ठंडे पानी से नहाने के लाभ


गर्मी के मौसम में नहाने के लिए ठंडा पानी मिल जाये तो शायद ही कोई मना करे। ये तो हम सब जानते है कि गर्मियों में ठन्डे पानी से नहाना अच्छा लगता है लेकिन आज हम आपको बता रहे है गर्मियों में ठंडा पानी सेहत के लिए कितना लाभदायक होता है। आपको बता दे की अगर आप ठंडे पानी से स्नान करेंते है तो इससे आपकी सेहत को कई लाभ मिलेंगे। सुबह-सुबह ठंडे पानी में नहाने से शरीर तरोताज़ा तो हो ही जाता है इसके साथ ही हमे एनर्जी भी मिलती है।
ठंडा पानी सेहत के लिए कई मायनों में लाभदायक भी है। यह शरीर को कई ऐसे रोगों से बचाता है जिनके बारे में आप सोच भी नहीं सकते। शायद आपको यह जानकर हैरानी होगी कि ठंडे से पानी से नहाने वाले पुरुषों की प्रजनन क्षमता बहुत तेज होती है। वहीं दूसरी ओर गर्म पानी से स्नान करने से अंडकोष पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है, क्योंकि संभवतः गर्म पानी से नहाना शुक्राणुओं की संख्या कम कर सकता है। यदि आप घर में नए बच्चे को लाने की तैयारी कर रहे हैं तो ठंडे पानी से ही नहाएं।
ठंडे पानी से नहाने के लाभ
ठंडा पानी कीटाणुओं को अधिक तेजी से मारता है। ठंडा पानी शरीर को साफ करने के साथ ही कई तरह के इंफेक्शन से भी बचाता है। डॉक्टर्स कहते हैं कि ठंडा पानी मांसपेशियों के लचीलेपन में सुधार करता है और दर्द से भी छुटकारा दिलाता है। आयुर्वेद के अनुसार, नहाने के लिए ठंडे पानी का इस्तेमाल करने से व्यक्ति दिनभर पर फ्रेश और एक्टिव रहता है। साथ ही इससे हॉर्मोन्स भी तेजी से चार्ज होते हैं।
हेयर एक्सपर्ट्स बताते हैं कि गर्म पानी की बजाय ठंडे पानी से बाल धोने से बालों की उम्र कई गुना तक बढ़ती है। यही नहीं ठंडे पानी से सिर धोने पर बालों की ठीक प्रकार से सफई हो जाती है और वे आकर्षक लगते हैं।
ठंडे पानी से नहाने से रक्तसंचार तो अच्छा रहता ही है, साथ ही ठंडे पानी से आपकी इम्युनिटी अर्थात प्रतिरक्षा प्रणाली भी मजबूत होती है। इम्युनिटी के मज़बूत होने से शरीर में वाइट ब्लड सेल्स बढ़ती हैं जो कई प्रकार की बिमारियों से लड़ने में मदद करती हैं।
हमारे शरीर में दो तरह का फैट होता है, पहला वाइट फैट जो शरीर के लिए बुरा होता है और दूसरा होता है ब्राउन फैट जो शरीर के लिए अच्छा होता है। वाइट फैट वह फैट है जिसे हम अपने भोजन में खाते हैं, यह हमारे शरीर के कई हिस्सों में जमा हो जाता है। विशषज्ञों के मुताबिक जब हम बहुत ज्यादा ठंडे पानी से नहाते हैं तो हमारी कैलोरी बर्न होने लगती है और हम वजन कम कर पाते हैं।
स्किन एक्सपर्ट्स बताते हैं कि ठंडे पानी से नहाने पर बालों के साथ-साथ त्वचा भी चमकदार बनती है। अगर आप मुहांसों से परेशान हैं तो ठंडे पानी से नहाएं। इससे अपकी त्वचा रूखी और बेजान होने से बचेगी। ठंडा पानी आपकी त्वचा को चमकदार बनता है।
सुबह को ठंडे पानी से नहाने से आलस तो दूर होता ही है, आप पूरे दिन तरो-ताजा भी महसूस करते हैं। एक शोध में ये बात सामने आई है कि ठंडे पानी से नहाने से मूड फ्रेश रहता है। दरअसल जब आप ठंडे पानी से नहाते हैं, तो हल्का सा शॉक जैसा लगा है जिससे आपकी सांसे तेज़ चलने लगती है और दिल की धड़कन भी थोड़ी बढ़ जाती हैं। इससे आपके शरीर कार रक्त प्रवाह बढ़ जाता है और आप तरोताज़ा महसूस करने लगते हैं।
  नियमित रूप से ठंडे पानी से नहाने से क्रोनिक दर्द भी कम होता है। नियमित रूप से ठंडे पानी से स्नान करने से शरीर की सूजन और दर्द भी धीर-धीरे जाते रहते हैं।
  ठंडे पानी में नहाने की एक खास बात यह है कि इससे आपको डिप्रेशन से राहत मिलती है। कहा जाता है कि व्यायाम के बाद ठंडे पानी के साथ नहाने से पूरा दिन ताज़गी महसूस होती है। गर्मी के मौसम में कोल्‍ड शॉवर का नाम सुनते ही सबके चेहरे पर सुकून आ जाता है। यदि आप गर्मियों में रात को सोने से पहले स्नान करते है तो यकीन मानिये आपको बहुत अच्छी नींद आने वाली है और आपकी दिनभर की थकान उड़नछू हो जायेगी।

फटी एड़ियाँ फिर से भरने के कुछ खास उपाय

                                         
जैसे-जैसे सर्दी का मौसम अपने शबाब पर पहुंचता है, पैरों की खूबसूरती को बनाए रखना मुश्किल होता जाता है। पैरों की चमड़ी का सख्त हो जाना और एड़ियों का फटना जैसी समस्याएं इस मौसम में आम तौर पर उभरकर सामने आती हैं। इससे बचने के लिए कुछ बातों का ख्याल रखना आवश्यक है।
क्या है एड़ियां फटने की मुख्य वजह -
एड़ियां फटने की मुख्य वजह शरीर में कैल्शियम और चिकनाई की कमी होती है। एड़ी व तलवों की त्वचा मोटी होती है, इसलिए शरीर के अंदर बनने वाला सीबम यानी कुदरती तेल पैर के तलवों की बाहरी सतह तक नहीं पहुंच पाता। फिर पौष्टिक तत्व व चिकनाई न मिल पानेकी वजह से ही एड़ियां खुरदरी-सी हो जाती हैं और इनमें दरार पड़ने लगती है।
एड़िया ज्यादा फटने से दर्द और जलन तो होती ही है, कभी-कभी खून भी निकल आता है।
अक्सर अनियमित खानपान, विटामिन ई की कमी, कैल्शियम व आयरन की पर्याप्त मात्रा न मिल पाने के कारण एड़ियां फट जाती हैं|

ठंड में फटी एड़ियों से छुटकारा पाने के नुस्खे-
* डेढ़ चम्मच वैसलीन में एक छोटा चम्मच बोरिक पावडर डालकर अच्छी तरह मिला लें और इसे फटी एड़ियों पर अच्छी तरह से लगा लें, कुछ ही दिनों में फटी एड़ियां फिर से भरने लगेंगी।
* अगर एड़ियां ज्यादा फटी हुई हों तो मैथिलेटिड स्पिरिट में रुई के फाहे को भिगोकर फटी एड़ियों पर रखें। ऐसा दिन में तीन-चार बार करें, इससे एड़ियां ठीक होने लगेंगी।
* गुनगुने पानी में थोड़ा शैंपू, एक चम्मच सोड़ा और कुछ बूंदें डेटॉल की डालकर मिला लें। इस पानी में पैरों को 10 मिनट तक भिगोकर रखें। त्वचा फूलने पर मैथिलेटिड स्पिरिट लगाकर एड़ियों को प्यूमिक स्टोन या झांवे से रगड़कर साफ कर लें। इससे एड़ियों की मृत त्वचा साफ हो जाएगी। फिर साफ तौलिए से पोंछकर गुनगुने जैतून या नारियल के तेल से मालिश करें।
*पेट्रोलियम जैली का प्रयोग इसका सबसे आसान तरीका है। इसके लिए डेढ़ चम्मच वैसलीन में एक छोटा चम्मच बोरिक पावडर डालकर अच्छी तरह मिला लें और इसे रात को सोते समय फटी एड़ियों पर अच्छी तरह से लगा लें, ताकि रातभर यह असर कर पाए। कुछ ही दिनों में फटी एड़ियां फिर से भरने लगेंगी।
* अमचूर का तेल, फटी एड़ियों के इलाज के लिए रामबाण औषधी है। यह गाढ़ा होता है जिसे पिघलाकर आप रात में एड़ियों पर लगाएं और सुबह धो लें। कुछ ही दिनों में एड़ियां बिल्कुल चिकनी हो जाएंगी।
*नारियल का तेल
रात को सोने से पहले एक बड़ा चम्मच नारियल तेल लेकर उसे फटी हुई एड़ियों पर लगाइए. चाहें तो इसे हल्का गर्म भी कर सकती है. इसकी मसाज से थकान भी कम होगी. उसके बाद जुराबें पहनकर सो जाएं. सुबह उठकर पैरों पानी से धो लें. करीब 10 दिन तक इस उपाय को लगातार करने से एड़ियां मुलायम हो जाएंगी.
*शहद
शहद एक बहुत अच्छा मॉइश्चराइजर है, जो पैरों को हाइड्रेट रखने के साथ ही उनका पोषण भी करता है. पानी में आधा कप शहद मिलाकर उसमें कुछ देर तक पैर को डुबोकर रखे रहें. लगभग 20 मिनट बाद पैरों को बाहर निकालकर मुलायम तौलिए से हल्के हाथों से पोछ लें. आपके पैर कोमल हो जाएंगे.
* ऑलिव ऑयल
ऑलिव ऑयल के इस्तेमाल से भी एड़ियां कोमल और मुलायम होती हैं. हथेली पर तेल की कुछ मात्रा लेकर हल्के हाथों से मसाज करें. इसके बाद पैरों को आधे घंटे के लिए वैसे ही छोड़ दें. इस प्रक्रिया को हफ्ते में एक बार जरूर करें.
*ग्लिसरीन और गुलाब जल
ज्यादा फटी एड़ियों के लिए यह बेहतरीन उपाय है. दोनों ही चीजें एड़ियों को नमी देकर कोमल बनाती हैं. तीन-चौथाई मात्रा में गुलाब जल और एक-चौथाई मात्रा में ग्लिसरीन लेकर मिश्रण बनाएं और कुछ देर तक एड़ियों पर लगा रहने दें और उसके बाद गुनगुने पानी से उसे साफ कर लें. कुछ दिनों तक ऐसा करने के बाद आपको फर्क दिखना शुरू हो जाएगा.

किडनी फेल रोग की जानकारी और उपचार 

नसों के ब्लाकेज का अनुपम उपचार





नसों की ब्लॉकेज का इलाज : नसों में दर्द बहुत परेशान करने वाली समस्या है। इसके चलते इंसान
चलने फिरने में भी तकलीफ महसूस करता है। इसके अलावा जब रक्त में अपशिष्ट पदार्थों की मात्रा
बढ़ जाती है तो इससे नसों में खून के स्राव में रुकावट आने लगती है। जिससे हार्ट अटैक और लकवा
का खतरा भी बढ़ जाता है।
अगर आप को भी एसी परेशानी है तो डॉक्टरी जांच जरुर करवानी चाहिए लेकिन इसके साथ-साथ आप
एक घरेलू उपाय अपनाकर नसों की ब्लॉकेज से छु़टकारा पा सकते है।
सामग्री
1 ग्राम दाल चीनी
10 ग्राम काली मिर्च साबुत
10 ग्राम तेज पत्ता
10 ग्राम मगज
10 ग्राम मिश्री
10 ग्राम अखरोट
10 ग्राम अलसी
विधि-
1. सबसे पहले इन सबको मिक्सी में बारीक पीस लें।
2. फिर इसकी 10 पुडियां बना लें।
3. इसे हर रोज सुबह खाली पेट खाएं और ध्यान रहें इसे खाने के बाद 1 घंटे तक कुछ न खाएं।