10.2.17

टिंडे खाने के फायदे :Tinda vegetable Benefits

 
   गोल और हरे रंग सी दिखने वाली सब्जी टिंडा, जिसे बेबी पंपकिन और एप्पल गॉर्ड के नाम से भी जाना जाता है। यह साउथ एशिया में खासतौर पर इस्तेमाल किया जाता है। बहुत सारे लोगों को इसका स्वाद कुछ खास पसंद नहीं होता, इसलिए ये सब्जी कम ही उपयोग में आती है। लेकिन इसमें सेहत से जुड़े कई सारे फायदे छिपे होते हैं जिन्हें जानने के बाद इसे ज्यादातर लोग जरूर खाना पसंद करेंगे।समस्त भारत में पंजाब,उत्तर प्रदेश ,राजस्थान एवं महाराष्ट्र में सब्जी के रूप में इसकी खेती की जाती है | आयुर्वेदीय प्राचीन ग्रंथों में इसका उल्लेख प्राप्त नहीं होता | इसके फलों में प्रोटीन,वासा,खनिज द्रव्य तथा कार्बोहायड्रेट पाया जाता है | आईये जानते हैं टिंडे के कुछ औषधीय गुणों के बारे में -
* टिंडे का रस निकालकर मिश्री मिलाकर पीने से प्रदर तथा प्रमेह में लाभ होता है |
* टिंडे को पीसकर लगाने से आमवात में लाभ होता है |
*टिंडे के बीज तथा पत्तों को पीसकर सूजन पर लगाने से सूजन मिटती है |
* पके हुए टिंडे के बीजों को निकालकर मेवे के रूप में सेवन करने से यह पौष्टिक तथा बलकारक होता है |
* टिंडे के डण्ठल की सब्जी बनाकर खाने से कब्ज में लाभ होता है |
* टिंडे की सब्जी बनाकर सेवन करने से मूत्रदाह तथा मूत्राशय शोथ का शमन होता है |
*एंटी-एंजिंग के लिए-
टिंडे में केरोटिन की मात्रा होती है जो चेहरे पर दिखने वाले दाग-धब्बे और झुर्रियों को दूर रखती है। साथ ही स्किन इन्फेक्शन से भी बचाती है। उम्र बढ़ने के साथ चेहरे पर बारीक लाइनें बनने लगती हैं, जो असमय बुढ़ापे का कारण होती हैं। इन्हें दूर तो नहीं किया जा सकता, लेकिन कम जरूर किया जा सकता है।
* कैंसर से बचाता है-
टिंडे में 24 मिलीग्राम फॉस्फोरस, 0.4 मिलीग्राम थियामिन, 0.08 मिलीग्राम रिबोफ्लेविन की मात्रा होती है जो बॉडी को हेल्दी रखने के साथ ही उसे कई प्रकार के कैंसर से बचाती है। खासतौर पर महिलाओं को होने वाले ब्रेस्ट और प्रोटेस्ट कैंसर से
*पाचन सही रखता है-
टिंडे में मौजूद फाइबर की मात्रा पाचन क्रिया को सही रखने में बहुत मददगार होती है। इसकी सब्जी गैस, अपच, कब्ज जैसी समस्याओं को भी दूर रखती है। इसके सेवन से पेट की अंदरूनी सफाई भी होती है। गर्मियों में मसालेदार खाने के कारण होने वाली एसिडिटी, डायरिया और डिहाइड्रेशन की प्रॉब्लम को भी टिंडा दूर रखता है।
* मोटापा कम करे-
टिंडे में 94 प्रतिशत पानी की मात्रा होती है, जो मोटापा कम करने में सहायक होती है। तो ब्रेकफास्ट छोड़ने और ओवरइटिंग के कारण बढ़ने वाले मोटापे को रोकने के लिए, रोजाना सुबह इसका जूस पीकर वजन को काफी हद तक कंट्रोल किया जा सकता है।
*दिल की बीमारी से रखे दूर-
टिंडे के प्रति 100 ग्राम में 21 कैलोरी होती है। हार्ट हेल्थ के लिए बैलेंस डाइट का होना सबसे ज्यादा जरूरी है। क्योंकि प्रोटीन, विटामिन, कार्बोहाइड्रेट किसी की भी ज्यादा मात्रा दिल की बीमारियों का कारण बन सकती है।
*हाई ब्लड प्रेशर के लिए-
हाई ब्लड प्रेशर वाले रोगियों को टिंडे के रस का सेवन करना चाहिए। यह उनके लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। इसमें ऐसे बहुत सारे तत्व मौजूद होते हैं जो कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करते हैं जिससे ब्लड प्रेशर नॉर्मल रहता है।
* सूजन से राहत-
जोड़ों की समस्या होने पर सुबह-सुबह उनमें सूजन आना आम बात होती है। यहां तक कि चोट आदि के कारण भी शरीर पर नीले निशान पड़ जाते हैं और उनमें सूजन आ जाती है। तो इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए टिंडे का ज्यादा-से-ज्यादा इस्तेमाल फायदेमंद रहेगा।

एक टिप्पणी भेजें