6.10.15

पेट के कीड़ों का सरल इलाज :Treatment of intestinal worms


१)  छोटे  बच्चों  के पेट के कीड़ों को निकालने के लिए सौंफ का तेल ५ मिली थोड़ी  सी शकर के साथ ३ से  ५ दिन  दें|

२| वयस्क लोगों के पेट के कीड़ों के लिए २० मिली सौंफ का तेल  कुछ शकर के साथ  ४-५ दिन तक दें| 

३)  सोते वक्त  २ चम्मच  अरंडी  का तेल  पिलायें|  सुबह की दस्त में तमाम कीड़े निकल जायेंगे| 

४)  तुलसी के पत्ते का रस  पेट के कीड़े ख़त्म करने का अच्छा उपाय है|  तुलसी के पत्तों  का रस २-३ मिली  ७ दिन तक देना चाहिए| 

५)  मामूली  गरम पानी के साथ  आधा चम्मच  हल्दी की फक्की  लेने से  पेट के कीड़े मर जाते है|  यह उपचार ७ दिन तक करना  उचित है|    

६) बच्चों को यदि पेट में कृमि-कीड़ों की शिकायत हो तो लहसुन की कच्ची कलियों का 20-30 बूंद रस एक गिलास दूध में मिलाकर देने से कृमि मर कर शौच के साथ बाहर  निकल आते हैं।

७) बेल के पके फलों के गूदे का रस या जूस तैयार करके पिलाने से पेट के कीड़े मर जाते हैं।  बेल के फलों के बजाए पत्तों का रस का सेवन किया जाए तो ज्यादा बेहतर परिणाम प्राप्त होते हैं।

८) पपीते के फलों की डंठल से निकलने वाले दूध 3 मिली दूध को बच्चों को रात सोते समय देने से पेट के कीड़े मर जाते है और शौच के साथ बाहर निकल आते हैं।

९) जीरा के कच्चे बीजों को दिन में 5 से 6 बार करीब 3 ग्राम की मात्रा चबाने से पेट के कीड़े मर जाते हैं। कच्चा जीरा पाचन  क्रिया  को दुरुस्त भी करता है और गर्म प्रकृति का होने की वजह से कीड़ों को मार देता है और कीड़े शौच के साथ बाहर निकल आते हैं

१०) तेजपान के पत्तियों में कृमिनाशक गुण पाए जाते हैं। सूखी पत्तियों का चूर्ण बनाकर प्रतिदिन रात में सोने से पहले 2 ग्राम गुनगुने पानी के साथ मिलाकर पिया जाए तो पेट के कृमि मर कर मल के साथ बाहर निकल आते हैं।
----------------


कोई टिप्पणी नहीं: