6.11.10

सूखी खांसी (ड्राय कफ़) की कुदरती पदार्थों से चिकित्सा.


सूखी और गीली खांसी निवारक सरल उपचार
                                                                                            -डा.दयाराम आलोक
                                                                                               9926524852
                                                                               
                                                                                                                                                           


Protected by Copyscape DMCA Copyright Detector

श्वसन पथ में एकत्र विजातीय तत्वों को बाहर निकालने के लिये खांसी शरीर की नैसर्गिक प्रक्रिया है। खांसी दो प्रकार की होती है।
(१) गीली या उत्पादक खांसी जिसमें खांसी होने पर कफ़ या श्लेष्मा निकलती है।
 (२) सूखी या खोखली खांसी जिसमें कफ़ नहीं निकलता है।

    खांसी का प्राकृतिक पदार्थों से इलाज करना निरापद और शीघ्र प्रभावकारी है। रसायनिक फ़ार्मुलों से इलाज के कई साईड इफ़ेक्ट सामने आते हैं।  सैंकडो वर्षों से लाभप्रद साबित हो रहे खांसी के निरापद उपचार नीचे दिये जा रहे हैं--



(१)  अदरक का रस  ५ मिलि निकालकर १० ग्राम शहद  में मिलाएं।  दिन में चार बार लेने से खांसी में लाभ होता है।










२)  काली मिर्च और शकर बराबर मात्रा में पीस लें। अब गाय के शुद्ध घी में इस पावडर को मिलाकर गोलियां बनालें।  दिन में तीन बार गोली चूसें । खांसी की अच्छी दवा है।










३)  सूखी खांसी निवारण के लिये २ ग्राम हल्दी पावडर में एक चम्मच शहद मिलाकर चाट लें । दिन में दो बार सेवन करना हितकारी रहता है।








४)  नींबू का रस ५० मिलि,  शहद २०० ग्राम , अदरक रस २० ग्राम मिलाएं । इसमें ५० मिलि गरम पानी मिश्रित करें । खांसी का की दवा तैयार है।  शीशी में भर लें। २-२ चम्मच  दिन में ३-४ बार कुछ दिन  लेने से खांसी ठीक हो जाती है।






५)  अंगूर में फ़ेफ़डे को शक्ति देने के गुण है। इससे इम्यून सिस्टम(सुरक्षा तंत्र) मजबूत होता है। एक गिलास अंगूर का रस कुछ दिन सेवन करना फ़ायदेमंद है। आर्थिक असुविधा न हो तो इसे लंबे समय तक जारी रख सकते हैं।






६)  काली मिर्च १० नग, शहद के साथ पीस लें। दिन में तीन बार यह नुस्खा बनाकर चाट लेने से सूखी खांसी में आशानुरुप लाभ होता है।


७)  ग्लीसरीन ३० मिलि,नींबू का रस ३० मिलि,शहद ३० मिलि सबको मिलालें । दवा तैयार है। ५ से १० मिलि दवा दिन में ३ बार लेने से खांसी रोग शीघ्र  ही नियंत्रण में आ जाता है।











८) काली मिर्च को शकर के साथ चबाकर खाने से सूखी खांसी में राहत मिलती है।

९)  लहसून खांसी में बेहद लाभप्रद है। ३-४ लहसून की कली चाकू से बारीक काटकर १०० मिलि दूध में उबालकर रात को सोते वक्त लेने से खांसी में लाभ होता है।








१०)  १०-१५ ग्राम गुड को सरसों के तेल मे अच्छी तरह घोटकर  दिन में दो-तीन बार चाटने से खांसी काबू में आ जाती है।




११)  पालक का रस २०० मिलि गाजर का रस ३०० मिलि मिलाकर सुबह के वक्त लेते रहने से खांसी में स्थायी लाभ होता है।












१२)  २-३ ग्राम हल्दी का पावडर ५० मिलि दूध में उबालकर लेने से खांसी ठीक होती है।दिन में दो बार लेना उत्तम है।












१३) आम को भोभर में भून लें। इस प्रकार भुना हुआ आम दिन में तीन बार खाने से सूखी  खांसी का निवारण होता है।











१४)  खारक में फ़ेफ़डे को शक्ति देने के गुण हैं। रात को सोते वक्त ५ नग खारक दूध में उबालकर लेना आशातीत गुणकारी है।




१५)  ताजा अदरक का एक टुकडा चाकू से काट लें उस पर नमक बुरकें और मुहं मे चूसें। बहुत लाभकारी उपाय है।







----------------------------------------------------------------------------------



6 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत काम की जानकारी दे रहे हैं आप।

मनोज कुमार ने कहा…

मान्यवर आप अपने इस ब्लॉग की चर्चा कृपया इस लिंक पर देखें।
http://chitthacharcha.blogspot.com/

arun ने कहा…

सूखी खांसी का इलाज कुदरती पदार्थों से करना हानिरहित और कम खर्चीला है। बहुत लाभदायक जानकारी दी गई है।

dilip rathore shamgarh ने कहा…

I have found this article very useful to cure dry cough with simple home remedies thanx!

अनिल पाटीदार ने कहा…

डा.साब के बताये नुस्खे अत्यंत उपयोगी साबित हो रहे हैं।अब इतनी जानकारी हो गई है कि मिलने वाले भी सलाह लेने आने लगे हैं।बडा पुण्य का काम है।शुभकामनाएं।

छायादेवी पंवार ने कहा…

मैने लेख के क्छ नुस्खों का स्वयं उपयोग कर लाभ प्राप्त किया है।डा.साब का आभार.