29.7.14

पौष्टिक तत्वों से भरपूर टमाटर



     पौष्टिक तत्वों से भरपूर  टमाटर हर मौसम में सेवनीय है|  इसमें सेव व संतरा  दोनों के गुण पाए जाते हैं| आप चाहे इसे सब्जी में डालें ,सलाद  के रूप में खाएं या किसी अन्य तरीके से सेवन करें  इसमें भरपूर मात्रा में केल्शियम,फास्फोरस व विटामिन सी पाए जाते हैं |इसमें कार्बोहाईड्रेट  की मात्रा बहुत कम होती है|इससे कई रोगों का निदान होता है| टमाटर इतने पौष्टिक होते हैं कि सुबह नाश्ते में सिर्फ दो टमाटर  सम्पूर्ण भोजन के बराबर होते हैं|

   केंसर रोधी- टमाटर प्राकृतिक तौर पर केंसर से लड़ने का काम करता है\  इसका नियमित सेवन तमाम तरह के केंसर से  बचाव  में मदद करता है| जैसे गर्भाशय का केंसर,मुख का केंसर,खाने की नली,गला पेट,कोलन,रेक्टल,प्रोस्टेट,ओवेरियन आदि के केंसर| टमाटर में पाया जाने वाला 'लायकोपिन'  तत्त्व  केंसर  विरोधी गुण युक्त होता है| टमाटर में मौजूद एंटीआक्सीडेंट उन फ्री रेडिकल्स  से लड़ने में मददगार होता है जो हमारी  कोशिकाओं को नष्ट  करते हैं\ 

   हड्डियों की मजबूती-  टमाटर के सेवन से हड्डियां मजबूत बनती हैं|  इसमें पाया जाने वाला विटामिन के  और केल्शियम हड्डियों की मजबूती  और रिपेयर  दोनों काम करता है| इसमें मौजूद लायकोपिन  से अस्थियों का घनत्व बढ़ता है| 

  ब्लड शूगर नियंत्रण में उपयोगी-   टमाटर में पाया जाने वाला क्रोमियम  ब्लड शूगर को नियंत्रित और नियमित रखने   सहायक है\ डायबीटीज और दिल के रोगों में भी टमाटर की अहम उपयोगिता है\  सुबह उठते ही बिना कुल्ला किये एक पका टमाटर  खाना  स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत अच्छा है\ 

   आँखों की रोशनी बढाता है- इसमें पाया जाने वाला विटामिन  'ऐ'  नेत्रों की ज्योति बढाने के अलावा रतौंधी रोग की रोकथाम करता है|  एक रिसर्च के  अनुसार टमाटर  के उपयोग से आँखों में होने वाले गंभीर रोग  मेक्युलर  डिजनरेशन  की  रिस्क काफी कम हो जाती है\ 

     दमा रोग में सेवनीय -
श्वास रोगियों को नियमित रूप से टमाटर खाना चाहिए|  इससे श्वास नली की सूजन और संक्रमण कम हो जाता है |  प्राकृतिक चिकित्सकों का मत है कि  टमाटर  खाने से फेफड़ों का अति संकुचन दूर होता है और खांसी तथा  बलगम  से भी राहत मिल जाती है|




    वजन घटाने में सहायक- जो लोग अपना

वजन घटाना चाहते हैं उनके लिए टमाटर  बेहद लाभप्रद है\  टमाटर में बहुत कम केलोरी होती है|





झुर्रिया कम करता है-  टमाटर के गूदे में नींबू का रस मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरे की चमक बढ़ती है  और झुर्रिया मिटती  हैं|  टमाटर और शहद के मिश्रण वाला फेस पेक  भी बहुत उपयोगी है| 

----------------------------------------------------------------------------

21.7.14

स्वास्थ्य सुरक्षा के अहम सूत्र

स्वास्थ्य  सुरक्षा के सूत्र 

  'पहला सुख निरोगी काया' की उक्ति  को चरितार्थ  करते  हुए  हम निम्नांकित नियमों  का जहां तक हो सके ठीक से पालन करें| जीवन को इनके अनुरूप  चलाने का प्रयास करें|  इन सूत्रों के मुताबिक़ आचरण करने से स्वास्थय की सुरक्षा होगी औए तन- मन स्वस्थ रहेंगे| 
१) सुबह सूर्योदय से पहिले उठें|  पूरे शरीर से अंगडाई  लें| 

२) ईश वंदन के बाद तांबे के पात्र में रखा पानी पीएं | पानी की मात्रा कम से कम आधा लीटर | 

३)    नीम की दंतून से या सरसों के तेल में नमक मिलाकर  दन्त मंजन करें| मैं पतंजलि  के दन्त कांति  टूथ पेस्ट  का उपयोग करता हूँ| 

४) हर बार खाने के बाद मुख प्रक्षालन अवश्य करें| 

५) अब  ताजी हवा में
प्रात; कालीन  भ्रमण पर निकल जाएँ| ३० से ४५ मिनिट का घूमना ठीक है| 

६) आधा  घंटा  आसान और प्राणायाम करें| 

७) स्नान करते समय शरीर की सूखी मालिश करें और पैरों के तलवे रगडें| 

८) शेम्पू,साबुन के बजाय केशों को मुल्तानी या काली मिट्टी लगाकर धोएं| 

९) सौंदर्य प्रसाधनों में  हल्दी,नींबू,बेसन,दूध,दही का इस्तेमाल करें| 

१०)   नाश्ते में  फल,जूस,
अंकुरित अनाज,एवं सलाद का  ही सेवन करें|

११) भोजन करते वक्त टी वी  न देखें| मौन रहकर भोजन करना उचित है| 

१२) भोजन में सूप और
सलाद का भरपूर उपयोग करें| 

१३) भोजन भर पेट नहीं करें पेट कुछ खाली रखना चाहिए| 

१४) भोजन धीरे-धीरे,खूब चबाकर  शान्ति और प्रसन्नता से करें| 

१५) भोजन करने के बाद थौड़ा गरम पानी पीएं| 

१६) रात को हल्का खाना लें|  सोने से ३ घंटे पहिले रात का खाना लें\ 

१७ ) अंग्रेजी दवाईया जहां तक हो सके  प्रयोग करने से बचें| 

१८) सप्ताह में एक दिन सिर्फ
फलाहार करें| 

१९) गुटखा  ड्रग्स,बीडी,सिगरेट ,तम्बाखू  और मांसाहार से परहेज करें| 

२०)  जुकाम,सर्दी,खांसी ,बुखार में गर्म पानी पीएं| 

२१) २४ घंटे में कम से कम १० गिलास पानी पीएं\ 

२२) पीने के लिए फ्रीज के पानी का सीधे उपयोग न करें\ 

२३) भोजन आधा पेट करें,पानी चौथाई पेट पीएं  बाकी हिस्सा पेट खाली रखें| 

२४) रात को दस बजे तक सो जाना चाहिए|  ज्यादा रात जागना हानि कारक है| 

२५) चोकर युक्त आटे का प्रयोग करें\ 

२६) फास्ट फ़ूड,शकर,मैदा,चाय,काफी ,कोल्ड ड्रिक्स का उपयोग कम से कम करें| 
---------------------------------------------------








18.7.14

ईलाज के घरेलू नुस्खे


     

                                                                                                          

                                                                                                


               सर्दी जुकाम के उपचार




१)  सर्दी जुकाम के निवारण के लिये नींबू का प्रयोग हितकारी रहता है।  इससे शरीर की रोग प्रतिरोधक ताकत में इजाफ़ा होता है। एक गिलास मामूली गरम पानी में  एक नींबू का रस निचोडकर  और उसमें एक चम्मच शहद  मिलाकर  दिन में दो बार पीना चाहिये।









२)   5 ग्राम काली मिर्च का पावडर दूध में उबालें इसमें आधा चम्मच हल्दी भी डाल दें। दिन में दो बार कुछ दिन पीने से लाभ होता है।






३)  ३ चम्मच प्याज का रस में ३ चम्मच शहद भली प्रकार से मिलाकर पी जाएं । २-३ रोज में काफ़ी फ़र्क नजर आएगा।










खांसी  के घरेलू  उपचार--





१)  ७ नग बादाम लें । रात भर पानी में  रखें। सुबह छिलकर  सिलबट्टे  पर  पेस्ट जैसा बनाएं। इसमें ४ चम्मच शकर और ४ चम्मच  मक्खन मिलाकर पेस्ट बनाएं। दिन में दो बार   लेना है। खांसी निवारण का स्वादिष्ट उपचार है।




२)  अंगूर खांसी चिकित्सा में बेहद हितकारी उपचार है। ३०० ग्राम अंगूर का रस बनाएं । इसमें  थौडा सा शहद मिलाकर  पी जाएं।












3)  गले में खराश या सूखी खांसी  होने पर अदरक के पेस्ट में गुड और देशी  घी मिलाकर खाएं|  आराम लग जाएगा|





४) तुलसी के साथ शहद  हर दो घंटे में खाएं| कफ वाली खांसी में हितकर है|


मुहं  और शरीर की बदबू -


१) सांस की बदबू दूर करने के लिये रोजाना तुलसी के पत्ते चबाएं|



२) नहाते से २० मिनिट पहिले शरीर पर बेसन और दही का पेस्ट लगाएं| इससे त्वचा साफ़ हो जाती है और बंद रोम छिद्र  खुल जाते हैं|



३) गाजर का जूस रोज पीने से तन की दुर्गन्ध दूर हो जाती है|



४) पान के पत्ते और आंवला बराबर मात्रा में पीसकर  पेस्ट बनाकर नहाने से 10  मिनिट  पहिले यह पेस्ट लगाएं| तन की दुर्गन्ध में हितकारी है|



५) इलायची  और लोंग चूसने से मुख की दुर्गन्ध मिटती है|




दमा (अस्थमा) के उपचार--


१)  एक चम्मच शहद में आधा चम्मच दालचीनी का पावडर अच्छी तरह मिलाकर चाट लें।










२)  अधिक गरम पानी में २ चम्मच शहद मिलाकर   थौडा थौडा  पीते हुए उपयोग करें। रात को सोते वक्त यह उपचार लेने से श्वास रोग में जबर्दस्त फ़ायदा होता है।







३)   लहसुन की 5 कुली बारीक काटकर एक गिलास दूध में उबालें कि आधा रह जाए। सोते वक्त उपयोग की सलाह दी जाती है|











कान दर्द के उपचार--

१)  कान के दर्द में लहसुन का रस उपकारी सिद्ध हुआ है। दर्द वाले कान मे ४-५ बूदें टपकाएं। लहसुन में एंटीबायोटिक तत्व पाये जाते हैं जो कर्ण पीडा में हितकारी होते हैं।





२)  कान दर्द के रोगी को दूध और दूध से निर्मित वस्तुओं से परहेज करना चाहिये।



3)   इस रोग में विटामिन सी  और जिन्क का  उपयोग लाभदायक रहता है।


4)  कर्ण पीडा मे पुल्टिस का प्रयोग करें।  ७ लहसुन की कुली  बारीक काटें और पानी में उबालें फ़िर मसलकर ऊनी वस्त्र में  रखकर  पीडित कान पर रखें|


कमर दर्द  के   घरेलू उपचार--




१)   नींबू कमर दर्द में अति उपयोगी साबित हुआ है।   एक नींबू का रस निचोडें । इसमें थौडा सा काला नमक  मिलाकर पी  जाएं।  ऐसा दिन में दो बार करें । कटि पीडा में बडी राहत मिलेगी।











२)  लहसुन का तेल कमर दर्द में उपयोगी है। सरसों के तेल में दस कुली लहसुन की डालकर आंच पर रखें ।धीमी आंच पर जब लहसुन भूरे रंग की हो जाए तब आंच से उतारकर ठंडा होने दें\ इस तेल की मालिश पीडित भाग पर करें और २ घंटे तक तेल लगा रहने दें। चंद रोज में जादुई असर देखने को मिलेगा।








३)  कच्चे  आलू की पुल्टिस बनाकर प्रभावित भाग पर लगाने से कमर दर्द में आशातीत लाभ होता है।









४)  मैं घरेलू चिकित्सा में विटामिन सी के प्रयोग को महत्व देता आया हूं। कमर दर्द में भी इसकी महती उपयोगिता है। ५०० एम जी की चार गोलियां नित्य प्रयोग करें। खट्टे फ़लों में विटामिन सी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है।



ज्वर में उपयोगी घरेलू उपचार--



१_ अंगूर समस्त प्रकार के ज्वरों में उपयोगी है। आधा गिलास अंगूर का रस एक गिलास पानी के साथ दिन में ३ बार पीना कर्तव्य है। इससे बुखार रोगी की प्यास भी शांत होती है।














२) संतरा ज्वर रोगी के लिये अमृत समान है।  इससे पेशाब खुलकर होता है। संतरा रोगी को तुरंत शक्ति देता है। संतरे के उपयोग से रोग प्रतिरोधक शक्ति उन्नत होती है। संतरा ज्वर रोगी के

 पाचन तन्त्र को सुधारता है।

बाल गिरने की घरेलू चिकित्सा

१)  आंवला का तेल  बाल झडने में  उपयोगी है। ऊंगली से बालों की ज्डों  में मालिश करें।इससे बालों की चमक भी बढती है।



२) नारियल का दूध सिर पर मालिश करने से  बालों को पोषण मिलता है।



३_ प्याज को दो फ़ाड में काट लें। इसे गंज वाली जगहों पर रगडें कि स्थान कुछ लाल हो जाए। २-३ माह मे गंज वाली जगह पर नये बाल आते दिखेंगे।

4)  बालों का झडना  पित्त दोष की समस्या  मानी जाती है\ तनाव,मांस,चीनी और फास्ट फ़ूड के अधिक व्यवहार से  यह समस्या बढ़ जाती है\ शराब,सिगरेट,काफी,अंग्रेजी दवाएं ,चाय,का अधिक मात्रा में प्रयोग करने से  दोषों का संतुलन बिगड जाता है\  अत;  पित्त बढाने वाली चीजों से परहेज करना जरूरी है\  इसके अलावा ज्यादा मात्रा में पानी पियें  ताकि आपके शरीर  से विजातीय पदार्थ  निकल जाएँ|

खून में अधिक  कोलेस्टरोल  के उपचार

१)  एक गिलास जल में २० ग्राम सूखा धनिया उबालें ।ठंडा होने पर छानलें। ऐसा मिश्रण दिअ में दो बार पीयें। कोलेस्टरोल कम करने का  अनुभूत उपचार है।



२) सूरजमुखी  के बीज कोलेस्टरोल घटाने  में उपयोगी पाये गये हैं। इनमें लिनोलिक एसीड होता है जो धमनियों की दीवारों पर जमे हुए कोलेस्टरोल को हटाने का काम करता हैं। भोजन पकाने में सूरज मुखी का तेल उपयोग करें।




भोजन में रेशे वाली चीजें ज्यादा लें।  पत्तेदार सब्जियों में भरपूर फ़ायबर होता है जो खून में कोलेस्टरोल की मात्रा कम करता है।


अम्ल पित्त (एसीडीटी) के उपचार



१)  मट्ठा (छाछ) एसीडीटी निवारण  में उपयोगी है। एक गिलास मट्ठे में  चौथाई चम्मच  काली मिर्च का पावडर मिलाकर दिन में तीन बार पीना प्रयोजनीय है।




       २)   जीरा अम्ल पित्त में लाभदायक है। एक चम्मच जीरा तवे पर भुनलं । इसको दरदरा पीसलें । इसे एक गिलास जल के साथ गटक लें।







३)  गुड अम्ल पित्त निवारण में  मह्तवपूर्ण भूमिका निर्वाह कर सकता है।  गुड की डली मुहं में  घुलने दें।  भोजन के बाद  यह प्रयोग करें।


हिचकी  निवारक उपाय-



  हिचकी हमारे शरीर की  वेगास  नाड़ी   से संबंधित रोग है| |यह नाड़ी मस्तिष्क से  पेट के अंगों तक जाती है| इस नाड़ी में आक्षेप आने से हिचकी  की उत्पत्ति मानी गयी है| |  हिचकी निवारण के सरल लेकिन पूरी तरह कारगर उपाय नीचे लिख देता हूँ-


 १-  हिचकी रोगी की जीभ पर  एक  चम्मच शकर  रखकर   चूसने से हिचकी कुछ समय में बन्द हो जाती है|



२- रोगी अपने दोनों कानों में अपने दोनों अंगूठे से डाट लगाकर  हाथ की  छोटी अंगुलियां  से नाक पर दवाब  डालें ताकि श्वास  आना जाना बन्द हो जाए फिर एक गिलास पानी  नली के द्वारा मुहं से  पीएं|  हिचकी बन्द करने का बेहद सफल उपाय है|




 ३- लंबी सांस  लेने से भी  हिचकी निवारण होता है|  तरीका इस प्रकार है--दोनों हाथों के अंगूठे और छोटी ऊँगली  के सिरे मिलाएं | अब सांस भरते हुए दोनों हाथ धीरे धीरे  ऊपर उठाएं ,पूरा श्वास भरने के बाद हाथों को आहिस्ता  आहिस्ता नीचे लाते हुए श्वास बाहर छोड़ें|| १० बार करें| यह उपाय ऐसा है कि कठिन से कठिन हिचकी  भी काबू में आ जाती है|

सूखी खांसी और नाक की एलर्जी 

सूखी खांसी- किसी भी मौसम में हो सकती है। इसका घरेलू उपचार इस प्रकार है-नुस्खा : गाय के दूध से बना घी 15-20 ग्राम और काली मिर्च लेकर एक कटोरी में रखकर आग पर गर्म करें। जब काली मिर्च कड़कड़ाने लगे और ऊपर आ जाए तब उतार कर थोड़ा ठंडा कर के 20 ग्राम पिसी मिश्री मिला दें। थोड़ा गर्म रहे तभी काली मिर्च चबाकर खा लें। इसके एक घंटे बाद तक कुछ खाएं-पिएं नहीं। इसे एक-दो दिन तक लेते रहें, खांसी ठीक हो जाएगी।


     एलर्जी-

धूल मिट्टी से नाक में एलर्जी हो जाती है। निम्नलिखित नुस्खे आजमाएं - सोंठ, काली मिर्च, छोटी पीकर और मिश्री सभी द्रव्यों का चूर्ण 10-10 ग्राम, बीज निकाला हुआ मुनक्का 50 ग्राम, गोदंती हरताल भस्म 10 ग्राम तथा तुलसी के दस पत्ते सभी को मिलाकर खूब घोंटकर पीस लें और 3-3 रत्ती की गोलियाँ बनाकर छाया में सुखा लें। 2 गोली सुबह व 2 गोली शाम को गर्म पानी के साथ तीन माह तक सेवन करें। ठंडे पदार्थ, बर्फ, दही, ठंडे पेय से परहेज करें। नाक की एलर्जी दूर हो जाएगी।   


 बवासीर 



10 से 12 ग्राम धुले हुए काले तिल ताजा मक्खन के साथ लेने से भी बवासीर में खून आना बंद हो जाता है। जमीकंद का देसी घी में मसाला रहित भुरता बनाकर खाएं। शीघ्र लाभ होगा।


 गर्भावस्था में जी घबराना :



गर्भ धारण करने के दो-तीन महीने तक गर्भवती महिला को उल्टियां आती है। ऐसे में धनिया का काढ़ा बना कर एक कप काढ़े में एक चम्मच पिसी मिश्री मिला कर पीने से जी घबराना बंद होता है। 


उल्टी बंद करे-

  *तुलसी के पत्ते के रस में बराबर की मात्रा में शहद मिलाकर चाटने से  उल्टी होना बंद हो जाता है| 


*दो चम्मच  शहद  में इतना ही प्याज का रस मिलाकर चाटने से उल्टी में लाभ होता है| 


बच्चों  को सर्दी ,बुखार हो जाय तब-



**दो तीन तुलसी  के पत्ते और  एक छोटा सा टुकड़ा  अदरक का  लेकर सिलबट्टे  पर पीसकर  रस निकालें| इस रस में एक चम्मच शहद  मिलाकर देने से सर्दी ,बुखार में लाभ होता है| 

**लोंग को पानी की बूंदे छिडक कर पीसकर पेस्ट  बनाकर इसे माथे पर और नाभि पर  लगाने से  सर्दी,बुखार में हितकर प्रभाव होता है| 

**पाव  भर पानी में चार-पांच तुलसी के पत्ते  और एक टुकड़ा अदरक पीसा हुआ डालकर उबालें और जब पानी आधा रह जाये  तब उसमें एक चम्मच गुड डालकर उबालें ,दिन में दो बार दें, जरूर आराम लगेगा| 

बार-बार मूत्र आये तब-


*सुबह शाम गुड और तिल से बना  लडडू खाना चाहिए| 

*शाम के समय काले भुने हुए चने छिलका सहित खाएं और ऊपर से एक  टुकड़ा गुड का खाकर पानी पी लें| 

पेट में वायु (गैस) की अधिकता-उसकी नाभि के चारों 


*ऐसी समस्या से छुटकारा  पाने के लिए  भोजन के बाद ३-४ इलायची दाने चबाने और ऊपर से नींबू पानी पीने से  पेट हल्का होता है| 

*अजवाइन और काला नमक  समान मात्रा में  मिलाकर गरम पानी के साथ लेने से पेट का अफारा ठीक हो जाता है| 

*एक चम्मच पिसा हुआ दरक और एक चम्मच नींबू  का रस  ठीक खाने के बाद ले लें तो गैस की समस्या नहीं होगी| अधिक ठंडा, कच्चा,बासी भोजन और फलियाँ गैस बनाती हैं|  इनसे बचें| 

नाभि के अपने स्थान से खिसक जाने पर 


    मरीज को सीधा लिटा दें ,उसकी नाभि के चारों ओर सूखे आंवले के  महीन चूर्ण  में अदरक का रस मिलाकर  बाँध दें  और मरीज २ घंटे तक सीधा ही लेटे रहे|  मेरा अनुभव है कि दो बार ऐसा करने  से नाभि अपने मुकाम पर आ जायेगी और दर्द ,दस्त जी घबराना  जैसे कष्ट दूर हो जायेंगे|

       मंत्र-तंत्र में आस्था रखने वाले  लोग मंत्र चिकित्सा  से  लाभान्वित होते हैं|   वायु गोला  बेहद गंभीर रोग है|  पेट में वायु की अधिकता से यह रोग होता है| मेरी जानकारी में एक मन्त्र  आया है जो वायु गोला  में चमत्कार  जैसा असर प्रदर्शित करता है|  वह मंत्र मैं पाठकों  की सेवा में  प्रस्तुत करता हूँ-

मंत्र

कौन पुरवाई कहाँ चले।

वन ही चले।

वागहे के कोयला।

कोयला का करवेह।

सारी पत्र खंड कर वहु।

अस्टोत्तर दांत व्याधि काटे।

सिर रावण का दश।

भुजा रावण की बीस।

ककुही वार वटी।

धायु गोल बाँधूँ।

बाँधूँ में गुल्म।

दुहाई महादेव गौर पार्वती नीलकंठ  की।

लोना चमारिन की दुहाई।

फुरे मंत्र खुदाई।


विधि: सूर्योदयसे पहले २१ माला जप कर मंत्रसिद्ध कर लो बुधवारको।  फिर जब भी आवश्यकताहो तो पीड़ित को इस मंत्र से झाड़ा लगा दो। पीड़ितएकदम ठीक हो जायेगा।  


किडनी में पथरी हो तब- 

*  तीन  भिन्डी लें| पतली  लंबी काट लें| अब एक कांच या प्लास्टिक  की बोतल में दो लीटर  पानी भरकर  कटी भिन्डी उसमें डाल दें और रात भर रखें ,सुबह  उसी पानी में  निचोडकर  भिन्डी बाहर निकाल  लें|  अब दो घंटे के अंदर -अंदर   यह तरल  मरीज पी ले| एक सप्ताह के प्रयोग से पथरी  से मुक्ति मिल जायेगी| जबरदस्त उपचार है| 

निम्न रक्त चाप-


*एक कप चुकंदर का जूस दिन में दो बार पियें|  लो ब्लड प्रेशर का बेहद हितकारी उपचार है| 

*तुलसी के १०-१५ पत्तों का पीसकर रस निकाल लें  इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर चाट लें|  करने योग्य उपचार है| 


हल्दी मिले दूध से रोगोपचार-


1)  दर्द से आराम हल्दी वाले दूध के सेवन से गठिया से लेकर कान दर्द जैसी कई समस्याओं में आराम मिलता है. इससे शरीर का रक्त संचार बढ़ जाता है जिससे दर्द में तेजी से आराम होता है|

2)  खून और लिवर की सफाई आयुर्वेद में हल्दी वाले दूध का इस्तेमाल शोधन क्रिया में किया जाता है। यह खून से टॉक्सिन्स दूर करता है और लिवर को साफ करता है. पेट से जुड़ी समस्याओं में आराम के लिए इसका सेवन फायदेमंद है|

3)  पीरियड्स में आराम हल्दी वाले दूध के सेवन से पीरियड्स में पड़ने वाले क्रैंप्स से बचाव होता है और यह मांसपेशियों के दर्द से छुटकारा दिलाता है|

4)  मजबूत हड्डियां दूध में कैल्शियम अच्छी मात्रा में होता है और हल्दी में एंटीऑक्सीडेट्स भरपूर होते हैं|

5)  रात को सोते समय देशी गाय के गर्म दूध में एक चम्मच देशी गाय का घी और चुटकी भर हल्दी डालें . चम्मच से खूब मिलाकर कर खड़े खड़े पियें. - इससे त्रिदोष शांत होते है|

6)  संधिवात यानी अर्थ्राईटिस में बहुत लाभकारी है. - किसी भी प्रकार के ज्वर की स्थिति में , सर्दी खांसी में लाभकारी है|

7) हल्दी एंटी माइक्रोबियल है इसलिए इसे गर्म दूध के साथ लेने से दमा, ब्रोंकाइटिस, फेफड़ों में कफ और साइनस जैसी समस्याओं में आराम होता है. यह बैक्टीरियल और वायरल संक्रमणों से लड़ने में मदद करती है|
8)  वजन घटाने में फायदेमंद गर्म दूध के साथ हल्दी के सेवन से शरीर में जमा चर्बी घटती है. इसमें मौजूद कैल्शियम और मिनिरल्स सेहतमंद तरीके से वजन घटाने में सहायक हैं।

9) अच्छी नींद के लिए हल्दी में अमीनो एसिड है इसलिए दूध के साथ इसके सेवन के बाद नींद गहरी आती है.अनिद्रा की दिक्कत हो तो सोने से आधे घंटे पहले गर्म दूध के साथ हल्दी का सेवन करें|

14.7.14

बच्चों और बूढों को ब्राह्मी और शंख पुष्पी का शरबत दें.Brahmi and Shankpushpi punch to give children and old.

e




शंख पुष्पी और ब्राह्मी आयुर्वेद में ऐसी दो जड़ी बूटिया हैं जो मस्तिष्क बहुत ताकतवर  बनाती है| इन दोनों जड़ी बूटियों में ऐसे तत्त्व  मौजूद  हैं  जो मस्तिष्क के अंदर  तक अपना असर डालते हैं| यही कारण है कि ये जड़ी बूटियाँ  न केवल स्मरण शक्ति  बढाती हैं  बल्कि व्यक्ति को मानसिक रूप से बलवान भी बनाती हैं| न केवल भारत अपितु सारे विश्व में इनके ऊपर अनुसंधान कार्य चल रहे हैं \ऐसा माना जा रहा है कि ये जड़ी-बूटियाँ अल्जाईमर्स,डिमेंशिया, और पार्किन्सन  जैसी बीमारियों को ठीक करने  में उपयोगी होंगी| यह इसलिए कि इनमें दिमाग को ठीक करने की ताकत है| भारत में मेधा शक्ति बढाने के लिए इन जड़ी बूटियाँ का प्राचीन काल से उपयोग होता आया है| इससे नींद अच्छी  आती है| मस्तिष्क में ताजगी लाती है| मस्तिष्क का तनाव कम करती हैं|


ये दोनों जड़ी - बूटियाँ खोई हुई स्मरण शक्ति वापस  लौटाने  की ताकत रखती हैं| ब्राह्मी और शंख पुष्पी का सेवन भी बहुत आसान है|

     बच्चों की मेमोरी  पावर बढाने के लिए  सोते वक्त एक गिलास गरम दूध में एक चम्मच ब्राह्मी  का चूर्ण  मिलाकर लेना कर्त्तव्य है|  कुछ ही महीनों में इसका असर दिखने लगेगा| ऐसे लोग जिन्हें अनिद्रा रोग है| नींद कम लेने से शरीर में कई तरह के विकार पैदा हो जाते हैं|  ऐसी स्थिति से निपटने के लिए रोज रात को सोते वक्त गरम दूध में एक चम्मच ब्राह्मी का चूर्ण मिलाकर  पीया जाए तो बहुत लाभ होगा \ इसे और अधिक स्वादिष्ट और गुणकारी बनाने के लिए  रात को ७ नग बादाम के गला दें |सुबह ब्राह्मी या शंख पुष्पी के दूध में मिले  मिश्रण को छानकर  उसमें बादाम और ५ नाग काली मिर्च पीसकर मिला दें  इसमें मिश्री भी अंदाजन मिला दें|  दवा तैयार है |  यह एक खुराक है | >यह स्मरण शक्ति बढाने का बेहतरीन  नुस्खा है\  कुछ दिन तक नियमित लेते रहें|

     ब्राह्मी और शंख पुष्पी मिर्गी रोग में काफी लाभ दायक साबित होती है| ये जड़ी बूटियाँ  मस्तिष्क में विद्युत  प्रस्फुरण को कम करती है| इससे मिर्गी के दौरों की आवृती  कम हो जाती है और बीमार को शान्ति मिलती है| 

मधुमेह से कैसे बचाएं नाड़ी मंडल को ?

डायबीटीज से ऐसे बचाएं  नर्व्स सिस्टम  को -

खान पान के परिवर्तित तरीके के अलावा व्यायाम रहित और तनाव से भरी जिंदगी की वजह से कई सारी बीमारियों को आम तौर पर देखा जा रहा है |अब ब्लड प्रेशर और डायबीटीज जैसी समस्याएँ सिर्फ बूढ़े लोगों तक सीमित नहीं रह गयी हैं, बल्कि कम उम्र के लोग भी इन बीमारियों के शिकार होने लगे हैं| ऐसे में सही इलाज के अलावा अपनी लाईफ स्टाईल में परिवर्तन कर रोगी सामान्य जिंदगी व्यतीत कर सकता है|
*मधुमेह के मामले में अक्सर शरीर के कई अंगों को नुकसान पहुँचने के साथ ही शरीर में अन्य कई तरह की तकलीफें भी हो सकती हैं| मधुमेह नाड़ी मंडल को भी नुकसान पहुंचा सकता है| अत; नर्व्स सिस्टम को मधुमेह के दुश्प्रभाओं से बचाने के लिए रोगी को निम्न उपाय करने की सलाह दी जाती है-
*सर्व प्रथम अपने ग्लूकोज लेविल को जितना हो सके नार्मल रखने का प्रयास करते रहें\ डायबीटीज के बारे में अधिक चिंता करने के बजाय जितनी सहजता से आप अपनी रूटीन के साथ बेलेंस करके चलेंगे उतना ही सामान्य जीवन आप जी पायेंगे| इसलिए अपने खान-पान और एक्सरसाईज आदि के साथ नियमित रूटीन को बेलेंस करें|
*यदि आपको लेटकर या सो कर उठने के बाद बैठने या खड़े होने में दिक्कत पेश आती हो या आपको यह समझ में नहीं आता हो कि आपका ग्लूकोज लेविल कब बहुत कम हो जाता है ,तो नियमित अंतराल पर शूगर की जांच करवाते रहने का नियम बनाएँ|
*अपने पैरों का पर्याप्त ध्यान रखें| साफ़ सफाई के अलावा पैरों को चोंट न लगे इस बात का ख्याल रखना जरूरी है| यदि आपको हाथ ,पैरों,बाहों या पेट से जुडी कोइ समस्या बनी रहती हो तो अपने चिकित्सक को बताएं| पेशाब करने औए शौच में कोइ समस्या हो तो भी चिकित्सक जरूर बताएं|
इन सारी बातों का ध्यान रखकर आप डायबीटीज से अपने नाड़ी मंडल को होने वाले नुक्सान से बच सकते हैं|





डायबिटीज़  उपचार का विडियो -

9.7.14

ज्यादा कोलेस्ट्रोल वाली महिलाओं को स्तन केंसर का खतरा अधिक.

स्तन केंसर और कोलेस्ट्रोल 



      अभी तक मना जाता था कि  ज्यादा कोलेस्ट्रोल ह्रदय की बीमारियों को जन्म देता है| लेकि एक ताजा  अनुसंधान में यह पता चला है कि  जिन महिलाओं में कोलेस्ट्रोल की मात्रा ज्यादा होटी है उनमें स्तन  केंसर का खतरा  अधिक रहता है|  करीब दस लाख महिलाओं  का परीक्षण करने पर ज्ञात हुआ कि  अधिक कोलेस्ट्रोल वाली महिलाओं को सामान्य महिलाओं की तुलना में १.६४ गुना  ज्यादा स्तन केंसर का खतरा होता है|
  यह भी पता चला है कि हर ५ में से चार महिलाओं  को यह  शिकायत रजो निवृति  के बाद के सालों में होती है|  कुछ समय पूर्व किये गए एक सर्वे में  रजो निवृति के बाद होने वाले मोटापे और  स्तन केंसर के बीच सम्बन्ध बताया गया था\ रक्त में वसा की मात्रा अधिक होने और स्तन केंसर के बीच  तारतम्य बताया गया है|  उल्लेखनीय है कि ब्रिटेन में  हर साल  ५० हजार महिलाएं स्तन केंसर की चपेट  में आ जाती हैं\|

-------------------------------------------------------------------------------------- 

4.7.14

खरबूजे खाकर फिट रहिये.

खरबूजे  खाने के लाभ 



  खरबूजा देखने में जहां आकर्षक  है वहीं यह अपने में कई गुण समेटे रहता है|  इसमें पानी की भरपूर  मात्रा होती है| इसका सेवन शरीर को शीतलता प्रदान करता है| और जलन  जैसी समस्या से निजात मिलती है|




           किडनी को हेल्थी रखने के लिये खरबूजे का नियमित सेवन करना जरूरी है| आजकल हर कोई स्वास्थ्य के प्रति जागरूक रहना चाहता है| ऐसे में खरबूजा बेहतर विकल्प है\ खरबूजे  में शुगर और केलरी नहीं के बराबर होती है| इसलिए यह डाईटिंग कर रहे लोगों के लिये आदर्श है|

      खरबूजे में एंटी ऑक्सीडेंट्स   प्रचुर मात्रा में  होते हैं| अत; यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढाता है|खरबूजे को विटामिन सी का अच्छा स्रोत माना गया है\ इसमें मौजूद बीटा केरोटिन  ह्रदय को स्वस्थ रखता है| यह केंसर से भी लड़ने में मदद करता प्रतीत  होता है|

     गर्मी के दिनों में अपच और उल्टी  जैसी समस्याएँ आये दिनों परेशान करती हैं खरबूजा इन समस्याओं से निजात दिलाता है| वजन घटाना हो तो प्रतिदिन खरबूजा खाएं|  शकर बिलकुल न मिलाएं| इसमें मौजूद रेशा  काफी समय तक पेट भरा भरा  महसूस कराता है| कोलेस्ट्रोल तो इसमें होता ही नहीं है| अत; दिल के लिये उत्तम है\ 

   कब्ज की शिकायत जिन्हें रहती है उन्हें खरबूजा खाकर कब्ज मिटानी चाहिए| बी पी के मरीज के लिये खरबूजा  लाभदायक है| इसमें मौजूद पोटेशियम शरीर के सोडियम को बाहर निकालकर  उच्च रक्त चाप को नियंत्रित करने में मदद  करता है\

       पिरीयड्स के दौरान महिलाओं को होने वाली समस्याओं से  लडने में खरबूजा मददगार साबित होता है|  खरबूजा  थकान दूर कर अच्छी नींद  के लिये भी सेवन किया जाता है| 

---------------------------------------------------------------