जो आसानी से उनके वजन को नियंत्रित करने में मदद करता है। कसावा में कैलोरी और फैट बहुत ही कम मात्रा में होते हैं। साथ ही इसमें फाइबर की अच्‍छी मात्रा होती है जिसके कारण यह वजन घटाने वाले खाद्य पदार्थ के रूप में प्रभावी योगदान दे सकता है। क्‍योंकि उच्‍च फाइबर का सेवन करने से भूख को नियंत्रित करने में मदद मिलती है जो आपके बार-बार और अधिक मात्रा में भोजन करने को रोक सकता है। इस तरह से आप कसावा का सेवन कर अपने वजन को कम करने के घरेलू उपाय को आजमा सकते हैं।
पाचन के लिए
पाचन संबंधी समस्‍याओं को दूर करने के लिए कसावा सबसे अच्‍छे उत्‍पादों में से एक है। कसावा के फायदे इसमें मौजूद अघुलनशील फाइबर की उच्‍च मात्रा के कारण होते हैं। फाइबर पाचन तंत्र को स्‍वस्‍थ रखने और आंतों से मल को आसानी से परित करने में सहायक होते हैं। कसावा का नियमित सेवन कर मल में थोक बढ़ाकर आंतों में मौजूद विषाक्‍तता को प्रभावी रूप से दूर करने में मदद मिलती है। यदि आप भी पाचन संबंधी समस्‍याओं जैसे कब्‍ज, अपच, दस्‍त और पेट में ऐंठन आदि से परेशान हैं तो कसावा का सेवन कर सकते हैं। यह आपके पाचन तंत्र को स्‍वस्‍थ बनाए रखने में सहायक हो सकता है।
कैंसर के लिए
कैंसर एक गंभीर बीमा‍री है जिसका उपचार नहीं बल्कि बचाव पर विशेष ध्‍यान दिया जाना चाहिए। कसावा के फायदे आपको कैंसर की संभावना से बचा सकते हैं। कसावा में मौजूद पोषक तत्‍व और औषधीय गुण उन फ्री रेडिकल्‍स से हमारे शरीर को बचाते हैं जो कैंसर का कारण बन सकते हैं। कसावा की पत्तियों में विटामिन B17 (Amygdalin) होता है जो लाल रक्‍त कोशिकाओं को उत्‍तेजित करने में मदद करते है। लाल रक्‍त कोशिकाओं की क्षति के कारण कैंसर होने की संभावन अधिक होती है। यदि आप भविष्‍य में कैंसर जैसी गंभीर बीमारियों से बचना चाहते हैं तो कसावा एक अच्‍छा विकल्‍प हो सकता है।
सिरदर्द के लिए
सिर दर्द होना एक सामान्‍य समस्‍या है जिससे अधिकांश लोग प्रभावित होते हैं। लेकिन लंबे समय तक सिर का दर्द बने रहना एक गंभीर समस्‍या हो सकती है। ऐसी स्थिति में कसावा का सेवन करना आपको लाभ दिला सकता है। आप कसावा की जड़ या पत्तियों की मदद से सिरदर्द का घरेलू उपचार कर सकते हैं। इसके लिए आपको केवल 60 ग्राम कसावा की जड़ या पत्तियों की आवश्‍यकता होती है। आप इन्‍हें 1 से 2 घंटों के लिए पानी में डुबो कर रखें इसके बाद ब्‍लेंडर की मदद से इसका जूस बनाएं। इस जूस का दिन में दो बार सेवन करना आपको सिर दर्द से छुटकारा दिला सकता है।
मांसपेशियों के लिए
यदि आप अपनी सेहत के प्रति सचेत हैं तो आप अपने आहार में कसावा के आटे को विशेष रूप से शामिल कर सकते हैं। क्‍योंकि कसावा फ्लोर शरीर की मांसपेशियों को मजबूत करने में सहायक होता है। कसावा में प्रोटीन की पर्याप्‍त मात्रा होती है जो मांसपेशीय कोशिकाओं के विकास और स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने में विशेष योगदान देता है। कसावा की 1 सर्विंग में 2 ग्राम प्रोटीन होता है जो आपकी दैनिक आवश्‍यकताओं की पूर्ति करने के लिए पर्याप्‍त होता है। नियमित रूप से कसावा का सेवन कर आप अपनी शारीरिक बनावट बेहतर बनाने के साथ ही शरीर की शक्ति को भी बढ़ा सकते हैं।
रक्‍तचाप कम करे
उच्‍च रक्‍तचाप रोगी के लिए कसावा फ्लोर का सेवन करना फायदेमंद हो सकता है। कसावा के आटे में रक्‍तचाप को नियंत्रित करने की क्षमता होती है। कसावा में फाइबर की अच्‍छी मात्रा होती है साथ ही कसावा में पोटेशियम भी होता है। जो रक्‍त वाहिकाओं को आराम दिलाने और रक्त परिसंचरण को बेहतर बनाने में सहायक होता है। कसावा का सेवन करना विशेष रूप से महिलाओं के लिए फायदेमंद होता है।
बुखार के लिए
मध्‍यम ठंडी तासीर होने के कारण कसावा के फायदे आपको बुखार के लक्षणों से राहत दिला सकते हैं। कसावा की पत्तियों से बने काढ़े का सेवन करने से शरीर के तापमान को नियंत्रित करने में मदद मिलती है। साथ ही इस काढ़े का सेवन करना बुखार के दौरान होने वाली कमजोरी और दर्द को भी कम करने में प्रभावी होता है। नियमित रूप से कसावा और इसके अर्क का सेवन करना रोग प्रतिरोध क्षमता को बढ़ाने में भी अहम योगदान दे सकता है। यदि आप भी बुखार से परेशान हैं तो कसावा पत्तों के काढ़े का सेवन कर लाभ प्राप्‍त कर सकते हैं।
घाव उपचार में
यदि आप किसी चोट या घाव का उपचार करना चाहते हैं तो कसावा का इस्‍तेमाल किया जा सकता है। अगर घाव में इसे लगाया जाता है तो यह एलोवेरा की तरह काम करता है। घाव का इलाज करने के लिए आप कसावा की पत्तियों को पीस कर पेस्‍ट बनाए और घाव पर लगाएं। कसावा के पत्तों में पोषक तत्‍वों की उच्‍च मात्रा होती है जो संक्रमण को रोकने में मदद करता है। साथ ही यह घाव उपचार की प्रक्रिया को भी तेज करता है।
दस्‍त का इलाज करे
फाइबर और अन्‍य पोषक तत्‍वों की मौजूदगी के कारण कसावा के फायदे पाचन तंत्र को स्‍वस्‍थ रखने में मदद करते हैं। ठीक इस‍ी तरह से दस्‍त जैसी स्थितियों के लिए कसावा के अर्क का सेवन किया जा सकता है। यदि आप दस्‍त से परेशान हैं तो कसावा को अच्‍छी तरह से साफ करे लें। इसके बाद इसे छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें और इसे पानी में उबालें। अच्‍छी तरह से उबालने के बाद आप इसे ठंडा होने दें। दस्‍त के लक्षणों को कम करने के लिए आप इस अर्क का दिन में दो बार सेवन करें। ऐसा करने से आपको दस्‍त की समस्‍या से छुटकारा मिल सकता है।
गर्भवती महिलाओं के लिए
गर्भावस्‍था के दौरान महिलाओं को विटामिन सी और फोलेट की विशेष आवश्‍यकता होती है। कसावा के पौधे में ये दोनों ही घटक पर्याप्‍त मात्रा में होते हैं। इसलिए गर्भवती महिलाएं अपने साप्‍ताहिक आहार में कसावा के आटे को शामिल कर सकती हैं। इसके अलावा कसावा की पत्तियों को काटकर सलाद या अन्‍य व्‍यंजनों के साथ उपयोग किया जा सकता है।
आंखों के लिए
औषधीय गुणों से भरपूर कसावा का उपयोग सब्‍जी के रूप में भी किया जा सकता है। नियमित रूप से कसावा का सेवन कर आप कुछ विशेष प्रकार के विटामिन और खनिजों को प्राप्‍त कर सकते हैं। घटकों हमें विशेष आवश्‍यकता होती है जो हमारी आंखों को स्‍वस्‍थ रखने में मदद कर सकते हैं। कसावा में विटामिन ए की अच्‍छी मात्रा होती है। विटामिन ए हमारी आंखों की रोशनी को बढ़ाने और देखने की क्षमता में सुधार कर सकता है। यदि आप भी अपनी आंखों को स्‍वस्‍थ रखना चाहते हैं तो कसावा का उपयोग कर सकते हैं।
मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए
आप अपने मस्तिष्‍क स्‍वास्‍थ्‍य को बेहतर बनाने और दिमाग तेज करने के लिए भी कसावा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। चूंकि कसावा कार्बोहाइड्रेट का सबसे अच्‍छा स्रोत होता है। इसलिए नियमित रूप से कसावा का सेवन करना आपको अतिरिक्‍त ऊर्जा दिलाने में सहायक होता है। भोजन के रूप में कसावा का इस्‍तेमाल करना आपके मस्तिष्‍क की कार्य क्षमता को बढ़ाने में भी अहम योगदान देता है। कसावा की 1 सर्विंग में दैनिक जरूरत का लगभग 80 प्रतिशत कार्बोहाइड्रेट होता है। जो आपके दैनिक उपभोग के लिए पर्याप्‍त है।
त्‍वचा के निशान हटाये
आप अपने चेहरे में मौजूद मुंहासों के दाग और धब्‍बों को दूर करने के लिए भी कसावा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। यदि आप नियमित रूप से दिन में दो बार कसावा के पेस्‍ट को प्रभावित क्षेत्र में लगाते हैं तो कुछ ही दिनों में दाग धब्‍बे दूर हो सकते हैं।
त्‍वचा को गोरा बनाने के लिए
आप अपने चेहरे की त्‍वचा को गोरा और सुंदर बनाने
के लिए कसावा का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। कसावा के छिलके का उपयोग स्किन एक्‍सफोलिएटर (skin exfoliator) के रूप में कर सकते हैं। आप इन छिलकों को लें और इनका पेस्‍ट बनाकर स्‍क्रब के रूप में उपयोग कर सकते हैं। आप इस पेस्‍ट को अपने चेहरे पर कुछ समय के लिए लगा कर रखें और फिर ठंडे पानी से अपने चेहरे को धो लें। अच्‍छे परिणाम प्राप्त करने के लिए आप इस उपाय को सप्‍ताह में 3 बार उपयोग कर सकते हैं।
हेयर फाल को कम करे
महिला हो या पुरुष आज लगभग सभी लोग बाल झड़ने की समस्‍या से परेशान हैं। लेकिन आप इस समस्‍या का समाधान करने के लिए कसावा का उपयोग कर सकते हैं। कसावा का इस्‍तेमाल आपके बालों की जड़ों को अतिरिक्‍त पोषण दिलाने और स्‍कैल्प को हाइड्रेट रखने में मदद कर सकता है। परिणामस्‍वरूप आप अपने बालों को झड़ने से बचा सकते हैं।
कसावा को कैसे खाएं
जैसा कि हम सभी जानते हैं कि कसावा एक प्रकार का कंद होता है। आप अपने आहार में कसावा को कई रूपों में उपयोग कर सकते हैं। साबूदना खाना सेहत के लिए अच्‍छा होता है। साबूदाना कसावा से ही बनाया जाता है। हालांकि जड़ के रूप में ताजा कसवा भी खाने के लिए इस्‍तेमाल किया जाता है। आप कसावा के चिप्‍स बना सकते हैं जिनहें नारियल के तेल में फ्राई करके खाया जा सकता है। इसके अलावा आप आलू की तरह ही कसावा की जड़ों को उबालकर विभिन्‍न प्रकार के व्‍यंजन बना सकते हैं। यदि आप मीठा खाना पसंद करते हैं तो कसावा का उपयोग करके आप स्‍वादिष्‍ट हलवा भी तैयार कर सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: