15.6.17

एस्प्रिन के फायदे नुकसान



    एस्पिरिन, जिसे एसिटाइलसैलिसाइलिक एसिड, भी कहते हैं, एक सैलिसिलेट औषधि है, जो अकसर हल्के दर्दों से छुटकारा पाने के लिये दर्द निवारक के रूप में, ज्वर कम करने के लिये, ज्वरशामक के रूप में, और शोथ-निरोधी दवा के रूप में प्रयोग में लाई जाती है। यह भी पाया गया है कि हृदयाघात के तुरंत बाद थोड़ी मात्रा में एस्पिरिन देकर एक और हृदयाघात या हृदय के ऊतक की मृत्यु का जोखम कम किया जा सकता है।
    यह गोली कैंसर से भी बचाव करती है, इसका पता अभी फिलहाल की रिसर्च में पता चला है। एस्पिरिन को 16 साल की कम उम्र के बच्‍चे नहीं खा सकते क्‍योंकि यह रेइज़ सिंड्रोम के जोखम का कारण बनती है। एस्पिरिन के, विशेषकर अधिक मात्रा में लेने पर, मुख्य अवांछित दुष्प्रभावों में आमाशय व आंतों में छाले, आमाशय में रक्तस्राव और कानों में आवाज आना शामिल हैं। आप इसे खाएंगे या नहीं यह आपको खुद ही सोचना पड़ेगा।  
एस्पिरिन को खाने के अच्‍छे और बुरे प्रभाव-
हार्ट अटैक दूर करे: 
हार्ट अटैक के रोगी को जब भी हार्ट अटैक का दौरा पड़ने लगता है, वह एस्पिरीन की एक गोली को मुंह में रख लेता है, जिससे दर्द गायब हो जाता है।
सिरदर्द भगाए: 
एस्पिरिन खाने से चाहे जितना भयानक दर्द हो वह गायब हो जाता है। इससे बेहतरीन और तुरंत प्रभाव डालने वाली दवा कोई नहीं है।
मुंहासे से मुक्‍ती: 
इस गोली में एक एसिड होता है जिसे अगर गोली को पीस कर मुंहसो पर लगाया जाए तो, वे सूख जाते हैं और जल्‍द ठीक हो जाते हैं।
बुखार के मामले में:
 अगर आपको बुखार और पूरे बदन में दर्द महसूस हो तो इसकी एक गोली खाने से आपको बेहतर लगेगा
लीवर डैमेज से बचाए: अच्‍छा प्रभाव चूहे पर रिसर्च की गई और पता चला कि एस्पिरिन की एक गोली उन्‍हें लीवर की खराबी से बचा सकती है। यह खासकर उन लोगों के लिये अच्‍छा है जो शराब पीते हैं।
रूसी मिटाए: 
 अपने शैंपू के साथ एस्‍पिरिन की 1 गोली को पीस कर मिलाइये और सिर धो लीजिये। इससे रूसी मिट जाएगी।
एस्परीन के दुष्प्रभाव-
 
अस्‍थमा के रोगियों के लिये हानिकारक:
 जिसे भी सांस का रोग हो, उसे एस्‍पिरिन नहीं लेनी चाहिये क्‍योंकि ये फेफड़ों में ऐठन पैदा कर देती है।
एलर्जी पैदा करती है: 
कुछ लोगों को कई चीजों से एलर्जी होती है। एस्‍पिरीन से भी कई लोगों को एलर्जी हो जाती है।
बच्‍चों के लिये ठीक नहीं :
जो बच्‍चे 16 साल की उम्र के नीचे हैं उन्‍हें यह नहीं खिलानी चाहिये। इसे देने से लीवर और दिमाग में सूजन पैदा हो सकती है, जो कि बहुत खतरनाक होती है।
आमाशय में रक्तस्राव :
खराब प्रभाव इसके लगातार सेवन से अंदरूनी ब्‍लीडिंग शुरु हो जाती है। क्‍योंकि यह खून को बहुत पतला कर देता है तो जिसे ब्‍लड क्‍लाटिंग की समस्‍या है उन्‍हें यह नहीं खाना चाहिये।



एक टिप्पणी भेजें