14.6.17

पेरासीटामोल टैबलेट का उपयोग और साइड इफेक्ट



सामान्यतः दर्द निवारक रूप में पेरासीटामोल दवा का उपयोग किया जाता हैजोकि सीमित रूप से दर्द को कम करने में सक्रिय भूमिका निभाता है। यह केलपोल,क्रोसीन नाम से भी जानी जाती है| यह मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी में प्रोस्टाग्लैंडीन के उत्पादन को कम करके काम करता है। चोट और कुछ बीमारियों के फलस्वरूप शरीर द्वारा प्रोस्टैग्लैंडिंस का उत्पादन होता है, जोकि तंत्रिका को संवेदित करता है, जिसके कारण दर्द का एहसास होता है। प्रोस्टाग्लैंडीन इन संवेदीकरण के उत्पादन को कम करता है और पेरासिटामोल बुखार को कम कर देता है जिससे मस्तिष्क के उस क्षेत्र को प्रभावित किया जा सकता है जो हमारे शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है।
यह एनलजेसिक और एन्टिपाईरेटिक ड्रग है। एनलजेसिक दर्द निवारक दवाओं के लिए उपयोग किया जाता है और एन्टिपाईरेटिक से संबंध उन दवाओं से है, जो बुखार के कारण शारीरिक तापमान को नियंत्रित करने में सहायता प्रदान करते है।
चिकित्सा संबंधी उपयोग
शरीर में होने वाले दर्द
कान दर्द
जुकाम-बुखार व फ्लू
जोड़ो का दर्द
मासिक चक्र के दौरान होने वाले दर्द
टीकाकरण के दौरान होने वाले बुखार व दर्द के निवारण हेतु इसका इस्तेमाल किया जाता है।
दांतो का दर्द,
सिरदर्द (माइग्रेन सहित)
 

प्रयोग विधि व मात्रा
कालपोल के सेवन के प्रयोग करने से पहले, अपने चिकित्सक से अवश्य इसका परामर्श प्राप्त करे व उनको अपनी वर्तमान दवाओं, अनिर्देशित उत्पादों (जैसे: विटामिन, हर्बल सप्लीमेंट आदि), एलर्जी, पहले से मौजूद बीमारियों और वर्तमान स्वास्थ्य स्थितियों (जैसे: गर्भावस्था, आगामी सर्जरी आदि) के बारे में जानकारी प्रदान करें। कुछ स्वास्थ्य सम्बन्धी परिस्थितियां के मौजूद होने के कारण आपको दवा के दुष्प्रभावों का प्रभाव का सामना न करना पड़े इसके लिए अपने चिकित्सक के निर्देशों के अनुसार दवा का सेवन करें या उत्पाद पर प्रिंट किये गए निर्देशों का पालन करें। प्रत्येक दवा की खुराक आपकी वर्तमान स्वास्थ्य स्थिति पर आधारित होती है। यदि आपकी स्थिति में कोई सुधार नहीं होता है या यदि आपकी हालत ज्यादा खराब हो जाती है तो अपने चिकित्सक को बताएं। जिससे आप उचित समय पर इलाज प्राप्त कर सकें व गंभीर परिणामों से बच सके।
व्यस्क इसका सेवन 500 MG-1 GM तक 4-6 घंटे के समय अंतराल पर कर सकते है।
बच्चों के वजन अनुसार उन्हें दवा की खुराक दी जाती है।
सेवन की गई दवा की एक से दूसरी खुराक के दौरान कम से कम 4 घंटे का अंतराल अवश्य होना चाहिए।
दुष्प्रभाव
पेरासिटामोल के अत्यधिक सेवन के दुष्परिणाम हो सकते हैं अत: इसका अत्यधिक सेवन अनेक गंभीर समस्याओ का कारण बन सकता है।
लिवर सम्बन्धी समस्या
मस्तिष्क सम्बन्धी विकार
त्वचा की समस्या जैसे त्वचा का लाल पड़ना
एलर्जी
श्वसन सम्बन्धी समस्या जैसे सांसो की कमी
सूजन विशेष रूप से चेहरे पर
मितली का होना
गुर्दे की समस्या
जो व्यक्ति मादक पदार्थों का सेवन करते है उन्हें विशेष रूप से इस बात की सावधानी रखनी चाहिए की इसकी अत्यधिक मात्रा उनके लिए गंभीर समस्या का कारण बन सकती है, ऐसे व्यक्तियों को 2 gm से अधिक सेवन से बचना चाहिए ।

     इस लेख के माध्यम से दी गयी जानकारी आपको अच्छी और लाभकारी लगी हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा । आपके एक शेयर से किसी जरूरतमंद तक सही जानकारी पहुँच सकती है और हमको भी आपके लिये और बेहतर लेख लिखने की प्रेरणा मिलती है|

एक टिप्पणी भेजें